राजस्थान की गहलोत सरकार ने शुक्रवार से शुरू हुए विधानसभा सत्र के पहले दिन ध्वनिमत से विश्वासमत हासिल कर लिया। इसके बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विपक्षी भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि पूरे राज्य में खुशी की लहर है और यह राजस्थान की जनता की जीत है। गोहलत ने कहा, जिस तरह बीजेपी ने मध्य प्रदेश, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, गोवा, मणिपुर और अरूणाचल प्रदेश में साजिश की थी वहीं फार्मूला उसने राजस्थान में लगाया था। लेकिन उसकी पूरी साजिश सामने आ गई।

राजस्थान के मुख्यमंत्री ने आगे कहा, पूरे राज्य में खुशी की लहर है। राजस्थान में बीजेपी की साजिश विफल हो गई है। मैं इसे राजस्थान की जनता की जीत मानता हूं। अब कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई के लिए एक साथ मिलकर काम करेंगे।

इससे पहले, विश्वासम हासिल करने के बाद फौरन मीडिया से बात करते हुए राज्य के पूर्व उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट कहा कि अब वह सरकार का हिस्सा नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार की तरफ से विधानसभा में लाए गए विश्वमत को बहुत अच्छे बहुमत के साथ पास कर लिया गया। उन्होंने कहा कि विपक्ष की तरफ से कई प्रयासों के बावजूद परिणाम हमारी सरकार के पक्ष में रहा।

पायलट ने आगे कहा कि इसके बाद उन सभी शकों पर ब्रेक लग गया है जो इससे पहले उठाए जा रहे थे। उन्होंने कहा कि जिन चीजों को उठाया गया था उन सभी मुद्दों का रोडमैप तैयार कर लिया गया है। पायलट ने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि उस रोडमैप का समय से ऐलान कर दिया जाएगा।

राजस्थान विधानसभा सत्र के बाद सचिन पायलट- पहले मैं सरकार का हिस्सा था आज नहीं हूं लेकिन यहां पर कौन कहां बैठता है ये महत्वपूर्ण नहीं है लोगों के दिल और दिमाग में क्या है ये ज्यादा महत्वपूर्ण है…जीवन की आखिरी सांस तक मैं इस प्रदेश के लिए समर्पित हूं। उन्होंने कहा- आज सदन के अंदर विश्वास मत को बहुमत से पारित किया गया जो अटकलें लगाई जा रही थीं उन्हें विराम मिला है।