2018 में विधानसभा चुनाव के बाद से ही दोनों के बीच तनाव झलकता रहता था। लेकिन इस बार SoG के एक नोटिस ने पायलट को इतना खफा कर दिया कि उन्होंने कांग्रेस छोड़ने का मन बना लिया है।

राजस्थान में जारी सियासी उथलपुथल के बीच महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता संजय निरुपम ने पार्टी से सचिन पायलट को मनाने की अपील की है।

निरुपम ने कहा कि एक के जाने से पार्टी खत्म नहीं होगी, लेकिन सब चले गए तो पार्टी में कौन बचेगा। उन्होंने कहा कि बेहतर यही होगा कि पार्टी सचिन पायलट को समझाए और रोके।

संजय निरुपम ने ट्वीट किया, ”बेहतर होगा, पार्टी सचिन पायलट को समझाए और रोके। शायद पार्टी में कुछ लोग यह सोच रहे हैं कि उसे जाना है तो जाए, हम नहीं रोकेंगे। यह सोच आज के संदर्भ में गलत है। माना कि किसी एक के जाने से पार्टी खत्म नहीं होती। लेकिन एक-एक कर सभी चले गए तो पार्टी में बचेगा कौन?”

बता दें कि राजस्थान में जारी सियासी संकट के बीच थोड़ी देर में जयपुर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आवास पर कांग्रेस विधायक दल की बैठक होनी है।

कांग्रेस विधायकों का सीएम आवास पर पहुंचना शुरू भी हो गया है। इसके लिए कांग्रेस ने व्हिप जारी की थी। माना जा रहा है कि जो विधायक इस बैठक में नहीं पहुंचेंगे उन्हें पार्टी से निकाला जा सकता है।

अभी तक कि जानकारी के मुताबिक राजस्थान के डिप्टी सीएम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट इस बैठक में शामिल नहीं होंगे।

राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच सियासी तनाव किसी से छुपा नहीं है।

2018 में विधानसभा चुनाव के बाद से ही दोनों के बीच तनाव झलकता रहता था। लेकिन इस बार SoG के एक नोटिस ने पायलट को इतना खफा कर दिया कि उन्होंने कांग्रेस छोड़ने का मन बना लिया है।

पायलट कांग्रेस का दामन छोड़ बीजेपी में जा सकते हैं। उन्होंने अपने साथ कांग्रेस के 30 विधायकों के साथ होने का दावा किया है।