भोपाल : मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में एक किन्नर को सरकारी नौकरी मिल गई। संजना सिंह नाम कि यह महिला पहली ट्रांसजेंडर है, जिसे मध्य प्रदेश में सरकारी नौकरी मिली है।

संजना ने कहा कि इससे आने वाले दिनों में ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों के लिए और बहुत से अवसर मिलेंगे। संजना को मध्य प्रदेश में सरकारी विभाग में निजी सचिव के पद पर नौकरी मिली है।

नौकरी पाने के बाद संजना ने कहा, ‘शायद हमारे समुदाय के लोग मुख्यधारा में आने के लिए कोई सार्थक प्रयास नहीं करते हैं। मुझे लगता है कि मेरी सफलता के बाद समाज में बदलाव आएगा।’

आरक्षण के सवाल पर जवाब देते हुए संजना ने कहा कि अन्य समुदाय को अगर आरक्षण मिल सकता है तो हमें क्यों नहीं?

इसके साथ ही संजना ने कहा कि यह मेरे लिए बहुत ही अच्छा मंच कि मैं साबित करूं कि अगर मेरे समुदाय को मौका मिले तो वो क्या कर सकता है।

बता दें कि ट्रांसजेंडर संजना की मध्य प्रदेश के सामाजिक न्याय और विकलांग कल्याण विभाग में महानिदेशक के निजी सचिव के पद पर नियुक्ति मिली है।

गौरतलब है कि इस साल जनवरी में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्रांसजेंडर अप्सरा रेड्डी को महिला कांग्रेस का राष्ट्रीय महासचिव नियुक्त किया था।

अप्सरा महिला कांग्रेस के इस पद पर नियुक्त होने वाली पहली ट्रांसजेंडर हैं। वह पेशे से पत्रकार एंव समाजिक कार्यकता हैं।

अप्सरा इससे पहले एआईएडीएमके और भाजपा से जुड़ी थी और उन्होंने कहा था कि वह समाज की महिलाओं से मिलेंगी और उनके अधिकारों की लड़ाई लड़ेंगी। अप्सरा ने तमिलनाडु में बच्चों के साथ हुई रेप की घटनाओं को प्रमुखता से उठाया है।