उद्धव के शपथ समारोह में नहीं जा पाएंगे सोनिया और राहुल, पत्र लिखकर जताया खेद

नई दिल्ली : शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे पहली बार महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद की कमान संभालने जा रहे हैं। शिवसेना ने महाराष्ट्र में नई सरकार के गठन के लिए एनसीपी और कांग्रेस से अपना गठबंधन किया है और अगले कुछ ही पलों में वह मुंबई के शिवाजी पार्क मैदान में एक भव्य कार्यक्रम में शपथ लेंगे। उद्धव ठाकरे ने अपने इस शपथ कार्यक्रम के लिए कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी को शामिल होना का न्योता भेजा था। लेकिन दोनों ने नेताओं यहां मौजूद रहने पर अपनी असमर्थता जताई है। दोनों नेताओं ने पत्र के माध्यम से उद्धव ठाकरे को बधाई दी है और कार्यक्रम में मौजूद न हो पाने पर भी खेद भी जताया है।

बुधवार को उद्धव ठाकरे ने अपने बेटे आदित्य ठाकरे को खासतौर से सोनिया गांधी को इस कार्यक्रम का न्योता देने के लिए दिल्ली भेजा था। सोनिया गांधी ने उद्धव को पत्र लिखकर बधाई देते हुए लिखा, ‘शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस असाधारण परिस्थितियों में साथ आई है। ऐसे समय में जब देश बीजेपी के अप्रत्याशित खतरे में है। मुझे अफसोस है कि मैं शपथ ग्रहण में शामिल नहीं हो पाऊंगी।’

सोनिया गांधी ने अपने इस पत्र में लिखा, ‘कल आदित्य ने मुझसे मिलकर मुंबई में आयोजित होने वाले आपके शपथ समारोह में शामिल होने का निमंत्रण दिया था। मुझे खेद है कि मैं इस कार्यक्रम में उपस्थित नहीं पाऊंगी।’

उन्होंने आगे लिखा, ‘शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस असाधारण परिस्थितियों के चलते एक साथ आए हैं, जब देश को बीजेपी से अप्रत्याशित खतरा है। देश का राजनीतिक माहौल जहरीला हो गया है और अर्थव्यवस्था भी डामाडोल हो चुकी है। किसान गंभीर संकट का सामना कर रहे हैं। ऐसे में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस एक कॉमन मिनिमम प्रोग्राम पर राजी हुए हैं। मुझे पूरा विश्वास है कि तीनों पार्टियां मिलकर इस लक्ष्य को हासिल करेंगी।’

सोनिया के अलावा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और उसके स्टार नेता राहुल गांधी ने भी इस कार्यक्रम में उपस्थित न होने को लेकर उद्धव को पत्र लिखा है। राहुल गांधी ने भी उद्धव को पत्र के माध्यम से सीएम पद की शपथ लेने के लिए बधाई दी है।