उप्र विधानसभा के सदन में उठा AMU का मुद्दा, जताई बढ़ती जनसंख्या पर चिंता

लखनऊ: विधानसभा में सोमवार को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में महिलाओं पर लाठीचार्ज और आसंू गैस के गोले छोड़े जाने का मुद्दा कांग्रेस ने उठाते हुए सदन में चर्चा कराए जाने की मांग की। सरकार की तरफ से संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि एक ही विषय को बार-बार सदन में नहीं उठाना चाहिए। जिस पर सपा और कांग्रेस ने सदन से वाकआउट किया। साथ ही सदन में आवारा पशुआंे द्वारा फसलों को नुकसान पहंुचाए जाने का मामला भी गूंजा और सरकार के जवाब से असंतुष्ट कांग्रेस और सपा ने सदन से वाकआउट किया।

सदन की कार्यवाही सोमवार को जैसे ही शुरू हुई वैसे ही नेता प्रतिपक्ष रामगोविन्द चैधरी ने रविवार को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में हुई घटना का मामला उठाते हुए कहा कि महिलाओं पर लाठीचार्ज किया गया, उनपर आंसू गैस के गोले छोड़े गए। इस घटना में गोली चलने से एक व्यक्ति घायल हो गया, इसलिए इस घटना की तात्कालिकता को देखते हुए सदन की सारी कार्यवाही रोककर चर्चा कराए जाए।

सदन में ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने बताया कि सौर ऊर्जा नीति-2017 प्रदेश में लागू कर दी गयी है। नीति के अनुसार सिंचाई पंप पर दो से तीन हार्स पावर पर 45 प्रतिशत राज्य और तीस प्रतिशत केन्द्र का अनुदान है, लाभार्थी को केवल पच्चीस प्रतिशत ही देना है। ऊर्जा मं़त्री ने सपा के सदस्य संजय गर्ग तथा बसपा के उमाशंकर सिंह के एक सवाल का जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा कि सौर ऊर्जा से संयंत्र लगाने पर पन्द्रह हजार रूपया प्रति किलोवाट अनुदान दिया जाता है। जिसकी अधिकतम सीमा तीस हजार है। उन्होंनेे बताया कि ग्राम सभाओं नगर पंचायतों में सोलर स्ट्रीट लाइट लगवाने पर सात हजार एक सौ प्रति स्ट्रीट लाइट पर अनुदान है। उन्होंने कहा कि पहले किसान धान, गेंहू और सरसों बोते थे अब वे बिजली भी पैदा करेंगे। नई सौर ऊर्जा नीति से किसान अपनी ऊसर जमीन में बिजली का उत्पादन करेगा। और सरकार उससे तीन रूपए दस पैसे प्रति यूनिट बिजली खरीदेगी।

बसपा के सदस्य श्याम संुदर शर्मा के एक सवाल के जवाब में जलशक्ति मंत्री डा महेन्द्र सिंह ने बताया कि गंगा में 170 नाले गिरते है। और गंगा के सहायक नदियों में कुल 631 नाले गिरते है। जिनमें अधिकतर को नमामि गंगे योजना के अंतर्गत साफ किया जा चुका है। इसके अलावा नमामिं गंगे योजना के तहत 45 एसटीपी काम कर रहे हैं और 31 नगरीय क्षेत्र को ओडीएफ हो चुके हैं। सबसे ज्यादा गंदगी दिल्ली से आ रही है। जिसमें हमारा कोई नियन्त्रण नहीं हैं। इसके अलावा गंगा नदी पर 78 शमशान घाटों का निर्माण किया जा रहा है।

बहुजन समाज पार्टी की सदस्य सुषमा पटेल के एक सवाल के जवाब में पशुधन विकास मंत्री चै0 लक्ष्मी नारायण ने कहा कि 2019 में 9261 गोवंशों की मृत्यु गोआश्रय स्थलों में हुई थी। इस पर विपक्ष ने सवाल किया कि गायों का पोस्टमार्टम क्यों नहीं कराया गया। ऐसा लगाता ह,ै कि उन गायों की मौत भूख से हुई थी। इस पर चै. लक्ष्मीनारायण ने कहा कि गायों की मौत स्वाभाविक मौत थी और ऐसी मौतों पर पोस्टमार्टम नहीं कराया जाता है।

इसके अलावा विपक्षी सदस्यों संजय गर्ग, विजय मिश्र, राकेश सिंह बघेल, संजय प्रताप जायसवाल ने जब सरकार से जनसंख्या नियन्त्रण को लेकर सवाल किया तो स्वास्थ्य मंत्री जयप्रताप सिंह ने जवाब देते हुए बताया कि प्रदेश की बढ़ती हुई जनसंख्या देश व प्रदेश की गम्भीर समस्याओं में से एक है। प्रदेश की बढ़ती हुई जनसंख्या स्थिर किये जाने के उद्देश्य से प्रदेश में परिवार नियोजन कार्यक्रम 1950 के दशक से चलाया जा रहा है, जिसके तहत परिवार को सीमित रखने के लिए स्थाई एवं अस्थाई विधियाँ सेवा केन्द्रों पर निःशुल्क प्रदान की जाती हैं। परिवार नियोजन कार्यक्रम लक्ष्य मुक्त व पूर्णतः स्वैच्छिक कार्यक्रम है। उन्होंने बताया कि कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य सकल प्रजनन दर में कमी लाना है। इस समय प्रदेश की सकल प्रजनन दर एन0एफ0एच0एस0 4 वर्ष 2015-16 के अनुसार 2.7 है, जिसे वर्ष 2020 तक 2.1 के स्तर तक लाना है। जनसंख्या पर नियंत्रण के लिए सरकार द्वारा प्रदेश में परिवार नियोजन कार्यक्रम के अन्तर्गत निम्नवत् गतिविधियाँ संचालित की जा रही हैं। उन्होंने कहा कि प्रत्येक माह की 21 तारीख को पुरूष नसबन्दी (एन0एस0वी0) दिवस का आयोजन करने के अलावा तथा जनपदों में 21 नवम्बर से 04 दिसम्बर तक पुरूष नसबन्दी पखवाड़े का आयोजन किया जा रहा है।

बजट अभिभाषण पर चर्चा में हिस्सा लेते हुए नेता प्रतिपक्ष रामगोविन्द चैधरी ने कहा प्रदेश की भाजपा सरकार आंबेडकर के निर्मित संविधान में ही संविधान की धज्जियां उड़ा रही है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री और उनकी सरकार समाजवाद और राष्ट्रवाद की खाई खींच रही है। समाजवाद भारतीय संविधान का अभिन्न अंग है।  शून्य प्रहर में नेता प्रतिपक्ष रामगोविन्द चैधरी और कांग्रेस ने अलीगढ़ में सीएए के विरोध में हुई हिंसा की न्यायिक जांच कराए जाने की मांग की।   बजट अभिभाषण पर चर्चा  । अभिभाषण चर्चा में बसपा के असलम अली, सपा के इरफान सोलंकी, भाजपा के नीरज बोरा, अविनाश त्रिवेदी तथा चेतराम सहित अन्य सदस्यों ने चर्चा में हिस्सा लिया।
@शाश्वत तिवारी