रवि पुजारी : अंडरवर्ल्ड डॉन बनने पूरी कहानी

हत्या, ड्रग तस्करी और फिरौती जैसे अपराधों में संलिप्त रवि पुजारी को पहले भारत लाया गया। खतरनाक अंडरवर्ल्ड डॉन रवि पुजारी को दक्षिण अफ्रीका से गिरफ्तार कर लिया गया है। कर्नाटक पुलिस अधिकारी ने बताया कि गिरफ्तारी के बाद भगोड़े गैंगस्टर को सोमवार को भारत लाया गया।

कर्नाटक के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था), अमर कुमार पांडे ने बताया कि रवि पुजारी को कल मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जाएगा। हम उसकी न्यायिक हिरासत की मांग करेंगे। वह पूरी तरह से फिट है और जांच प्रक्रिया में सहयोग कर रहा है।

रवि पुजारी की अपराधिक कुंडली
रवि पुजारी सबसे पहले 2000 के शुरुआती दशक में सुर्खियों में आया था, जब उसने बॉलीवुड की प्रसिद्ध हस्तियों और बिल्डरों से वसूली करनी शुरू की थी। वह मुंबई के एक प्रतिष्ठित वकील की हत्या के प्रयास में भी संलिप्त था। पुजारी की पत्नी पद्मा और बच्चे भी भारत से भाग गए और उनमें से कुछ ने जाली दस्तावेजों से बुर्किना फासो का पासपोर्ट हासिल कर लिया।

* 1990: पुजारी मुंबई के अंधेरी में रहता था। खतरनाक अपराधियों के साथ गैंगस्टर छोटा राजन के करीब आया।
* 1995: बिल्डर प्रकाश कुकरेजा की चेंबूर में हत्या कर गैंग अचानक सुर्खियों में आ गया।
* 2000: बैंकॉक में छोटा राजन पर दाऊद इब्राहिम के गुर्गों के हमले के बाद उसने खुद का गैंग बनाया।
* 2003: नवी मुंबई में बिल्डर सुरेश वाधवा की हत्या की कोशिश की।
* 2005: कथित रूप से पुजारी के इशारे पर वकील मजीद मेनन का मर्डर।
* 2005: में पत्नी पद्मा की फर्जी पासपोर्ट केस में गिरफ्तारी।
* 52 वर्षीय रवि पुजारी का जन्म कर्नाटक में मेंगलुरु के माल्पे में हुआ।
* अंग्रेजी, हिंदी और कन्नड़ भाषाओं का जानकार।
* लगातार कक्षा में फेल होने के कारण स्कूल से बाहर।
* परिवार में पत्नी, दो बेटियां और एक बेटा। 28 साल के बेटे की हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में शादी हुई।

रवि पुजारी सुर्खियों कैसे आया
रवि पुजारी का जन्म कर्नाटक में मेंगलुरु के माल्पे में हुआ। अंग्रेजी, हिंदी और कन्नड़ भाषाओं का जानकार पुजारी लगातार क्लास में फेल होने के कारण स्कूल से बाहर ही रहा। उसके परिवार में पत्नी, 2 बेटियां और एक बेटा है। 28 साल के बेटे की हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में शादी हुई है। 1990 में पुजारी मुंबई के अंधेरी में रहता था और वहां वह अन्य खतरनाक अपराधियों के साथ गैंगस्टर छोटा राजन के करीब आया। जल्द ही विजय शेट्टी और संतोष शेट्टी के साथ पुजारी भी छोटा राजन के गैंग में शामिल हो गया। 1995 में बिल्डर प्रकाश कुकरेजा की चेंबूर में हत्या कर यह गैंग अचानक सुर्खियों में आ गया।

2000 में बैंकॉक में छोटा राजन पर दाऊद इब्राहिम के गुर्गों के हमले के बाद उसने खुद का गैंग बनाया। बाकी अपराधियों की तरह ही उसने दुबई से उगाही का धंधा शुरू किया। 2003 में नवी मुंबई में बिल्डर सुरेश वाधवा की हत्या की कोशिश की और 2005 कथित रूप से पुजारी के इशारे पर वकील मजीद मेनन का मर्डर की कोशिश।

कुछ साल पहले एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में रवि पुजारी ने खुद को ‘देशभक्त डॉन’ के रूप में पेश किया। उस इंटरव्यू में पुजारी ने कहा कि वह हर उस शख्स को खत्म कर देना चाहता है, जिसका लिंक दाऊद इब्राहिम, छोटा शकील और पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई से है।