यूपी: महिलाओं को नहीं मिल रहा इन्साफ, फाउंडेशन की महिला विंग नाराज़

लखनऊ/ यूपी के बलिया जिले में मनियर, नगर पंचायत में अधिशासी अधिकारी मणि मंजरी राय ने बीती सोमवार देर रात फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। जिस तरह से बहन मंजरी राय ने सुसाइट नोट में भी स्वयं को परेशान किए जाने की बात की है, उससे आपके सुशासन मे महिलाओं पर हो रहे अत्याचार को हम महिलाएँ पूर्णतः अक्षम होती दिखाई दे रही हैं।
इस तरह हो रहे महिलाओं पर अत्याचार से आपके द्वारा गठित सरकार के किए गए वादे और इरादे में असमानता दिखाई देने पर हम सभी महिलायें सड़को पर उतरने को विवश होंगी।

सवर्ण महासंघ फाउंडेशन की प्रदेश सचिव, उत्तर प्रदेश, कल्पना मिश्रा, आशा मिश्रा जिला संयोजक, वैशाली तिवारी तथा सन्तोष शर्मा द्वारा कालिदास मार्ग स्थित मुख्यमंत्री आवास पर जाकर लगातार महिलाओ पर हो रहे अत्याचार व अमानवीय कृत्य को लेकर सीएम को एक ज्ञापन का पत्र दिया है।
सवर्ण महासंघ फाउंडेशन की महिला विग की पदाधिकारियो द्वारा सीएम योगी को लिखे पत्र में हाल में प्रदेश के कई हिस्सों में घटित घटनाओ का भी साफ- साफ़ जिक्र किया गया है।

कड़ी कार्यवाही की मांग को लेकर – सवर्ण महासंघ फाउंडेशन की महिला विंग की कल्पना मिश्रा, आशा मिश्रा, वैशाली तिवारी व सन्तोष शर्मा ने यूपी में महिलाओ पर हो रहे अत्याचार व अमानवीय कृत्य को लेकर सीएम को लिखा पत्र।

सीएम को लिखे इस पत्र में प्रमुख तौर पर बलिया में अधिशासी अधिकारी मणि मंजरी राय की फांसी लगाकर आत्महत्या का मामले के साथ ही कुछ और अहम् घटनाएँ जैसे प्रयागराज के होलागढ, थाना क्षेत्र देवापुर मे पिता सहित उनकी 02 पुत्री और 01 पुत्र की नृशंस हत्या और किरण तिवारी पुत्री बाबूलाल तिवारी (निवासी ग्राम पूरे इटौरा छोटी, थाना संग्रामपुर, जनपद अमेठी ) को मुस्लिम समुदाय द्वारा अपहरण कर उसके घर वालों से जनरल पैसा उगाही करने पर थाने मे शिकायत किए जाने के बाद भी इस विषय को सज्ञान मे लेकर कोई कार्यवाही न किये जाने की बातों का जिक्र किया गया है।

पत्र में साफ लिखा है इन सभी घटनाओं में सख्त कार्यवाही न होने से योगी सरकार पर प्रश्नचिन्ह खड़ा हो रहा है।
फाउंडेशन की सक्रीय महिला पदाधिकारियो द्वारा सीएम योगी को दिए इस पत्र में महिला संबंधी घटित सभी घटनाओं को तुरंत सज्ञान में लेते हुए कड़ी कार्यवाही की मांग की गई है।
शाश्वत तिवारी