Home > India > सदन का सत्र समाप्त होने के बाद कैबिनेट में हो सकता हैं बदलाव

सदन का सत्र समाप्त होने के बाद कैबिनेट में हो सकता हैं बदलाव

नई दिल्ली : हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनावों के बाद उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में मिले प्रचंड बहुमत के बाद केंद्र सरकार की कैबिनेट में बदलाव किया जा सकता है। मिली जानकारी के अनुसार कैबिनेट में बदलाव 12 अप्रैल को सदन का सत्र समाप्त होने के बाद किया जा सकता है।

संभावना है कि कई बड़े और जरूरी पदों के खाली होने से और कुछ नए चेहरों को जोड़ने के लिए बदलाव किया जा सकता है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कैबिनेट में जब भी कोई बदलाव होगा, वो बड़ा होगा क्योंकि सरकार के 5 साल पूरे होने में 26 महीने ही बाकी हैं। संभावना है कि यह सरकार की आर्थिक प्रदर्शन के आधार पर यह फेरबदल किया जा सकता है, जो 2019 में पीएम मोदी के लिए 2017 की ऐतिहासिक जीत से ज्यादा महत्वपूर्ण है।

इसी मसले पर एक पार्टी नेता का कहना है कि राजनाथ सिंह, भारतीय जनता पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई के पुराने नेता है। अपने कद के चलते पार्टी के नए विधायकों में राजनाथ, जाति और अन्य मुद्दों पर विचार किए बिना स्वीकार्य होंगे। जो भी यूपी में तेजी से विकास ला सकेगा, वही मुख्यमंत्री बनेगा। किसी का सीएम के लिए चयन की एक मात्र कसौटी है, विकास।

बता दें रक्षा मंत्री रहे मनोहर पर्रिकर अब गोवा के मुख्यमंत्री हैं और मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार अरुण जेटली को मिला हुआ है। हालांकि 2014 में पार्टी को मिली जीत के बाद रक्षा मंत्रालय जेटली के पास ही था लेकिन पर्रिकर को गोवा से लाकर मंत्रालय सौंपा गया था। अटकलें हैं कि खराब स्वास्थ्य के कारण सुषमा स्वराज से विदेश मंत्रालय की जिम्मेदारी वापस ली जा सकती है। संभावना यह भी जताई जा रही है कि कैबिनेट के बदलाव में कुछ राज्य मंत्रियों की पदोन्नति हो सकती है।

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com