Home > E-Magazine > विवाह के पूर्व HIV टेस्ट अनिवार्य हो

विवाह के पूर्व HIV टेस्ट अनिवार्य हो

HIV AIDS in India‎

मानव की वास्तविक संपत्ति उसका स्वास्थ्य और विश्वास है। स्वस्थ्य व्यक्ति ही स्वस्थ्य मानसिकता के साथ एक स्वस्थ्य हर्षित विश्व के निर्माण में बहुमूल्य योगदान दे सकता है वही हमें रूढ़ीवादी परंपरा से आधुनिक नवप्रवर्तित युग की यात्रा कराता है इसका आधार होगा विश्वास। हमें नवीन वैवाहिक संबंधों को बनाने से पहले रूढ़ीवादी मूल्यों को त्याग कर विश्वास, सुरक्षा और नैतिक चरित्र को प्रथमिकता देना है जिससे दो व्यक्ति, परिवार और अग्रिम पीढ़ी सभी का भविष्य अच्छा हो, यही नही इस तरह का परीक्षण अनिवार्य होने से एक व्यक्तित्व कुषलता यह भी पता चलेगी कि आपका साथी कितना निर्भिक है।

एचआईवी  एड्स संक्रमण से पॉजिटिव व्यक्तियों की संख्या बढने के कारण इस गंभीर बीमारी और इसका इलाज उपलब्ध न होने के कारण यह बीमारी आज हमारेदेश और विदेश में गंभीर समस्या है, इसे हम समाप्त तो नही कर सकते इसे फैलने से रोकने के कुछ महत्वपूर्ण प्रयास हम कर सकते है और लोगों को इसके संक्रमण से बचा सकते है। इसी दिशा में हमारे संस्थान द्वारा छोटा सा प्रयास प्रारंभ किया जा रहा है। आप सभी का सहयोग हमारे इस प्रयास को सफल बना सकता है और समाज को एक भयावह खतरे से बचाया जा सकता हैं।

इसके लिए विवाह के पूर्व एचआईवी टेस्ट अनिवार्य हो ताकि एक जिंदगी को पहले से ही सुरक्षित किया जा सके। एचआईवी  टेस्ट करवाना पूर्णतः निःशुल्क है। हमें केवल अपनी ही नहीं अपनी आने वाली पीढ़ी, राष्ट्र और विष्व के बारे में भी सोचना है। यह परीक्षण हर और से लाभकारी है हमें यह समझना चाहिए की हमारी जरा सी लापरवाही या रूढ़ीवादिता हमें भविष्य के एचआईवी  एड्स से बचने के लिए किए जा रहे षासकीय और अषासकीय प्रयासों को सुदृढ़ बनाये जाने की आवष्यकता है इसी बात को ध्यान में रखते हुए संस्थान, शासन को विवाह पूर्व एचआईवी परीक्षण को अनिवार्य किए जाने की भी पैरवी करता हैं। यही सुझाव हम सरकार को लिखित में प्रदान करना चाहते है। इस सुझाव का महत्व शासन के लिए भी महत्वपूर्ण होगा जब इसे बहुत संख्या में जनसमर्थन प्राप्त हो। इस हेतु आप सभी का सहयोग अपेक्षित हैं।

आपसे अनुरोध हैं कि हमारे इस प्रयास में सम्मिलित होकर हमारी सोच को समर्थन प्रदान करें । जब हम दहेज और पत्रिका मिलान जैसी रूढ़ियो पर समय व्यर्थ में गंवा सकते है तो इस परीक्षण को करवाने में क्यों समय का सदुपयोग न करे? इससे तो विष्वास की नयी बुनियाद बनेगी ही साथ ही साथ यदि हम सच्चे है तो किस बात से डरे, क्यों डरे? और हमारे इस प्रयास से न जाने कितने ही और प्रेरित होगे।

इस प्रकार इसके प्रचार-प्रसार से न जाने कितने लोगो का परीक्षण भी होगा और झूठ बोलने वाले और विष्वासघातियों का पर्दाफाष होगा, यह होगा हमारे एक कदम से और जहां तक इसे अनिवार्य करने की बात है इससे मिलने वाले लाभों की चर्चा के बाद देष का हर सच्चा नागरिक इसे विधिपूर्वक लागू करने का प्रयास करेगा।

आपके द्वारा दिया गया समर्थन समाज को एक भयानक खतरे से बचा सकता
कु. निकिता नागोरी
Director NWSSS NGO
दीनदयाल पुरम आनंद नगर खण्डवा (म.प्र.)
ईमेल-bZesy&[email protected]

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com