Home > India > अग्नि-5 सफल परीक्षण,मोदी ने वैज्ञानिकों को दी बधाई

अग्नि-5 सफल परीक्षण,मोदी ने वैज्ञानिकों को दी बधाई

Agni-Vभुवनेश्वर – भारत ने शनिवार को कनस्तर आधारित अपने पहले सबसे अधिक शक्तिशाली व परमाणु क्षमता संपन्न मिसाइल अग्नि-5 का ओडिशा में सैन्य अड्डे से सफलतापूर्वक परीक्षण किया। यह 5,000 किलोमीटर तक के लक्ष्य को भेदने की क्षमता रखता है।

मिसाइल चीन और पाकिस्तान के अंदरूनी हिस्से तक लक्ष्य भेद सकता है। इसका परीक्षण भुवनेश्वर से करीब 200 किलोमीटर दूर भद्रक जिले में स्थित प्रक्षेपण स्थल इनर व्हीलर द्वीप से किया गया।

परीक्षण ऎसे दिन हुआ जब मिसाइल विकास में मुख्य भूमिका निभाने वाले अविनाश चंदर ने रक्षा शोध एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के प्रमुख के पद से त्याग पत्र दे दिया। उन्होंने कार्यकाल पूरा करने के 15 महीने पहले ही इस्तीफा दे दिया।

परीक्षण स्थल के निदेशक एम.वी.के.वी.प्रसाद ने बताया, यह सर्वाधिक लंबी दूरी की मारक क्षमता वाले मिसाइल का कनस्तर आधारित संस्करण है। इसका कनस्तर से पहली बार परीक्षण किया गया है। परीक्षण पूरी तरह सफल रहा है।

यह अग्नि-5 का तीसरा, जबकि कनस्तर के सहारे किया गया पहला परीक्षण है। इससे सेना को परीक्षण स्थल के चुनाव की सुविधा मिल पाएगी। मिसाइल की लंबाई 17 मीटर और चौड़ाई दो मीटर है। इसे सड़क एवं रेल मार्ग से ले जाया जा सकता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को परमाणु क्षमता संपन्न अग्नि-5 मिसाइल के पहले कनस्तर आधारित परीक्षण पर वैज्ञानिकों को बधाई दी है। मिसाइल 5,000 किलोमीटर तक के लक्ष्य को भेद सकती है।

प्रधानमंत्री मोदी ने एक बयान में कहा, एक कनस्तर से अग्नि-5 मिसाइल का सफल परीक्षण इसे सेना के लिए बहुमूल्य संपत्ति बनाता है। मैं अपने वैज्ञानिकों को उनके प्रयास के लिए सलाम करता हूं।

मिसाइल चीन के अंदरूनी हिस्सों में स्थित लक्ष्य को भेद सकती है। इसका परीक्षण ओडिशा के भद्रक जिले में इनर व्हीलर द्वीप से किया गया।

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com