30.1 C
Indore
Friday, July 1, 2022

कोविड थर्ड वेव जागरूकता पर आलोक रंजन ने “SELF” के प्रयासों की सराहना की

लखनऊ(शाश्वत तिवारी) :हम सभी जानते हैं कि COVID की दूसरी लहर ने हमें बहुत बुरी तरह प्रभावित किया है, हम अभी भी इससे उबरने की कोशिश कर रहे हैं। अब थर्ड वेव का डर है, डेल्टा प्लस स्ट्रेन हमारी कल्पना से भी तेज गति से पकड़ रहा है।

SELF, लघु उद्योग निर्माण संघ की महिला विंग का गठन महिलाओं को गतिशील कारोबारी माहौल में सुविधा प्रदान करने और इसके ज्ञान केंद्र और दूरदर्शी के माध्यम से सहायता प्रदान करने के लिए किया गया था।

समाज में जागरूकता फैलाने के लिए SELF – सीमा एंटरप्रेन्योरियल लेडीज फोरम (स्माल इंडस्ट्रीज एंड मनुफक्चरर्स एसोसिएशन संघ) की महिला विंग ने कोविड थ्री वेव जागरूकता पर एक व्यावहारिक सत्र की व्यवस्था करने की पहल की। इस सत्र के स्रोत व्यत्क्त, डॉo राम उपाध्याय थे, जो प्रमुख वैज्ञानिक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ), लक्षाई लाइफ साइंसेज हैं और प्लाज़्मा बायोसाइंस रिसर्च सेंटर (पीबीआरसी) / एप्लाइड मेडिसिन रिसर्च सेंटर, क्वांगवून विश्वविद्यालय में विजिटिंग प्रोफेसर हैं I

सत्र के मुख्य अतिथि, पूर्व मुख्य सचिव, यूपी, आलोक रंजन ने SELF द्वारा किए जा रहे प्रयासों की सराहना की। उन्होंने ​कहा कि बुनियादी ढांचे की कमी के कारण चिकित्सा सेवाएं अत्यधिक दबाव में हैं। जिन लोगों को COVID के अलावा अन्य बीमारियां हैं, उन पर उचित ध्यान नहीं दिया जा रहा है क्योंकि पूरी मेडिकल टीम कोविड मरीजों को संभालने में व्यस्त है।

डॉo राम ने बताया कि ये वेरिएंट आते रहेंगे, डेल्टा, डेल्टा-प्लस और फिर लैम्ब्डा भी हड़ताल कर सकते हैं, ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि वायरस म्यूटेटिंग कर रहा है और स्पाइक प्रोटीन और प्रतिरक्षा प्रणाली से बच सकता है। उन्होंने स्वीकार किया कि स्थिति चिंताजनक है, टीके 90-96% प्रभावी हैं, क्योंकि अल्फा संस्करण वैक्सीन के प्रति अधिक संवेदनशील था। नए डेल्टा पर, वैक्सीन में 50-60% सुरक्षा है, लेकिन हमारे पास उपलब्ध सेवाओं और सुविधाओं के साथ चलने के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं है। हमें 1 या 2 साल में एक बार बूस्टर लेना पड़ सकता है।

इसके अलावा इस सत्र से एक प्रमुख झुकाव यह था कि दूसरी लहर डेल्टा संस्करण के कारण हुई थी, ब्रिटेन में अब उन्हें अधिक मामले मिल रहे हैं, यह गंभीर हो सकता है और लॉकडाउन का कारण बन सकता है। हमें यूके पर नजर रखने, सीख लेने और तैयार रहने की जरूरत है। हम नहीं जानते कि यह कितना रोगजनक होगा। इसे कोविड के उचित व्यवहार, लॉकडाउन और वैक्सीन द्वारा गिरफ्तार करने की जरूरत है, इन तीनों का संयोजन हमें बीमारी से लड़ने में मदद मिलेगी ।

उन्होंने कहा कि भारत के चिकित्सा ढांचे को अच्छी तरह से तैयार करने की जरूरत है। हमें तैयार रहने की जरूरत है और चिंता करने की नहीं। बच्चे बेहतर तरीके से लड़ेंगे। बच्चों को संरक्षित करने की आवश्यकता है क्योंकि उनका टीका उपलब्ध नहीं है। हमें जागरूक होने की जरूरत है अगर वे कुछ शिकायत करते हैं तो डॉक्टर से संपर्क किया जाना चाहिए। बच्चों को बिना डॉक्टर सलाह के कोई भी दवा न दें उन्हें घर वापस आने के बाद हाथ धोने और कपड़े बदलने के बारे में बताएं। यह वैज्ञानिक रूप से सिद्ध है कि बच्चे पहले की लहर के दौरान कोविड के साथ बेहतर तरीके से लड़े – इसका कारण कोविड वायरस पर स्पाइक प्रोटीन है, जिसे आराम करने के लिए एक रिसेप्टर की आवश्यकता होती है। अगर हमारे पास जीआई ट्रैक, किडनी, हृदय और फेफड़ों में मौजूद एसीई 2 रिसेप्शन है- तो यह वायरस इन अंगों को प्रभावित कर सकता है। यह वायरस कैंसर की तरह ही एक कोशिका से दूसरी कोशिका में जा सकता है। यह वायरस कैंसर की तरह ही एक कोशिका से दूसरी कोशिका में जा सकता है। बच्चों के मामले में उनके पास कम रिसेप्टर है, इसलिए उनमें हल्के लक्षण होंगे, ज्यादातर। रोगों से लड़ने के लिए हमें टी कोशिकाओं की आवश्यकता होती है, बच्चों में ये टी कोशिकाएं अधिक होती हैं इसलिए वे अच्छी तरह से लड़ सकते हैं । बच्चे के पोषण पर ध्यान देने की जरूरत है, उन्हें सकारात्मक पुष्टि दें। उन्हें शारीरिक रूप से सक्रिय और अन्य रचनात्मक गतिविधियों जैसे पेंटिंग गायन आदि के लिए कहें।

गर्भवती महिलाओं के लिए टीके के बारे में उन्होंने कहा कि गर्भवती महिलाओं के लिए टीका अब उपलब्ध है। गर्भवती महिलाओं को टीकों के बारे में कोई चिंता नहीं होनी चाहिए क्योंकि कोई भी टीका नाभिक में प्रवेश नहीं करेगा। गर्भवती महिलाओं के COVID से संक्रमित होने की संभावना अधिक होती है, लेकिन उन्हें उनकी अधिक देखभाल की आवश्यकता होती है और उनके टीकाकरण को सावधानीपूर्वक तय करने की आवश्यकता होती है। फिर भी, डब्ल्यूएचओ द्वारा इसकी पुष्टि नहीं की गई है, क्योंकि ऐसी महिलाओं पर टीकों के प्रभाव पर सीमित आंकड़े उपलब्ध हैं। लेकिन शोधकर्ताओं को कोई नकारात्मक खबर नहीं मिली है अगर गर्भवती महिलाएं वैक्सीन ले सकती हैं, अगर वे कोविड 19 के वातावरण के अधिक संपर्क में हैं या उन्हें सहरुग्णता है, तो उन्हें वैक्सीन लेने की जरूरत है। कोई नैदानिक ​​परीक्षण डेटा उपलब्ध नहीं है, लेकिन एकत्रित आंकड़ों के आधार पर वे सुझाव देते हैं कि लोग टीका लगवा सकते हैं। टीका लेने से पहले स्त्री रोग विशेषज्ञ की राय लेनी चाहिए।

ऑनलाइन कार्यक्रम आलोक रंजन, पूर्व मुख्य सचिव, उत्तर प्रदेश सरकार मुख्य अतिथि के रूप में तथा शैलेन्द्र श्रीवास्तव, अध्यक्ष, सीमा और रितेश श्रीवास्तव सीमा– सेल्फ लखनऊ चैप्टर भी बैठक में शामिल हुए।

Related Articles

वायरल हुआ जीतू पटवारी का वीडियो, देखें कर रहे थे ये काम … !

खंडवा (विजय तीर्थानि ) : मध्यप्रदेश में निकाय चुनाव अपने चरम पर हैं। ऐसे में नेता अपने वोटरों को लुभाने के लिए कुछ भी...

महाराष्ट्र में सरकार बनाने की और BJP , केंद्रीय मंत्री दानवे बोले- विपक्ष में हम बस 2-3 दिन और

मुंबई : महाराष्ट्र में जारी सियासी संग्राम के बीच BJP ने महाराष्ट्र में सरकार बनाने के संकेत दिए हैं। केंद्र सरकार के मंत्री रावसाहेब...

Maharashtra Political Crisis राज ठाकरे की मनसे में शामिल हो सकता है शिंदे गुट !

मुंबई : महाराष्ट्र में पिछले एक सप्ताह से चल रहे सियासी ड्रामे के बीच नए समीकरण बनते दिख रहे हैं। अब खबर है कि...

द्रौपदी मुर्मू ने राष्ट्रपति पद के लिए नॉमिनेशन भरा, देश को मिल सकता है पहला आदिवासी प्रेजिडेंट

नई दिल्लीः झारखंड की पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने आज NDA की ओर से राष्ट्रपति पद के लिए अपना नामांकन दाखिल कर दिया है।...

तो क्या बंद होने वाली हैं केंद्र सरकार की मुफ्त राशन वितरण वाली योजना ?

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों में भाजपा की जीत का एक बड़ा कारण राज्य में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (PMGKAY) के...

Maharashtra Political Crisis : मुंबई आकर बात करें तो छोड़ देंगे एमवीए : संजय राउत

मुंबई : महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी सरकार पर गहराए राजनीतिक संकट के बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने गुरुवार को बड़ा बयान दिया है।...

Maharashtra Political Crisis : शिवसेना की मीटिंग में पहुंचे 12 विधायक, एनसीपी ने बुलाई अहम बैठक

मुंबई : महाराष्ट्र के राजनीतिक संग्राम के बीच शिवसेना में बगावत बढ़ती जा रही है। बता दें कि शिवसेना के नेता एकनाथ शिंदे की...

खरगोन में जिला प्रशासन की बड़ी कार्रवाई, लाखों रुपये का तेल जप्त

खरगोन : मध्यप्रदेश के खरगोन में जिला प्रशासन की टीम ने कार्रवाई करते हुए एक व्यपारिक प्रतिष्ठान से लाखों रुपए कीमत का तेल जब्त...

सिर्फ नोटिस देकर चलाया गया जावेद के घर पर बुलडोजर, हाईकोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस बोले- यह पूरी तरह गैरकानूनी

लखनऊ : रविवार को उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने कथित तौर पर प्रयागराज हिंसा के मास्टरमाइंड मोहम्मद जावेद उर्फ जावेद पंप का घर...

Stay Connected

5,577FansLike
13,774,980FollowersFollow
126,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

वायरल हुआ जीतू पटवारी का वीडियो, देखें कर रहे थे ये काम … !

खंडवा (विजय तीर्थानि ) : मध्यप्रदेश में निकाय चुनाव अपने चरम पर हैं। ऐसे में नेता अपने वोटरों को लुभाने के लिए कुछ भी...

महाराष्ट्र में सरकार बनाने की और BJP , केंद्रीय मंत्री दानवे बोले- विपक्ष में हम बस 2-3 दिन और

मुंबई : महाराष्ट्र में जारी सियासी संग्राम के बीच BJP ने महाराष्ट्र में सरकार बनाने के संकेत दिए हैं। केंद्र सरकार के मंत्री रावसाहेब...

Maharashtra Political Crisis राज ठाकरे की मनसे में शामिल हो सकता है शिंदे गुट !

मुंबई : महाराष्ट्र में पिछले एक सप्ताह से चल रहे सियासी ड्रामे के बीच नए समीकरण बनते दिख रहे हैं। अब खबर है कि...

द्रौपदी मुर्मू ने राष्ट्रपति पद के लिए नॉमिनेशन भरा, देश को मिल सकता है पहला आदिवासी प्रेजिडेंट

नई दिल्लीः झारखंड की पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने आज NDA की ओर से राष्ट्रपति पद के लिए अपना नामांकन दाखिल कर दिया है।...

तो क्या बंद होने वाली हैं केंद्र सरकार की मुफ्त राशन वितरण वाली योजना ?

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों में भाजपा की जीत का एक बड़ा कारण राज्य में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (PMGKAY) के...