25.1 C
Indore
Thursday, August 5, 2021

म्यांमार में सू की की अपार लोकप्रियता से घबराई सेना

भारत के एक पड़ोसी देश म्यांमार में  लोकतांत्रिक ढंग से चुनी गई सरकार का  तख्ता पलट कर खुद ही सत्ता पर कब्जा जमा लेने की सेना की कार्रवाई का देश की जनता उग्र विरोध कर रही है ।लोग  सड़कों पर उतर कर अपना विरोध व्यक्त कर रहे हैं । म्यांमार की सेना ने यद्यपि  देश में एक साल के लिए लागू आपातकाल के बाद निर्वाचित होने वाली लोकतांत्रिक सरकार को सत्ता हस्तांतरित कर देने का वादा किया है लेकिन सेना के इस वादे पर जनता को कतई भरोसा नहीं है । देश की गिरफ्तार नेताओं की तत्काल रिहाई और लोकतांत्रिक सरकार की बहाली की मांग पर जनता अडिग है। जनता  के उग्र विरोध प्रदर्शनों को दबा पाना सैन्य शासकों के लिए मुश्किल साबित हो रहा है ।
अभी यह पता नहीं चल सका है कि देश में लोकतंत्र बहाली के लिए लंबा संघर्ष करने वाली लोकप्रिय नेता आन सांग सू की एवं अन्य सत्ताधारी नेताओं को  तख्ता पलट की कार्रवाई के बाद हिरासत में कहां रखा गया है। यहां  यह विशेष उल्लेखनीय है कि सत्ताधारी दल नेशनल लीग बार डेमोक्रेसी के फेस बुक पेज पर देश की शीर्ष नेता आंग सान ‌सू की  ने पहले ही अपलोड किए गए एक बयान के जरिए इस तख्ता पलट की कार्रवाई की आशंका व्यक्त कर दी थी। म्यांमार में फेसबुक की लोकप्रियता को देखते हुए सैन्य सरकार ने 7 फरवरी तक के लिए फेस बुक पर प्रतिबंध की घोषणा कर दी है ताकि नई सैन्य सरकार के विरुद्ध संगठित होने के लिए लोग फेसबुक का सहारा न ले सकें। सेना ने निर्वाचित सरकार का तख्ता पलटने का  कारण चुनावों में धांधली होना बताया है परंतु निर्वाचन आयोग ने सेना के इस आरोप को ग़लत बताया है। दरअसल देश के नवनिर्वाचित निचले सदन का सोमवार पहला सत्र आमंत्रित किया गया था उसके पहले ही सेना ने लोकतांत्रिक सरकार का तख्ता पलट कर खुद सत्ता पर कब्जा कर लिया।
विश्व के अनेक देशों की सरकारों ने म्यांमार की सेना की इस  कार्रवाई की भर्त्सना करते हुए गिरफ्तार नेताओं की तत्काल रिहाई की मांग की है। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने म्यांमार की सैन्य सरकार  को चेतावनी दी है कि अगर वह तत्काल ही गिरफ्तार नेताओं को रिहा कर लोकतांत्रिक सरकार की पुनः बहाली नहीं  करती है तो अमेरिका म्यांमार पर एक बार फिर कठोर आर्थिक प्रतिबंध लगाने से नहीं हिचकेगा। गौरतलब है कि अमेरिका ने म्यांमार में लोकतांत्रिक सरकार के गठन के बाद उसके विरुद्ध आर्थिक प्रतिबंधों को शिथिल कर दिया था। म्यांमार में सेना द्वारा  लोकतांत्रिक सरकार की तख्ता पलटे जाने की  कार्रवाई पर भारत ने बहुत सीधी हुई प्रतिक्रिया दी है। भारतीय विदेश मंत्रालय ने म्यांमार के नए घटनाक्रम पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा है कि’ भारत स्थिति पर बारीकी से नजर रख रहा है। हमने हमेशा ही म्यांमार में लोकतांत्रिक प्रक्रिया का समर्थन किया है।हमारा मानना है कि देश में कानून का शासन और लोकतांत्रिक प्रक्रिया को बरकरार रखा जाना चाहिए।’ इस प्रतिक्रिया से यह स्पष्ट है कि  मोदी सरकार म्यांमार में तख्ता पलट की कार्रवाई के लिए सीधे सीधे वहां की सेना की भर्त्सना करने से परहेज़ करते हुए काफी हद तक तटस्थता का रुख अपनाने की नीति पर चल रही है।
विदेश मंत्रालय ने अपनी प्रतिक्रिया में म्यांमार के घटनाक्रम को  चिंता जनक बताया है।  भारत सरकार ने म्यांमार में तख्ता पलट की घटना के बावजूद उसे मानवीय सहायता जारी रखने का आश्वासन दिया है। गौरतलब है कि म्यांमार को कोरोना संकट से निपटने के लिए भारत द्वारा बड़ी मात्रा में वैक्सीन, दवाइयों और टेस्टिंग किट की आपूर्ति की आपूर्ति की जा रही है।म्यांमार में सेना ने लोकतांत्रिक सरकार का तख्ता पलट कर खुद सत्ता पर काविज होने की जो महत्वाकांक्षा प्रदर्शित की है वह उस देश की जनता के लिए कोई नई बात नहीं है। देश को सैन्य तानाशाहों  के चंगुल से मुक्त कराने के लिए आंग सान सू की ने जिस अहिंसक संघर्ष की शुरुआत की थी उसे जनता ने भारी समर्थन प्रदान किया था।सैन्य तानाशाहों ने जनता के बीच उनकी अपार लोकप्रियता को देखते हुए उन्हेंलगभग दो दशकों तक नजरबंद भी रखा परंतु अंततः सैन्य तानाशाहों को उनके आगे झुकना  पड़ा। देश में लोकतांत्रिक सरकार के गठन के लिए चुनाव तो जरूर कराए गए लेकिन सेना ने सत्ता पर परोक्ष नियंत्रण रखने के इरादे से संविधान में इस तरह संशोधन कर दिया कि सू की नई सरकार में किसी पद पर काबिज न हो सकें। सेना ने संविधान में यह प्रावधान कर दिया कि देश का कोई नागरिक यदि विदेश में विवाह करता है तो वह सरकार में कोई पद अर्जित करने का अधिकारी नहीं होगा। इसी प्रावधान ने आंग सान सू की को देश में लोकतांत्रिक सरकार का गठन होने पर उसके राष्ट्रपति पद से वंचित कर दिया। महत्वाकांक्षी चतुर सैन्य शासकों ने लोकतांत्रिक सरकार पर  अपनी मजबूत पकड़ बनाए रखने के लिए संविधान में यह संशोधन भी कर दिया कि संसद में एक चौथाई सदस्यों का मनोनयन सेना  अपनी मर्ज़ी से करेगी और गृह ,रक्षा और सीमा मंत्रालय सेना अपने पास रखेगी।
देश में लोकतंत्र की स्थापना का मार्ग प्रशस्त करने हेतु ‌आंग सान सू की ने सेना की इन शर्तों को स्वीकार कर लिया। संसदीय चुनावों में सू की के नेतृत्व वाली नेशनल लीग बार डेमोक्रेसी ने प्रचंड बहुमत से जो जीत हासिल की वह इस बात का प्रमाण थी कि सू की देश की जनता के बीच कितनी लोकप्रिय हैं। सेना को आंग सान सू की की यह अपार लोकप्रियता कभी पसंद नहीं आई।सू की यद्यपि सरकार में किसी संवैधानिक पद पर नहीं थीं परंतु परोक्ष रूप से सरकार में उनका में सर्वोच्च स्थान था। बताया जाता है कि तीन महीने बाद सेवानिवृत्त होने वाले म्यांमार के सेनाध्यक्ष ने स्वयं राष्ट्रपति बनने की महत्वाकांक्षा के चलते इस तख्तापलट की योजना बनाई थी जिसकी भनक आंग सान सू की को लग गई थी इसीलिए उन्होंने पहले ही सत्ता धारी दल के फेस बुक पेज पर इसकी आशंका जता दी थी।
               म्यांमार में हुए इस तख्तापलट में चीन का हाथ होने की भी खबरें सामने आ रही हैं यद्यपि चीन सरकार ने इन खबरों को ग़लत बताया है परंतु यह भी आश्चर्यचकित कर देने वाली बात है कि जब संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में म्यांमार की घटना को लेकर निंदा प्रस्ताव पेश किया गया तो चीन ने स्थायी सदस्य के रूप में वीटो पावर का प्रयोग करते हुए उस प्रस्ताव का अनुमोदन नहीं होने दिया। चीन ने इस मुद्दे पर रवैया अख्तियार किया वह किसी संदेह को जन्म देता है। दरअसल लोकतांत्रिक सरकार में आंग सान सू की किसी पद पर न होते हुए भी जिस तरह सुप्रीम हस्ती बनी हुई थीं वह सेना को रास नहीं आ रहा था इसलिए वहां की सेना ने तख्ता पलट का रास्ता चुन लिया। सेना की इस कार्रवाई का विरोध करने के लिए जनता जिस तरह देश की सड़कों पर उतर आई है उसे देखते हुए ऐसा प्रतीत हो रहा है कि सेना को अपने कदम पीछे भी खींचना पड़ सकते हैं। अंतरराष्ट्रीय दबाव से निपट पाना भी सेना के अब पहले जैसा आसान नहीं है।
:-कृष्णमोहन झा

Related Articles

किशोर कुमार के जन्मदिन मौके पर जानिए उनकी जिंदगी से जुड़े कुछ दिलचस्प किस्से

भारतीय सिनेमा के दिग्गज सिंगर किशोर कुमार का 4 अगस्त को  जन्मदिन है। किशोर कुमार ने लगभग 1500 फिल्मों में गाने गए। आज भी...

सामुदायिक फूट सत्ता के लिये लाभप्रद हो सकती है राष्ट्रीय एकता के लिये नहीं

अंग्रेज़ों की 'बांटो और राज करो ' की विश्वव्यापी नीति से सारा संसार परिचित है। हिटलर ने भी जर्मनी में सत्ता पर एकाधिकार स्थापित...

सभी राजनीतिक दल तत्काल करे “सवर्ण मोर्चे” का गठन- गजेंद्र त्रिपाठी

लखनऊ: सवर्णों की राजनीतिक पार्टियों में हो रही हिस्सेदारी की अनदेखी पर गंभीर चिंता जताते हुए सवर्ण महासंघ फ़ाउंडेशन ने देश की सभी प्रमुख...

महिला हॉकी टीम की जीत से खुश हुए चक दे इंडिया के कोच ‘कबीर खान’, कहा- गोल्ड जीतकर आना

आज सुबह भारतीय महिला हॉकी टीम ने टोक्यो ओलांपिक 2021 में ऑस्ट्रेलिया को 1-0 से हराकर अपनी सफलता के झंडे गाड़े। महिला हॉकी टीम...

मुस्लिम महिला दिवस मनाने के सरकार के एलान पर पर्सनल लॉ बोर्ड नाराज, कहा- तीन तलाक कानून महिलाओं के लिए नुकसानदेह

लखनऊ : ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने तीन तलाक कानून बनने के दिन को मुस्लिम महिला दिवस के तौर पर मनाने के...

ममता को झटका: कलकत्ता हाईकोर्ट का आदेश- सुवेंदु अधिकारी के करीबी को तुरंत रिहा करे बंगाल सरकार

कोलकाता : कलकत्ता हाई कोर्ट ने सोमवार को पश्चिम बंगाल की ममता सरकार को बड़ा झटका दिया है। अदालत ने फर्जी सरकारी नौकरी घोटाले के आरोप...

वाइस ऑफ खण्डवा-2021 गायन प्रतियोगिता के आडिशन प्रारंभ

खंडवा। जिन्दगी का सफर... तेरे जैसा यार कहां..., आने वाला पल जाने वाला है..., रिमझिम गिरे सावन..., जीवन से भरी तेरी आंखे... जैसे किशोरदा...

बॉक्सर लवलीना ने भरी हुंकार, बोलीं- फाइनल के बाद ही कहूंगी थैंक्यू

नई दिल्लीः लवलीना बोरगोहेन ने चीनी ताइपे की पूर्व विश्व चैंपियन निएन चिन चेन को 4-1 से हराकर इतिहास रच दिया। लवलीना 69 किग्रा भारवर्ग...

बारामुला में आतंकी हमला: सुरक्षाबलों को निशाना बनाकर आतंकियों ने फेंका ग्रेनेड

जम्मू : कश्मीर घाटी के बारामुला में आतंकियों ने ग्रेनेड हमला किया है। इस हमले में चार जवान और एक नागरिक हुआ है। घायलों को...

Stay Connected

5,577FansLike
13,774,980FollowersFollow
120,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

किशोर कुमार के जन्मदिन मौके पर जानिए उनकी जिंदगी से जुड़े कुछ दिलचस्प किस्से

भारतीय सिनेमा के दिग्गज सिंगर किशोर कुमार का 4 अगस्त को  जन्मदिन है। किशोर कुमार ने लगभग 1500 फिल्मों में गाने गए। आज भी...

सामुदायिक फूट सत्ता के लिये लाभप्रद हो सकती है राष्ट्रीय एकता के लिये नहीं

अंग्रेज़ों की 'बांटो और राज करो ' की विश्वव्यापी नीति से सारा संसार परिचित है। हिटलर ने भी जर्मनी में सत्ता पर एकाधिकार स्थापित...

सभी राजनीतिक दल तत्काल करे “सवर्ण मोर्चे” का गठन- गजेंद्र त्रिपाठी

लखनऊ: सवर्णों की राजनीतिक पार्टियों में हो रही हिस्सेदारी की अनदेखी पर गंभीर चिंता जताते हुए सवर्ण महासंघ फ़ाउंडेशन ने देश की सभी प्रमुख...

महिला हॉकी टीम की जीत से खुश हुए चक दे इंडिया के कोच ‘कबीर खान’, कहा- गोल्ड जीतकर आना

आज सुबह भारतीय महिला हॉकी टीम ने टोक्यो ओलांपिक 2021 में ऑस्ट्रेलिया को 1-0 से हराकर अपनी सफलता के झंडे गाड़े। महिला हॉकी टीम...

मुस्लिम महिला दिवस मनाने के सरकार के एलान पर पर्सनल लॉ बोर्ड नाराज, कहा- तीन तलाक कानून महिलाओं के लिए नुकसानदेह

लखनऊ : ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने तीन तलाक कानून बनने के दिन को मुस्लिम महिला दिवस के तौर पर मनाने के...