31.4 C
Indore
Thursday, May 13, 2021

म्यांमार में सू की की अपार लोकप्रियता से घबराई सेना

भारत के एक पड़ोसी देश म्यांमार में  लोकतांत्रिक ढंग से चुनी गई सरकार का  तख्ता पलट कर खुद ही सत्ता पर कब्जा जमा लेने की सेना की कार्रवाई का देश की जनता उग्र विरोध कर रही है ।लोग  सड़कों पर उतर कर अपना विरोध व्यक्त कर रहे हैं । म्यांमार की सेना ने यद्यपि  देश में एक साल के लिए लागू आपातकाल के बाद निर्वाचित होने वाली लोकतांत्रिक सरकार को सत्ता हस्तांतरित कर देने का वादा किया है लेकिन सेना के इस वादे पर जनता को कतई भरोसा नहीं है । देश की गिरफ्तार नेताओं की तत्काल रिहाई और लोकतांत्रिक सरकार की बहाली की मांग पर जनता अडिग है। जनता  के उग्र विरोध प्रदर्शनों को दबा पाना सैन्य शासकों के लिए मुश्किल साबित हो रहा है ।
अभी यह पता नहीं चल सका है कि देश में लोकतंत्र बहाली के लिए लंबा संघर्ष करने वाली लोकप्रिय नेता आन सांग सू की एवं अन्य सत्ताधारी नेताओं को  तख्ता पलट की कार्रवाई के बाद हिरासत में कहां रखा गया है। यहां  यह विशेष उल्लेखनीय है कि सत्ताधारी दल नेशनल लीग बार डेमोक्रेसी के फेस बुक पेज पर देश की शीर्ष नेता आंग सान ‌सू की  ने पहले ही अपलोड किए गए एक बयान के जरिए इस तख्ता पलट की कार्रवाई की आशंका व्यक्त कर दी थी। म्यांमार में फेसबुक की लोकप्रियता को देखते हुए सैन्य सरकार ने 7 फरवरी तक के लिए फेस बुक पर प्रतिबंध की घोषणा कर दी है ताकि नई सैन्य सरकार के विरुद्ध संगठित होने के लिए लोग फेसबुक का सहारा न ले सकें। सेना ने निर्वाचित सरकार का तख्ता पलटने का  कारण चुनावों में धांधली होना बताया है परंतु निर्वाचन आयोग ने सेना के इस आरोप को ग़लत बताया है। दरअसल देश के नवनिर्वाचित निचले सदन का सोमवार पहला सत्र आमंत्रित किया गया था उसके पहले ही सेना ने लोकतांत्रिक सरकार का तख्ता पलट कर खुद सत्ता पर कब्जा कर लिया।
विश्व के अनेक देशों की सरकारों ने म्यांमार की सेना की इस  कार्रवाई की भर्त्सना करते हुए गिरफ्तार नेताओं की तत्काल रिहाई की मांग की है। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने म्यांमार की सैन्य सरकार  को चेतावनी दी है कि अगर वह तत्काल ही गिरफ्तार नेताओं को रिहा कर लोकतांत्रिक सरकार की पुनः बहाली नहीं  करती है तो अमेरिका म्यांमार पर एक बार फिर कठोर आर्थिक प्रतिबंध लगाने से नहीं हिचकेगा। गौरतलब है कि अमेरिका ने म्यांमार में लोकतांत्रिक सरकार के गठन के बाद उसके विरुद्ध आर्थिक प्रतिबंधों को शिथिल कर दिया था। म्यांमार में सेना द्वारा  लोकतांत्रिक सरकार की तख्ता पलटे जाने की  कार्रवाई पर भारत ने बहुत सीधी हुई प्रतिक्रिया दी है। भारतीय विदेश मंत्रालय ने म्यांमार के नए घटनाक्रम पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा है कि’ भारत स्थिति पर बारीकी से नजर रख रहा है। हमने हमेशा ही म्यांमार में लोकतांत्रिक प्रक्रिया का समर्थन किया है।हमारा मानना है कि देश में कानून का शासन और लोकतांत्रिक प्रक्रिया को बरकरार रखा जाना चाहिए।’ इस प्रतिक्रिया से यह स्पष्ट है कि  मोदी सरकार म्यांमार में तख्ता पलट की कार्रवाई के लिए सीधे सीधे वहां की सेना की भर्त्सना करने से परहेज़ करते हुए काफी हद तक तटस्थता का रुख अपनाने की नीति पर चल रही है।
विदेश मंत्रालय ने अपनी प्रतिक्रिया में म्यांमार के घटनाक्रम को  चिंता जनक बताया है।  भारत सरकार ने म्यांमार में तख्ता पलट की घटना के बावजूद उसे मानवीय सहायता जारी रखने का आश्वासन दिया है। गौरतलब है कि म्यांमार को कोरोना संकट से निपटने के लिए भारत द्वारा बड़ी मात्रा में वैक्सीन, दवाइयों और टेस्टिंग किट की आपूर्ति की आपूर्ति की जा रही है।म्यांमार में सेना ने लोकतांत्रिक सरकार का तख्ता पलट कर खुद सत्ता पर काविज होने की जो महत्वाकांक्षा प्रदर्शित की है वह उस देश की जनता के लिए कोई नई बात नहीं है। देश को सैन्य तानाशाहों  के चंगुल से मुक्त कराने के लिए आंग सान सू की ने जिस अहिंसक संघर्ष की शुरुआत की थी उसे जनता ने भारी समर्थन प्रदान किया था।सैन्य तानाशाहों ने जनता के बीच उनकी अपार लोकप्रियता को देखते हुए उन्हेंलगभग दो दशकों तक नजरबंद भी रखा परंतु अंततः सैन्य तानाशाहों को उनके आगे झुकना  पड़ा। देश में लोकतांत्रिक सरकार के गठन के लिए चुनाव तो जरूर कराए गए लेकिन सेना ने सत्ता पर परोक्ष नियंत्रण रखने के इरादे से संविधान में इस तरह संशोधन कर दिया कि सू की नई सरकार में किसी पद पर काबिज न हो सकें। सेना ने संविधान में यह प्रावधान कर दिया कि देश का कोई नागरिक यदि विदेश में विवाह करता है तो वह सरकार में कोई पद अर्जित करने का अधिकारी नहीं होगा। इसी प्रावधान ने आंग सान सू की को देश में लोकतांत्रिक सरकार का गठन होने पर उसके राष्ट्रपति पद से वंचित कर दिया। महत्वाकांक्षी चतुर सैन्य शासकों ने लोकतांत्रिक सरकार पर  अपनी मजबूत पकड़ बनाए रखने के लिए संविधान में यह संशोधन भी कर दिया कि संसद में एक चौथाई सदस्यों का मनोनयन सेना  अपनी मर्ज़ी से करेगी और गृह ,रक्षा और सीमा मंत्रालय सेना अपने पास रखेगी।
देश में लोकतंत्र की स्थापना का मार्ग प्रशस्त करने हेतु ‌आंग सान सू की ने सेना की इन शर्तों को स्वीकार कर लिया। संसदीय चुनावों में सू की के नेतृत्व वाली नेशनल लीग बार डेमोक्रेसी ने प्रचंड बहुमत से जो जीत हासिल की वह इस बात का प्रमाण थी कि सू की देश की जनता के बीच कितनी लोकप्रिय हैं। सेना को आंग सान सू की की यह अपार लोकप्रियता कभी पसंद नहीं आई।सू की यद्यपि सरकार में किसी संवैधानिक पद पर नहीं थीं परंतु परोक्ष रूप से सरकार में उनका में सर्वोच्च स्थान था। बताया जाता है कि तीन महीने बाद सेवानिवृत्त होने वाले म्यांमार के सेनाध्यक्ष ने स्वयं राष्ट्रपति बनने की महत्वाकांक्षा के चलते इस तख्तापलट की योजना बनाई थी जिसकी भनक आंग सान सू की को लग गई थी इसीलिए उन्होंने पहले ही सत्ता धारी दल के फेस बुक पेज पर इसकी आशंका जता दी थी।
               म्यांमार में हुए इस तख्तापलट में चीन का हाथ होने की भी खबरें सामने आ रही हैं यद्यपि चीन सरकार ने इन खबरों को ग़लत बताया है परंतु यह भी आश्चर्यचकित कर देने वाली बात है कि जब संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में म्यांमार की घटना को लेकर निंदा प्रस्ताव पेश किया गया तो चीन ने स्थायी सदस्य के रूप में वीटो पावर का प्रयोग करते हुए उस प्रस्ताव का अनुमोदन नहीं होने दिया। चीन ने इस मुद्दे पर रवैया अख्तियार किया वह किसी संदेह को जन्म देता है। दरअसल लोकतांत्रिक सरकार में आंग सान सू की किसी पद पर न होते हुए भी जिस तरह सुप्रीम हस्ती बनी हुई थीं वह सेना को रास नहीं आ रहा था इसलिए वहां की सेना ने तख्ता पलट का रास्ता चुन लिया। सेना की इस कार्रवाई का विरोध करने के लिए जनता जिस तरह देश की सड़कों पर उतर आई है उसे देखते हुए ऐसा प्रतीत हो रहा है कि सेना को अपने कदम पीछे भी खींचना पड़ सकते हैं। अंतरराष्ट्रीय दबाव से निपट पाना भी सेना के अब पहले जैसा आसान नहीं है।
:-कृष्णमोहन झा

Related Articles

दिल्ली सरकार ने बताया पलायन रोकने का प्लान, कहा- मजदूरों को देंगे 5-5 हजार रुपये

नई दिल्लीः दिल्ली सरकार लॉकडाउन के दौरान प्रवासी, दैनिक व निर्माण कार्य में लगे श्रमिकों की भलाई के लिए प्रतिबद्घ है। सरकार ने लॉकडाडन...

ममता का प्रधानमंत्री मोदी से पूछा सवाल- महामारी रोकने के लिए आपने छह महीने में क्या किया?

कोलकाता : देश में कोरोना की दूसरी लहर बढ़ने के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार ठहराया है।...

कश्मीर के शोपियां में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़

जम्मू : घाटी के शोपियां जिले में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ चल रही है। सुरक्षाबलों की संयुक्त टीम इस ऑपरेशन को अंजाम...

विशेषज्ञ से जानें: बच्चों को कोरोना संक्रमण से कैसे बचा सकते हैं?  

देशभर में चल रहे टीकाकरण अभियान के बावजूद कोरोना का संक्रमण बड़ी ही तेजी से फैल रहा है। प्रतिदिन नए कोरोना मरीजों और संक्रमण...

इंसानियत जिंदा है : कोरोना वॉरियर्स और अन्नपूर्णा

गुजरात : " कोरोना के तांडव के बीच फूल रही है सांसे , एक तरफ सरकार के अथाग प्रयास के बावजूद भी अस्पताल में...

Coronavirus: संक्रमण दर ने पकड़ी रफ्तार, केजरीवाल ने अमित शाह से मांगी मदद

नई दिल्लीः राजधानी दिल्ली में कोरोना हर रोज रिकॉर्ड तोड़ रहा है। हालात लगातार बदतर होते जा रहे हैं। इसी बीच रविवार को मुख्यमंत्री...

Corona: राहुल गांधी ने रद्द कीं बंगाल की सभी जनसभाएं, दूसरे नेताओं से की यह अपील

नई दिल्लीः कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाांधी ने चुनावी कार्यक्रमों में हिस्सा नहीं लेने का फैसला किया है। राहुल गांधी ने कहा कि...

दिल्ली में शुक्रवार रात से सोमवार सुबह तक वीकेंड कर्फ्यू लागू

नई दिल्लीः राजधानी दिल्ली में बढ़ते कोरोना संक्रमण और बिगड़ते हालात को लेकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपराज्यपाल अनिल बैजल ने गुरुवार को समीक्षा...

सीबीएसई बोर्ड 2021 : 12वीं की परीक्षा स्थगित और 10वीं की परीक्षा रद्द हुई, जानें डिटेल्स

नई दिल्लीः शिक्षा मंत्री के साथ बैठक में प्रधानमंत्री ने सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित करने का निर्णय लिया है। निर्णय के अनुसार दसवीं...

Stay Connected

5,567FansLike
13,774,980FollowersFollow
119,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

दिल्ली सरकार ने बताया पलायन रोकने का प्लान, कहा- मजदूरों को देंगे 5-5 हजार रुपये

नई दिल्लीः दिल्ली सरकार लॉकडाउन के दौरान प्रवासी, दैनिक व निर्माण कार्य में लगे श्रमिकों की भलाई के लिए प्रतिबद्घ है। सरकार ने लॉकडाडन...

ममता का प्रधानमंत्री मोदी से पूछा सवाल- महामारी रोकने के लिए आपने छह महीने में क्या किया?

कोलकाता : देश में कोरोना की दूसरी लहर बढ़ने के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार ठहराया है।...

कश्मीर के शोपियां में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़

जम्मू : घाटी के शोपियां जिले में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ चल रही है। सुरक्षाबलों की संयुक्त टीम इस ऑपरेशन को अंजाम...

विशेषज्ञ से जानें: बच्चों को कोरोना संक्रमण से कैसे बचा सकते हैं?  

देशभर में चल रहे टीकाकरण अभियान के बावजूद कोरोना का संक्रमण बड़ी ही तेजी से फैल रहा है। प्रतिदिन नए कोरोना मरीजों और संक्रमण...

इंसानियत जिंदा है : कोरोना वॉरियर्स और अन्नपूर्णा

गुजरात : " कोरोना के तांडव के बीच फूल रही है सांसे , एक तरफ सरकार के अथाग प्रयास के बावजूद भी अस्पताल में...