15.1 C
Indore
Sunday, December 4, 2022

चले गये राम मंदिर की आस लिए

ashok-singhalजो ना तो राजनीति का नायक बना। ना ही हिन्दुत्व का झंडाबरदार। लेकिन जो सपना देखा उसे पूरा करने में जीवन कुछ इस तरह झोक दिया कि संघ परिवार को भी कई मोड़ पर बदलना पड़ा। और देश की सियासत को भी राम मंदिर को धुरी मान कर राजनीति का ककहरा पढ़ना पड़ा। जी अशोक सिंघल ने सदा माना कि धर्म से बडी राजनीति कुछ होती नहीं। इसीलिये चाहे अनचाहे अयोध्या आंदोलन ने समाज से ज्यादा राजनीति को प्रभावित किया और धर्म पर टिकी इस राजनीति ने समाज को कही ज्यादा प्रभावित किया।

इसी आंदोलन ने आडवाणी को नायक बना दिया। आंदोलन से निकली राजनीति ने वाजपेयी को प्रधानमंत्री बना दिया। लेकिन निराशा अशोक सिंघल को मिली तो उन्होने गर्जना की। स्वयंसेवकों की सत्ता का विरोध किया। लेकिन आस नहीं तोड़ी। इसीलिये 2014 में जब नरेन्द्र मोदी को लेकर सियासी हलचल शुरु हुई तो चुनाव से पहले ही मोदी की नेहरु से तुलना कर राम मंदिर की नई आस पैदा की। यानी अपने सपने को अपनी मौत की आहट के बीच भी कैसे जिन्दा रखा यह महीने भर पहले दिल्ली में सत्ता और संघ परिवार की मौजूदगी में अपने ही जन्मदिन के समारोह में हर किसी से यह कहला दिया कि सबसे बेहतर तोहफा तो राम मंदिर ही होगा । लेकिन क्या यह तोहफा देने की हिम्मत किसी में है।

यह सवाल विष्णु हरि डालमिया ने उठाया । भरोसा हो ना हो लेकिन सिंघल ने राम मंदीर को लेकर उम्मीद कभी नहीं तोड़ी । किस उम्मीद के रास्ते देश को समझने अशोक सिंघल बचपन में ही निकले और कैसे इंजीनियरिंग की डिग्री पाकर भी धर्म के रास्ते समाज को मथने लगे यह भी कम दिलचस्प नहीं। आजादी के पहले बीएचयू आईटी से बीटेक छात्रों की जो खेप निकली, सिंहल भी उसी का हिस्सा थे। लेकिन सिंहल ने कैंपस रिक्रूटमेंट के उस दौर में नौकरी और कारोबार का रास्ता नहीं पकड़ा।

बल्कि देश बंटवारे के उस दौर में हिंदूत्व की प्रयोगशाला के सबसे बड़े धर्मस्थान गोरखपुर के गोरक्षनाथ मंदिर में उन्होंने डेरा डाला गीता प्रेस और गीता वाटिका में वेदों और उपनिषदों का अध्ययन शुरु किया लेकिन आरएसएस नेता प्रोफेसर राजेंद्र सिंह रज्जू भैय्या के निर्देश पर वो आरएसएस प्रमुख गुरुजी गोलवलकर से मिलने नागपुर पहुंच गए। (दरअसल रज्जू भैय्या और अशोक सिंहल दोनों के पिता प्रशासनिक अधिकारी थे और यूपी के इलाहाबाद में अगल-बगल ही रहते थे, इसलिए दोनों परिवारों में रिश्ता बहुत गहरा बना।

गोलवलकर से मुलाकात के बाद फिर सिंहल ने पीछे मुड़कर नहीं देखा, उन्होंने वेदों को पढ़ने का विचार छोड़ दिया संगठन के रास्ते पर कदम आगे बढ़ाए 1950 और 1960 के दशक में सिंहल गोरखपुर, कानपुर और सहारनपुर में आरएसएस के प्रचारक रहे तो बाद में पूरा उत्तराखंड देहरादून-हरिद्वार और उत्तरकाशी तक उन्होंने कई साल आरएसएस के संगठन और आध्यात्मिक साधना में साधू-संतों के साथ भी बिताया। यानी समाज को मथा। और 70 के दशक में राजनीति मथने लगे। 1970 के दशक में सिंहल ने जेपी आंदोलन में हिस्सा लिया दिल्ली में वो आरएसएस के प्रांत प्रचारक थे, जनता पार्टी के गठन में वो पर्दे के पीछे से अहम रोल अदा कर रहे थे इमर्जेंसी के वक्त सिंघल भूमिगत हो गए और जब इमर्जेंसी का दौर खत्म हुआ तो आरएसएस ने उन्हें विश्व हिंदू परिषद में भेज दिया। और पहली बार सिंघल को भी लगा कि अब धर्म के आसरे राजनीति को भी मथा जा सकता है।

सिर्फ मंदिर ही उनकी नजरों में नहीं था वो राम मंदिर के जरिए सियासी तौर तरीको को बदल डालने में जुट गए……हिंदू धर्म की अंदुरुनी कमजोरियों के खिलाफ भी सिंहल ने मोर्चा खोला..। 1986 में अयोध्या में शिलान्यास हुआ तो सिंहल ने कामेश्वर नामके हरिजन से पहली ईंट रखवाई। देश के मंदिरों में दलित और पिछड़े पुजारियों की नियुक्ति का अभियान भी सिंहल ने चलाया। दलित और पिछड़ों को वेद पढ़ने के लिए सिंहल ने मुहिम चलाई, शंकराचार्यों से सहमति भी दिलवाई। दक्षिण भारत में दलित पुजारियों के प्रशिक्षण का बड़ा काम सिंहल ने शुरु करवाया।

हिंदुओँ के धर्मांतरण के खिलाफ भी सिंहल ने मोर्चा खोला वनवासी इलाकों और जनजातियों से जुड़े करीब 60 हजारगांवों में उन्होंने एकल स्कूल खुलवाए सैकड़ों छात्रावास भी पूर्वोत्तर से लेकर दक्षिण भारत तक खड़े किए। दुनिया के 60 से ज्यादा देशों में अशोक सिंहल ने विश्व हिंदू परिषद के सेवा कार्य शुरु किए, खास तौर पर संस्कृत, वेद और कर्मकांड और मंदिरों के रखरखाव पर उनका जोर था आधुनिक शिक्षा और शहरीकरण में उपभोक्तावाद के खिलाफ परिवार को मजबूती देने में भी वो जुटे रहे। यही वो दौर था जब राम मंदिर आंदोलन अयोध्या में करवट लेने लगा था सिंहल ने अयोध्या आंदोलन में वो चिंगारी ढूंढ ली जिसमें देश की राजनीति को बदल डालने की कुव्वत थी इसके पहले आरएसएस और वीएचपी के एजेंडे में दूर दूर तक राम मंदिर नहीं था कहते हैं कि 1980 में दिल्ली में पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस राम मंदिर की मांग को लेकर सिंघल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की तो वीएचपी का लेटर हेड भी उन्होंने इस्तेमाल नहीं किया रामजन्म भूमि में उतरने का फैसला अकेले सिंघल ने ले लिया तो फिर पूरे संघ परिवार को पीछे चलने पर मजबूर कर दिया।

राम मंदिर को लेकर उनका जुड़ाव बेहद भावुक था जिस पर उन्होंने कभी कोई समझौता मंजूर नहीं किया…यही वजह है कि वो एनडीए सरकार के वक्त पीएम अटल बिहारी वाजपेई और एलके आडवाणी के खिलाफ मोर्चा खोलने में भी उन्होंने कोई गुरेज नहीं किया फिर वहा भरोसा टूटा लेकिन उम्मीद नहीं छोडी 2014 के चुनाव के पहले मोदी की पीएम उम्मीदवारी की मुहिम भी प्रयाग माघ मेले से सिंहल ने शुरु करवाई तो उनका सपना यही था कि मोदी सरदार पटेल की तरह सोमनाथ मंदिर की तरह अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए संसद में कानून लाकर सारे रोड़े खत्म करेंगे । लेकिन सपना यहा भी टूटा और शायद जीवन की डोर भी यही टूटी । सपना पूरा होने से पहले ही वो दुनिया छोड़कर चले गए।

 लेखक-पुण्य प्रसून बाजपेयी

 punya-prasun-bajpaiलेखक परिचय :- पुण्य प्रसून बाजपेयी के पास प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में 20 साल से ज़्यादा का अनुभव है।  प्रसून  देश के इकलौते ऐसे पत्रकार हैं, जिन्हें टीवी पत्रकारिता में बेहतरीन कार्य के लिए वर्ष 2005 का ‘इंडियन  एक्सप्रेस गोयनका  अवार्ड फ़ॉर एक्सिलेंस’ और प्रिंट मीडिया में बेहतरीन रिपोर्ट के लिए 2007 का रामनाथ  गोयनका अवॉर्ड मिला।






Related Articles

Atal Pension Yojana: सुपरहिट सरकारी योजना

Atal Pension Yojana: सुपरहिट सरकारी योजना रोजाना 7 रुपये बचाएं और पाएं 60 हजार पेंशनAtal Pension Yojana Benefits: अटल पेंशन योजना में निवेश करने के...

RBI Digital Rupee Scheme: आरबीआई ने डिजिटल रुपया योजना के लिए किया इन 8 बैंकों का चयन

RBI Digital Rupee Scheme: आरबीआई ने डिजिटल रुपया योजना के लिए किया इन 8 बैंकों का चयन ग्राहकों को मिलेंगी ये सुविधाएंRBI Digital Rupee Scheme:फोनपे...

Hockey: भारतीय हॉकी के दिन बदल सकते हैं पूर्व खिलाड़ी दिलीप तिर्की, अध्यक्ष पद के लिए किया नामांकन

दिलीप टिर्की भारतीय हॉकी टीम के पहले ऐसे आदिवासी खिलाड़ी रहे हैं, जिन्होंने लगातार तीन ओलंपिक खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया। उन्होंने वर्ष...

ऑस्‍ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर Ricky Ponting अस्‍पताल में भर्ती, मैच की कमेंट्री करते बिगड़ी तबीयत

पोंटिंग पर्थ में ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज के बीच पहले टेस्ट के तीसरे दिन के दौरान चैनल 7 के लिए कमेंट्री कर रहे थे। द...

Cirkus Trailer: रिलीज हुआ रणवीर सिंह की फिल्म सर्कस का ट्रेलर

दीपिका पादुकोण की एंट्री ने किया सरप्राइजरणवीर सिंह की फिल्म 'सर्कस' का ट्रेलर रिलीज हो चुका है। इस फिल्म के ट्रेलर में आपको सर्कस...

Jubin Nautiyal को मिली अस्‍पताल से छुट्टी

Jubin Nautiyal को मिली अस्‍पताल से छुट्टी फेसबुक पोस्‍ट में फैन्‍स को कहा प्रार्थनाओं के लिए धन्यवाद जुबिन ने फेसबुक पर अपना हेल्‍थ अपडेट देते हुए...

वेस्टर्न ड्रेस में भी ग्लैमरस लगती है वायरल गर्ल आयशा

Pakistani Girl Ayesha Photos: पाकिस्तानी गर्ल आयशा लता मंगेशकर के गाने 'मेरा दिल ये पुकारे आजा' पर अपने डांस परफॉर्मेंस से वायरल हुईं है।...

अफगानिस्तान के पूर्व पीएम की हत्या की कोशिश, बाल-बाल बचे गुलबुद्दीन हिकमतयार

Attack on Hekmatyar: अफगानिस्तान में गृह युद्ध शुरू हुआ, तो इस दौरान हिकमतयार ने काबुल पर कब्जे के लिए इतने रॉकेट दागे कि उन्हें...

दिल्ली नगर निगम चुनाव कल

Delhi MCD Elections 2022: नगर निकाय चुनाव की मतगणना सात दिसंबर को होगी। 250 वार्डों के लिए सुबह आठ बजे से शाम साढ़े पांच...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Stay Connected

5,577FansLike
13,774,980FollowersFollow
130,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

Atal Pension Yojana: सुपरहिट सरकारी योजना

Atal Pension Yojana: सुपरहिट सरकारी योजना रोजाना 7 रुपये बचाएं और पाएं 60 हजार पेंशनAtal Pension Yojana Benefits: अटल पेंशन योजना में निवेश करने के...

RBI Digital Rupee Scheme: आरबीआई ने डिजिटल रुपया योजना के लिए किया इन 8 बैंकों का चयन

RBI Digital Rupee Scheme: आरबीआई ने डिजिटल रुपया योजना के लिए किया इन 8 बैंकों का चयन ग्राहकों को मिलेंगी ये सुविधाएंRBI Digital Rupee Scheme:फोनपे...

Hockey: भारतीय हॉकी के दिन बदल सकते हैं पूर्व खिलाड़ी दिलीप तिर्की, अध्यक्ष पद के लिए किया नामांकन

दिलीप टिर्की भारतीय हॉकी टीम के पहले ऐसे आदिवासी खिलाड़ी रहे हैं, जिन्होंने लगातार तीन ओलंपिक खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया। उन्होंने वर्ष...

ऑस्‍ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर Ricky Ponting अस्‍पताल में भर्ती, मैच की कमेंट्री करते बिगड़ी तबीयत

पोंटिंग पर्थ में ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज के बीच पहले टेस्ट के तीसरे दिन के दौरान चैनल 7 के लिए कमेंट्री कर रहे थे। द...

Cirkus Trailer: रिलीज हुआ रणवीर सिंह की फिल्म सर्कस का ट्रेलर

दीपिका पादुकोण की एंट्री ने किया सरप्राइजरणवीर सिंह की फिल्म 'सर्कस' का ट्रेलर रिलीज हो चुका है। इस फिल्म के ट्रेलर में आपको सर्कस...