कंगना के सामने आई इस नई मुसीबत, बॉम्बे हाई कोर्ट जाने का फैसला

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत और बीएमसी के बीच का आमना-सामना अभी भी थमने का नाम नहीं ले रहा है। कंगना रनौत और महाराष्ट्र सरकार के बीच लगातार हंगामा जारी है। कंगना रनौत के कार्यालय को बीएमसी ने तोड़ दिया था यह मामला राज्य के शीर्ष अदालत पहुंचा था। जिसके बाद कंगना के पक्ष में फैसला आया था और अदालत ने कहा था कि किसी भवन को इस तरह से तोड़कर छोड़ा नहीं जा सकता ऐसे में उसकी मरम्मत का काम बीएमसी को कराना होगा। अब कंगना के सामने एक और मुसीबत आ गई है।

कंगना के सामने आई इस नई मुसीबत के बाद उन्होंने फैसला लिया है कि वह इसको लेकर बॉम्बे हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगी। दरअसल कंगना के घर को तोड़ने और उसमें हुए अवैध निर्माण की बात को लेकर बीएमसी ने एक नोटिस जारी किया था जिसके बाद कंगना ने इससे बचने के लिए मुंबई के सिविल कोर्ट का रूख किया था लेकिन अदालत ने उनकी याचिका को खारिज कर दिया है।

कंगना रनौत ने इस याचिका को खारिज कर दिए जाने के बाद ही बॉम्बे हाई कोर्ट जाने का फैसला किया है। इसको लेकर कंगना के वकील रिजवान सिद्दीकी ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। कंगना के वकील ने ट्वीट किया, ‘हां, कोर्ट में मेरी क्लाइंट मिस कंगना रनौत की डी बी ब्रीज बिल्डिंग को लेकर दर्ज अंतरिम प्रोटेक्शन की याचिका खारिज कर दी गई है। अब हम इस मामले को बॉम्बे हाई कोर्ट ले जाएंगे।


इस पूरे मामले पर जब दिन्दोशी सिविल कोर्ट में बहस चल रही थी और इसे अदालत की तरफ से खारिज कर दिया गया तब कंगना रनौत और उनके वकील में से कोई वहां अदालत में याचिका खारिज होने के समय मौके पर मौजूद नहीं थे। बीएमसी की तरफ से 2018 में एक नोटिस इसको लेकर कंगना रनौत को भेजा गया था। इसमें कहा गया था कि कंगना ने अपने खार स्थित अपार्टमेंट में अवैध निर्माण करवाया है।

बीएमसी की तरफ से जारी इस नोटिस का कंगना ने 2019 में जवाब दिया था। अब जब इस मामले में कंगना की याचिका निचली अदालत ने खारिज कर दी है तो उन्होंने बॉम्बे हाई कोर्ट में मामले को ले जाने का मन बनाया है। कंगना रनौत लगातार कई विवादों का सामना कर रही है। उनके बयानों की वजह से उनकी मुश्किल बढ़ती जा रही है। कंगना के बयानों की वजह से भी उनके खिलाफ कई मामले दर्ज हुए हैं।