26.1 C
Indore
Monday, June 14, 2021

Chandra Grahan: जानिए आज के चंद्रग्रहण के पीछे का विज्ञानं

चंद्रग्रहण (Penumbral Lunar Eclipse) होगा। 21 जून को सूर्यग्रहण भी लग रहा है। उसके बाद 5 जुलाई को फिर से उपच्‍छाया चंद्रग्रहण लगेगा। एक महीने के भीतर तीन ग्रहण आखिर बार 58 साल पहले जुलाई-अगस्‍त में पड़े थे। ये योग अब 2020 में जून-जुलाई में बन रहा है। इस साल कुल छह ग्रहण लगने हैं जिनमें से दो सूर्यग्रहण, बाकी चंद्रग्रहण हैं।

नई दिल्‍ली: इस साल का दूसरा चंद्रग्रहण 5 जून की रात 11.16 बजे से लग रहा है। इसकी अवधि करीब सवा तीन घंटे होगी। इस ग्रहण को एशिया, ऑस्ट्रेलिया और अफ्रीका, साउथ अमेरिका, अटलांटिक में देखा जा सकेगा। यह उपच्‍छाया चंद्रग्रहण (Penumbral Lunar Eclipse) होगा। 21 जून को सूर्यग्रहण भी लग रहा है। उसके बाद 5 जुलाई को फिर से उपच्‍छाया चंद्रग्रहण लगेगा। एक महीने के भीतर तीन ग्रहण आखिर बार 58 साल पहले जुलाई-अगस्‍त में पड़े थे। ये योग अब 2020 में जून-जुलाई में बन रहा है। इस साल कुल छह ग्रहण लगने हैं जिनमें से दो सूर्यग्रहण, बाकी चंद्रग्रहण हैं।

क्‍या होता है उपच्‍छाया चंद्रग्रहण?
ज्‍योतिषियों के मुताबिक, उपच्‍छाया चंद्रग्रहण, छाया की छाया वाला माना जाता है जिसमें चंद्रमा के आकार पर कोई प्रभाव नही पड़ता। इसमें चंद्रमा की चांदनी में धुंधलापन आ जाता है। यानी चांदनी थोड़ी फीकी जरूर होगी मगर उसमें फर्क कर पाना मुश्किल होगा। रंग थोड़ा मटमैला हो सकता है। साइंस के मुताबिक, ऐसा ग्रहण तब लगता है जब सूरज, धरती और चांद एक सीध में नहीं आ पाते। सूरज की रोशन का कुछ हिस्‍सा चांद की सतह तक पहुंचने से धरती रोक लेती है। तब चांद की बाहरी की बाहरी सतह के पूरे हिस्‍से को धरती कवर कर लेती है जिसे उपच्‍छाया (penumbra) कहते हैं। ऐसे चांद को पूर्णिमा के चांद से अलग बता पाना मुश्किल होता है।

उपच्‍छाया चंद्रग्रहण की दो शर्तें
एक उपच्‍छाया चंद्रग्रहण तभी लगता है जब ये दो घटनाएं एक साथ हों।
1. चांद पूर्णिमा की तरफ बढ़ रहा होना चाहिए यानी शुक्‍ल पक्ष चल रहा हो।
2. सूर्य, पृथ्‍वी और चंद्रमा एक सीध में हों मगर उतने नहीं जितने आंशिक चंद्रग्रहण के दौरान होते हैं।

तीन तरह के होते हैं चंद्रग्रहण
उपच्‍छाया के अलावा दो प्रकार के ग्रहण और होते हैं। पूर्ण चंद्रग्रहण जिसमें धरती पूरी तरह से चांद को ढंक देती है। आंशिक चंद्रग्रहण में चांद की सतह का कुछ हिस्‍सा दिखता रहता है। चांद की अपनी कोई रोशनी नहीं है, वह सूरज की रोशनी को ही रात में परावर्तित करता है। इसलिए जब सूरज और चांद के बीच में धरती आती है तो उसकी रोशन चांद तक नहीं पहुंचती और हमें उतना चांद नजर नहीं आता।

Related Articles

खंडवा : गुलाब पंजाबी की हत्या का पूरा सच, कौन है कौशल उर्फ कौसर क्यों और कैसे किया मर्डर

खंडवा - मोबाईल दुकान संचालक का दिन - दहाडे हत्या करने वाला आरोपी 8 घंटे के अन्दर गिरफ्तार उक्त प्रकरण की घटना का...

यूपी बना पहला राज्य: अब तंबाकू उत्पाद बेचने के लिए लाइसेंस जरुरी

लखनऊ (शाश्वत तिवारी) : तंबाकू की बढ़ती समस्या और जनस्वास्थ्य को इससे हो सकने वाले खतरे का ख्याल रखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने...

खंडवा: 24 घंटे में चाकूबाजी की दो वारदात, कारोबारी गुलाब पंजाबी की मौत से दहशत

खंडवा - थाना सिटी कोतवाली थानान्तर्गत स्टेशन रोड पार्वती बाई धर्मशाला के पास स्थित आकाश मोबाइल दुकान पर दुकान संचालक गुलाब पंजाबी...

सिंधिया अपना अस्तित्व बचाने दर-दर भटक रहे – पूर्व मंत्री

गोविंद सिंह ने कहा कि सिंधिया दावा करते हैं कि अवैध उत्खनन के खिलाफ उनका झंडा बुलन्द है। हम उनसे आग्रह करते हैं कि...

केंद्रीय मंत्री ने दिया बड़ा बयान, महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना बना सकते हैं सरकार!

ठाकरे और मोदी की मुलाकात के बाद शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने प्रधानमंत्री मोदी की प्रशंसा की। इसका जिक्र करते हुए रामदास अठावले ने...

लालू के जन्मदिन पर बिहार में ‘कुछ होने वाला है’, बंद कमरे में मांझी और तेजप्रताप की मुलाकात

पटना : आज बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के जन्मदिन पर बिहार में एक बहुत बड़ी राजनीतिक घटना घटी है। लालू प्रसाद...

BJP के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय और उनके बेटे शुभ्रांशु रॉय TMC में शामिल

मुकुल राय ने एक बार फिर घर वापसी करते हुए शुक्रवार को तृणमूल कांग्रेस ज्वाइन कर ली है। इससे पहले वे अपने घर...

वैक्सीन का दूसरा डोज लेने में हुई देरी तो क्या होगा ? जानिए इन सवालों के जवाब

भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर का कहर अब कंट्रोल में हैं। अब हर दिन एक लाख से भी कम केस आ रहे...

सौहार्द की परीक्षा से गुज़रता उत्तर प्रदेश

देश के सबसे बड़े व राजनैतिक एतबार से सबसे महत्वपूर्ण समझे जाने वाले राज्य उत्तर प्रदेश में जैसे जैसे विधान सभा के आम चुनाव...

Stay Connected

5,577FansLike
13,774,980FollowersFollow
119,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

खंडवा : गुलाब पंजाबी की हत्या का पूरा सच, कौन है कौशल उर्फ कौसर क्यों और कैसे किया मर्डर

खंडवा - मोबाईल दुकान संचालक का दिन - दहाडे हत्या करने वाला आरोपी 8 घंटे के अन्दर गिरफ्तार उक्त प्रकरण की घटना का...

यूपी बना पहला राज्य: अब तंबाकू उत्पाद बेचने के लिए लाइसेंस जरुरी

लखनऊ (शाश्वत तिवारी) : तंबाकू की बढ़ती समस्या और जनस्वास्थ्य को इससे हो सकने वाले खतरे का ख्याल रखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने...

खंडवा: 24 घंटे में चाकूबाजी की दो वारदात, कारोबारी गुलाब पंजाबी की मौत से दहशत

खंडवा - थाना सिटी कोतवाली थानान्तर्गत स्टेशन रोड पार्वती बाई धर्मशाला के पास स्थित आकाश मोबाइल दुकान पर दुकान संचालक गुलाब पंजाबी...

सिंधिया अपना अस्तित्व बचाने दर-दर भटक रहे – पूर्व मंत्री

गोविंद सिंह ने कहा कि सिंधिया दावा करते हैं कि अवैध उत्खनन के खिलाफ उनका झंडा बुलन्द है। हम उनसे आग्रह करते हैं कि...

केंद्रीय मंत्री ने दिया बड़ा बयान, महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना बना सकते हैं सरकार!

ठाकरे और मोदी की मुलाकात के बाद शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने प्रधानमंत्री मोदी की प्रशंसा की। इसका जिक्र करते हुए रामदास अठावले ने...