19 C
Indore
Monday, December 6, 2021

पीएम किसान योजना के लिए 31 मार्च तक करवाएं रजिस्ट्रेशन

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की अगली किस्त किसानों के खातों में जमा होना है। इसके लिए मोदी सरकार ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। वहीं किसानों से अपील की जा रही है कि वे अपने खाते को आधार से लिंक जरूर करवा लें। यह काम इसी महीने यानी 31 मार्च तक होना है। जिन किसानों के खाते आधार से लिंक नहीं होंगे, उन्हें राशि मिलने में परेशानी आ सकती है। साथ ही जिन किसानों में अब तक रजिस्ट्रेशन नहीं करवाया है, उनके पास 31 मार्च 2021 तक का मौका है। अच्छी बात यह है कि जो किसान 31 मार्च तक रजिस्ट्रेशन करवाते हैं, उन्हें 4000 रुपए मिलेंगे। नियमानुसार, योजना शुरू होने के बाद जो किसान रजिस्ट्रेशन करवाते हैं, उन्हें पहली बार में एक साथ दो किस्त मिलती है। यह राशि सीधे खातों में जमा होगी।

बता दें, PM Kisan Yojana के तहत देश के करोड़ों किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। PM Kisan Yojana के तहत तीन किस्त में राशि किसानों के खातों में जमा की जाती है। पहली किस्‍त 1 अप्रैल से 31 जुलाई के बीच, दूसरी किस्‍त 1 अगस्‍त से 30 नवंबर के बीच और आखिरी किस्‍त 1 द‍िसंबर से 31 दिसंबर के बीच सीधे खातों में ट्रांसफर होती है। इस तरह सरकार सालाना छह हजार रुपए किसानों के खातों में जमा करती है। अब तक देश में 1169 करोड़ किसान पीएम किसान सम्‍मान निधि पा रहे हैं।

आधार से खाते की लिंकिंग इन राज्यों के लिए जरूरी

PM Kisan Yojana के तहत खाते की आधार से लिंकिंग इस बार जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, मेघालय और असम के किसानों के लिए जरूरी है। क्योंकि बाकी प्रदेशों के किसान पहले ही यह काम कर चुके हैं। इन किसानों को दिसंबर 2019 में आधार को खातों से लिंक करवा दिया गया था। अधिकारियों के मुताबिक, जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, मेघालय और असम के किसानों के लिए 31 मार्च की तारीख रखी गई है। यदि ये किसान ऐसा नहीं करते हैं तो PM Kisan Yojna की राशि जमा नहीं होगी। जिन किसानों में अब तक PM Kisan Yojna के लिए रजिस्ट्रेशन नहीं करवाया है, उनके पास 31 मार्च तक का समय है। जो किसान अब रजिस्ट्रेशन करवाएंगे, उन्हें 1 अगस्‍त से 30 नवंबर के बीच दूसरी किस्त मिलेगी।

योजना के शुरुआती दौर में केवल 2 हेक्टेयर यानी 5 एकड़ जमीन वाले किसानों को शामिल किया जाता था, लेकिन अब सभी किसानों को इसका लाभ दिया जा रहा है। आवेदन का तरीका नीचे बताया गया है। जमीन के कागजात जैसे खसर, खतौनी होने अनिवार्य हैं। आवेदन करने वाले किसान के आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, बैंक खाता पासबुक, और पासपोर्ट साइज फोटो होना चाहए।

सबसे पहले योजना से जुड़ी आधिकारिक साइट https://pmkisan.gov.in/ पर जाएं।
यहां “Farmers Corner” सेक्शन में जाएं
यहां “New Farmer Registration” ऑप्शन पर क्लिक करें
नया पेज खुलेगा जिसमें आधार नंबर मांगा जाएगा। आधार नंबर भरने के बाद इमेज कोड दर्ज करें ( जो फोटो में अक्षर दिखाई देंगे वो दिए गए स्थान में भर दें) और “Click Here to Continue” पर क्लिक करें।

एक बॉक्स खुलेगा जिसमें चुनने के लिए कहा जायेगा के आप रूरल या गांव के किसान हैं या फिर अर्बन यानी के शहरी किसान हैं।
सही चुनाव करके यस पर क्लिक करें
नया पेज खुलेगा जिसमें Kisan Samman Nidhi Registration Form दिखाई देगा। फॉर्म को पूरा भरें। जानकारी भरने के बाद सेव पर क्लिक करें।
नया पेज खुलेगा जिसमे आपसे जमीन से संबंधित दस्तावे की जानकारी दर्ज करना होगी। इसमें खसरा नंबर और खाता नंबर दर्ज करना होगा।
सेव पर क्लिक करें, रजिस्ट्रेशन हो जाएगा।
रजिस्ट्रेशन नंबर, रिफरेन्स नंबर संभाल कर रखें।

Related Articles

पंजाब : पंजाब लोक कांग्रेस का दफ्तर खुला, भाजपा के साथ चुनाव लड़ने का एलान

कैप्टन ने ट्वीट किया कि पंजाब की समृद्धि और सुरक्षा के लिए ईश्वर से प्रार्थना की, क्योंकि मैं अपने राज्य और इसके लोगों के...

मुसलमान का नेता मुस्लिम नहीं, हिंदू होता है – भाजपा नेता

हरदोई में शहर के श्रवण देवी मंदिर परिसर में आयोजित दलित सम्मेलन में भाजपा नेता पूर्व सांसद नरेश अग्रवाल ने मंच से संबोधित करते...

शरद पवार बोले- सावरकर ने बताए थे गोमांस खाने के फायदे, मंदिर में रखा था दलित पुजारी 

मुंबई : सावरकर को लेकर विवाद थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। अब राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के मुखिया शरद पवार ने सावरकर...

नागालैंड: सुरक्षाबलों ने मार दिए 14 आम नागरिक, विरोध में भड़के लोग; दिल्ली में हाई लेवल मीटिंग

नई दिल्लीः नागालैंड में सुरक्षाबलों की गोलीबारी में 14 आम नागरिकों की मौत के बाद स्थानीय लोगों भड़क गए हैं। सुरक्षा बलों के आंतकवाद...

भाई की शादी में बचा खाना परोसने रेलवे स्टेशन पहुंची बहन, सोशल मीडिया यूजर्स भी हुए मुरीद

कोलकाता: भारत में शादी ब्याह समारोह के दौरान खानपान की बर्बादी बहुत देखने को मिलती है। छोटा समारोह हो या बड़ा आयोजन टारगेट से...

इस्लाम से निकले गए वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, रिजवी से बने त्यागी

गाजियाबाद : शिया वक्फ़ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी ने सोमवार को गाजियाबाद के शिव शक्ति धाम स्थित डासना देवी मंदिर में हिंदू...

वरूण गांधी ने कहा- ये बेरोजगार युवा भी भारत मां के बेटे, बात मानना तो दूर, कोई इनकी बात सुनने तक को तैयार नहीं

लखनऊ : पांच चुनावी राज्यों में बेरोजगारी का मुद्दा भाजपा के गले की फांस बन सकता है। त्योहारी सीजन बीतने के साथ ही बेरोजगारी...

संसद टीवी: राज्यसभा से निलंबन के बाद नाराज प्रियंका चतुर्वेदी ने छोड़ा चैनल

नई दिल्लीः शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने रविवार को संसद टीवी छोड़ दी। यह कदम उन्होंने राज्यसभा से निलंबन के विरोध में उठाया। चतुर्वेदी...

पंजाब: गुरदासपुर में मिले ग्रेनेड व टिफिन बम डिफ्यूज, पठानकोट हमले से जुड़ रहे तार

गुरदासपुर: गुरदासपुर में मिले टिफिन बम और ग्रेनेड बरामदगी के तार पिछले दिनों पठानकोट के आर्मी क्षेत्र त्रिवेणी द्वार के पास ग्रेनेड हमले से...

Stay Connected

5,577FansLike
13,774,980FollowersFollow
124,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

पंजाब : पंजाब लोक कांग्रेस का दफ्तर खुला, भाजपा के साथ चुनाव लड़ने का एलान

कैप्टन ने ट्वीट किया कि पंजाब की समृद्धि और सुरक्षा के लिए ईश्वर से प्रार्थना की, क्योंकि मैं अपने राज्य और इसके लोगों के...

मुसलमान का नेता मुस्लिम नहीं, हिंदू होता है – भाजपा नेता

हरदोई में शहर के श्रवण देवी मंदिर परिसर में आयोजित दलित सम्मेलन में भाजपा नेता पूर्व सांसद नरेश अग्रवाल ने मंच से संबोधित करते...

शरद पवार बोले- सावरकर ने बताए थे गोमांस खाने के फायदे, मंदिर में रखा था दलित पुजारी 

मुंबई : सावरकर को लेकर विवाद थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। अब राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के मुखिया शरद पवार ने सावरकर...

नागालैंड: सुरक्षाबलों ने मार दिए 14 आम नागरिक, विरोध में भड़के लोग; दिल्ली में हाई लेवल मीटिंग

नई दिल्लीः नागालैंड में सुरक्षाबलों की गोलीबारी में 14 आम नागरिकों की मौत के बाद स्थानीय लोगों भड़क गए हैं। सुरक्षा बलों के आंतकवाद...

भाई की शादी में बचा खाना परोसने रेलवे स्टेशन पहुंची बहन, सोशल मीडिया यूजर्स भी हुए मुरीद

कोलकाता: भारत में शादी ब्याह समारोह के दौरान खानपान की बर्बादी बहुत देखने को मिलती है। छोटा समारोह हो या बड़ा आयोजन टारगेट से...