27.2 C
Indore
Monday, September 20, 2021

सरोगेसी बिल कैबिनेट में पास, जानिए सरोगेसी से जुड़ी खास बातें

DEMO-PIC
DEMO-PIC

नई दिल्ली- सरोगेसी को लेकर लंबे समय से चल रही बहस पर सरकार ने अपना रुख स्पष्‍ट कर दिया है। इस संबंध में कैबिनेट ने आज सरोगेसी बिल पास कर दिया। जिसमें साफ कर दिया गया है कि विदेशियों को भारत में किराए की कोख नहीं मिल पाएगी। इसके अलावा भारतीय दंपतियों के लिए भी अब सरोगेसी का सहारा लेना मुश्किल होगा।

बिल के अनुसार अब हर कोई बच्चे की चाहत में किराए की कोख नहीं ले पाएगा। हालांकि सरकार ने इस पर पाबंदी तो नहीं लगाई लेकिन कुछ शर्तों के साथ छूट दी है। बिल के अनुसार अब कोई व्यवसायिक उपयोग के लिए इसका इस्तेमाल नहीं कर पाएगा।

सरोगेसी की छूट केवल एक शर्त पर ही दी जाएगी जिसमें दंपति पूरी तरह बांझपन की बात सिद्ध कर दे। उन परिस्थितियों में केवल परोपकारी उद्देश्य के लिए ही इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

सरोगेसी मदर के लिए नियम तय कर दिया गया है, जिसमें केवल नजदीकी रिश्तेदार ही सरोगेट मदर बन सकती है। हालांकि नजदीकी रिश्तेदार को इसमें परिभाषित नहीं किया गया है। सरकार ने विदेशियों को भारत में आकर सरोगेसी मदर हायर करने के चलन पर भी अब रोक लगा दी है। पूर्व में विदेश मंत्रालय की ओर से इस संबंध में काफी शिकायतें मिली थीं। प्रस्तावित कानून के अनुसार केवल भारतीय दंपति को‌ जिनकी शादी को पांच साल हो चुके हैं उन्हें ही सरोगेसी की छूट मिलेगी।

ड्राफ्ट बिल में सरोगेसी मदर के अधिकारों की रक्षा पर सरकार ने विशेष ध्यान दिया है। इसके साथ ही सरकार ने नए सरोगेसी क्लीनिक पर भी रोक लगा दी है, ऐसे मामलों पर निगाह रखने के लिए अब एक बोर्ड का भी गठन किया जाएगा।

बता दें कि सरकार ने कुछ दिन पहले संसद में भी कहा था कि सरोगेसी के संबंध में नया कानून अभी प्रस्तावित है जो पूरी प्रक्रिया को वैधानिक और पारदर्शी बनाएगा। इस जल्द ही सदन के सामने लाया जा सकता है। इस बिल को शीतकालीन सत्र में संसद पेश किया जा सकता है।

क्या है सरोगेसी –
सरोगेसी एक महिला और एक दंपति के बीच का एक एग्रीमेंट है, जो अपना खुद का बच्चा चाहता है। सामान्य शब्दों में सरोगेसी का मतलब है कि बच्चे के जन्म तक एक महिला की ‘किराए की कोख।

आमतौर पर सरोगेसी की मदद तब ली जाती है जब किसी दंपति को बच्चे को जन्‍म देने में कठिनाई आ रही हो। बार-बार गर्भपत हो रहा हो या फिर बार-बार आईवीएफ तकनीक फेल हो रही है। जो महिला किसी और दंपति के बच्चे को अपनी कोख से जन्‍म देने को तैयार हो जाती है उसे ‘सरोगेट मदर’ कहा जाता है।

क्यों पड़ी सरोगेसी बिल की जरूरत
सरकार ने हाल में स्वीकार किया था कि वर्तमान में किराये की कोख संबंधी मामलों को नियन्त्रित करने के लिए कोई वैधानिक तंत्र नहीं होने के चलते ग्रामीण एवं आदिवासी इलाकों सहित विभिन्न क्षेत्रों में किराये की कोख के जरिये गर्भधारण के मामले हुए जिसमें शरारती तत्वों द्वारा महिलाओं के संभावित शोषण की आशंका रहती है।

कहां से मिलती है सरोगेट मदर-
सरोगेसी कुछ विशेष एजेंसी द्वारा उपलब्ध करवाई जाती है। इन एजेंजिस को आर्ट क्लीनिक कहा जाता है जो कि इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) की गाइडलाइंस फॉलो करती है। सरोगेसी का एक एग्रीमेंट बनवाया जाता है जिसे दो अजनबियों से हस्ताक्षर करवाएं जाते हैं जो कभी नहीं मिले। सरोगेट परिवार का सदस्य या दोस्त भी हो सकता है।

सरोगेसी के लिए भारत क्यों है पॉपुलर –
भारत में किराए की कोख लेने का खर्चा यानी सरोगेसी का खर्चा अन्य देशों से कई गुना कम है और साथ भारत में ऐसी बहुत सी महिलाएं उपलब्ध है जो सरोगेट मदर बनने को आसानी से तैयार हो जाती हैं। गर्भवती होने से लेकर डिलीवरी तक महिलाओं की अच्छी तरह से देखभाल तो होती ही है साथ ही उन्हें अच्छी खासी रकम भी दी जाती है।

इन स्थितियों में बेहतर विकल्प है सरोगेसी –
आईवीएफ उपचार फेल हो गया हो।
बार-बार गर्भपात हो रहा हो।
भ्रूण आरोपण उपचार की विफलता के बाद।
गर्भ में कोई विकृति होने पर।
गर्भाशय या श्रोणि विकार होने पर।
दिल की खतरनाक बीमारियां होने पर। जिगर की बीमारी या उच्च रक्तचाप होने पर या उस स्थिति में जब गर्भावस्था के दौरान महिला को गंभीर हेल्थ प्रॉब्लम होने का डर हो।
गर्भाशय के अभाव में।
यूट्रस का दुर्बल होने की स्थिति में।

क्‍या कहना है एक्‍सपर्ट का-
एससीआई हेल्थ केयर, आईएसआईएस हॉस्पीटल की आईवीएफ स्पेशलिस्ट डॉ. शिवानी सचदेव से सरोगेसी को लेकर लंबी बातचीत के दौरान डॉ. शिवानी का कहना है कि सरोगेसी बहुत महंगी प्रक्रिया है। इसके पूरे प्रॉसिजर में 10-15 लाख रूपए आसानी से लग जाते हैं।

वे आगे कहती हैं कि सरोगेसी का विकल्प चुनना गलत नहीं हैं लेकिन आपको पूरी जांच पड़ताल करनी चाहिए कि आप किस डॉक्टर के पास जा रहे हैं। वहां कौन सी सुविधाएं हैं। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च की वेबसाइट पर मान्यता प्राप्त क्लीनिक और डॉक्टर्स की सूची है। इन्हीं डॉक्टर्स के पास ही जाना चाहिए ना कि किसी भी स्थानीय क्लीनिक में जाना चाहिए। [एजेंसी]




Related Articles

ऑस्‍ट्रेलिया के परमाणु पनडुब्‍बी लेने पर चीन आगबबूला, ग्‍लोबल टाइम्‍स ने बताया अमेरिकी ‘Dog’

पेइचिंग : चीनी नौसेना के बढ़ते खतरे को देखते हुए ऑस्‍ट्रेलिया के महाविनाशकारी परमाणु पनडुब्‍बी बनाने के ऐलान से ड्रैगन का सरकारी मीडिया आगबबूला...

पब में फैशन शो को हिंदू संगठन ने जबरन कराया बंद, अयोजक पर लव-जिहाद बढ़ाने का आरोप

इंदौर : इंदौर के विजयनगर में एक पब में फैशन शो का आयोजन किया गया था, लेकिन हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं के हंगामे के...

यूपी चुनाव : आम आदमी पार्टी का सियासी दाव, सरकार बनी तो 300 यूनिट फ्री बिजली देंगे

लखनऊ : दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने लखनऊ में प्रेस कांफ्रेन्स करते हुए बड़ा एलान किया है। सिसोदिया ने कहा कि अगर...

आगामी उपचुनाव व मोदी के जन्मदीन की तैयारियों को लेकर सनावद भाजपा की बैठक सम्पन्न

सनावद: राष्ट्रीय सह कोषाध्यक्ष व मंदसौर सांसद सुधीर गुप्ता ने कार्यकर्ताओं को सम्बोधित कर आगामी समय मे उपचुनाव की तैयारियों को लेकर चर्चा की...

माँग कर खाने वालांे व कचरा उठाने वालों को भी मिलेगा, मुफ्त खाद्यान्न

हरदा: राष्ट्रीय खाद्यान्न सुरक्षा अधिनियम के तहत प्राथमिकता श्रेणी माँग कर खाने वाले एवं कचरा बीनकर जीवन-यापन करने वाले व्यक्ति एवं उसके परिजन को...

खंडवा : बाइक चोरी के आरोपी की पुलिस हिरासत में संदिग्ध मौत

खंडवा : खरगोन के बिष्ठान के बाद खंडवा में भी पुलिस हिरासत में मौत का मामला सामने आया है। बाइक चोरी के आरोपी की...

लोजपा सांसद प्रिंस पासवान के खिलाफ दुष्कर्म मामले में केस दर्ज, एफआईआर में चिराग का भी नाम

नई दिल्लीः लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद और चिराग पासवान के चचेरे भाई प्रिंस राज पासवान के खिलाफ दिल्ली के कनॉट प्लेस थाने में दुष्कर्म...

कांग्रेस छोड़ने वाले कर्नाटक के MLA का खुलासा, ”बीजेपी ज्‍वॉइन करने के लिए पैसे ऑफर किए थे ”

बेलगांव (कर्नाटक): भारतीय जनता पार्टी (BJP) के विधायक श्रीमंत बालासाहेब पाटिल (Shrimant Balasaheb Patil) ने सनसनीखेज खुलासा करते हुए कहा कि कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस...

भूपेंद्र पटेल ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, पीएम मोदी ने दी बधाई, रूपाणी को लेकर कही बड़ी बात

अहमदबाद :गुजरात के मनोनीत नए मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने आज राज्य के 17वें मुख्यमंत्री के तौर पर राज्यपाल के समक्ष पद और गोपनीयता की शपथ...

Stay Connected

5,577FansLike
13,774,980FollowersFollow
121,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

ऑस्‍ट्रेलिया के परमाणु पनडुब्‍बी लेने पर चीन आगबबूला, ग्‍लोबल टाइम्‍स ने बताया अमेरिकी ‘Dog’

पेइचिंग : चीनी नौसेना के बढ़ते खतरे को देखते हुए ऑस्‍ट्रेलिया के महाविनाशकारी परमाणु पनडुब्‍बी बनाने के ऐलान से ड्रैगन का सरकारी मीडिया आगबबूला...

पब में फैशन शो को हिंदू संगठन ने जबरन कराया बंद, अयोजक पर लव-जिहाद बढ़ाने का आरोप

इंदौर : इंदौर के विजयनगर में एक पब में फैशन शो का आयोजन किया गया था, लेकिन हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं के हंगामे के...

यूपी चुनाव : आम आदमी पार्टी का सियासी दाव, सरकार बनी तो 300 यूनिट फ्री बिजली देंगे

लखनऊ : दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने लखनऊ में प्रेस कांफ्रेन्स करते हुए बड़ा एलान किया है। सिसोदिया ने कहा कि अगर...

आगामी उपचुनाव व मोदी के जन्मदीन की तैयारियों को लेकर सनावद भाजपा की बैठक सम्पन्न

सनावद: राष्ट्रीय सह कोषाध्यक्ष व मंदसौर सांसद सुधीर गुप्ता ने कार्यकर्ताओं को सम्बोधित कर आगामी समय मे उपचुनाव की तैयारियों को लेकर चर्चा की...

माँग कर खाने वालांे व कचरा उठाने वालों को भी मिलेगा, मुफ्त खाद्यान्न

हरदा: राष्ट्रीय खाद्यान्न सुरक्षा अधिनियम के तहत प्राथमिकता श्रेणी माँग कर खाने वाले एवं कचरा बीनकर जीवन-यापन करने वाले व्यक्ति एवं उसके परिजन को...