भाजपा ने मेरी जनादेश प्राप्त सरकार को षड्यंत्र का खेल रच गिराया – कमलनाथ

शिवराज के इस खुलासे के साथ ही कांग्रेस हमलावर हो गयी है। वो पहले ही लगातार ये कहती आ रही है कि बीजेपी ने ही उसकी चुनी हुई सरकार गिरायी थी।

मध्य प्रदेश के सियासी हलकों में सीएम शिवराज सिंह चौहान के एक वायरल ऑडियो क्लिप से राजनीतिक पारा गर्म हो गया है। ऑडियो वायरल होने के बाद अब पूर्व सीएम कमलनाथ भाजपा पर हमलावर हो गए हैं।

उन्होंने कहा कि “मैं तो शुरू दिन से ही कह रहा था कि भाजपा ने मेरी बहुमत व जनादेश प्राप्त सरकार को जान-बूझकर साज़िश-षड्यंत्र व प्रलोभन का खेल रच गिराया है क्योंकि मेरी सरकार किसानों का क़र्ज़ माफ़ कर रही थी, युवाओं को रोज़गार दे रही थी, महिलाओं को सुरक्षा देकर उनके सम्मान की रक्षा कर रही थी, मिलावट व माफ़ियाओं के ख़िलाफ़ अभियान चला रही थी, प्रदेश में निवेश ला रही थी, निरंतर जन-हितैषी कार्य कर रही थी, भाजपा को यह सब सहन नहीं हुआ।

उन्होंने अपने ट्वीट में आगे लिखा “उसे डर व भय था कि इन सब कार्यों से उसका वर्षों तक सत्ता में वापस लौटना नामुमकिन हो जायेगा। अब तो इस बात की पुष्टि भी हो गयी और सच्चाई भी प्रदेश की जनता के सामने आ गयी कि मेरी सरकार को गिराने के लिये किस तरह की साज़िश व खेल रचा गया और उसमें कौन-कौन शामिल था। जो लोग कहते थे कि कांग्रेस की सरकार के पास बहुमत नहीं था, वो अपने असंतोष से गिरी, हमने नहीं गिरायी, उनके झूठ की पोल भी अब सभी के सामने आ चुकी है। शिवराज ने 15 वर्ष झूठ के बल पर सरकार चलायी, जनता ने सबक़ भी सिखाया लेकिन अभी भी निरंतर झूठ परोस रहे है।”

वायरल ऑडियो में कमलनाथ सरकार को सत्ता से बेदखल करने के बाद वर्तमान सीएम शिवराज ये कहते सुनाई दे रहे हैं कि मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार गिराने का आदेश पार्टी आलाकमान से मिला था।

शिवराज के इस खुलासे के साथ ही कांग्रेस हमलावर हो गयी है। वो पहले ही लगातार ये कहती आ रही है कि बीजेपी ने ही उसकी चुनी हुई सरकार गिरायी थी।

रिपोर्ट के मुताबिक दो दिन पहले अपनी इंदौर यात्रा के दौरान सीएम शिवराज सिंह चौहान ने शहर की रेसीडेंसी कोठी में सांवेर के कार्यकर्ताओं को संबोधित किया था।

इस कार्यक्रम में मीडिया के प्रवेश पर प्रतिबंध था, ये ऑडियो उसी संबोधन का बताया जा रहा है। इसमें सीएम शिवराज सिंह चौहान कह रहे हैं कि बीजेपी केन्द्रीय नेतृत्व ने तय किया था कि कमलनाथ सरकार गिरनी चाहिए। नहीं तो ये मध्‍य प्रदेश को बर्बाद कर देगी, तबाह कर देगी।

वह कार्यकर्ताओं को कहते सुनाई पड़ रहे हैं, ‘आप बताओ ज्योतिरादित्य सिंधिया और तुलसी भाई के बिना सरकार गिर सकती थी क्या? और कोई तरीका नहीं था। धोखा न तुलसी सिलावट ने दिया और न ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दिया। धोखा कांग्रेस ने दिया।’

शिवराज सिंह का ऑडियो वायरल होने के बाद कांग्रेस प्रवक्ता नरेन्द्र सलूजा ने कहा, ‘बीजेपी शुरू से ही कांग्रेस के इन आरोपों को नकारती रही, जबकि पूरे प्रदेश ने देखा कि जो विधायक बेंगलुरु में बंधक बनाए गए थे। लेकिन अब तो प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खुद इंदौर के रेसीडेंसी कोठी में सांवेर के कार्यकर्ताओं की एक बैठक में सार्वजनिक रूप से ये स्वीकार कर कांग्रेस के उन आरोपों पर मुहर लगा दी है।

इस ऑडियो को लेकर अब मध्य प्रदेश में सियासी पारा खासा गर्म हो चुका है पूर्व सीएम कमलनाथ ने भी इस ऑडियो को लेकर अब भाजपा और शिवराज सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।