20.2 C
Indore
Saturday, October 16, 2021

पीएम आवास मिल जाता तो दो मासूम नहीं मारे जाते, कच्ची दीवार गिरने से दो की मौत


खंडवा: सरकारी सिस्टम में गरीबों के सर पर छत और मकान की योजना होने के बावजूद एक गरीब परिवार के दो लोगों को मौत सस्ते में उठा ले गई l खंडवा जिले के किल्लौद विकासखंड के ग्राम नांदिया रैयत में कच्चे मकान की दीवार गिरने से यह हादसा हुआ l एक मृतिका गर्भवती बताई गई है l ऐसे में देखा जाए तो दो नहीं तीन मौतें हुई हैं l

नींद में ही उठा ले गई मौत – ग्राम नांदिया में सुबह 7:00 बजे की घटना है जब हसीब खान का परिवार सो रहा था l उसी वक्त कच्ची दीवार गिर गई l दीवार गिरने से हसीब खान की पुत्री गुलाबसा पुत्र आशिक उम्र 15 वर्ष की मौत हो गई है l
उन्हें किल्लौद के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ले जाया गया, जहां बीएमओ डॉ धर्मेंद्र शर्मा ने उन्हें मृत घोषित किया l थाना प्रभारी किल्लौद ने मौका मुआयना किया l पटवारी ने पंचनामा बनाया l

हकदार को क्यों नसीब नहीं हुई छत – दिल दहलाने वाली घटना से गांव में मातम है l ग्रामीणों का गुस्सा सरपंच और सचिव पर फूट रहा है l ग्रामीणों का कहना है कि 4 साल से गरीब हसीब सरपंच सचिव के चक्कर माथे पर सरकारी मदद से छत के लिए लगा रहा था l उसे पक्की पीएम आवास नहीं दी गई l नतीजा यह हुआ कि इतना बड़ा हादसे का शिकार उसके परिवार के लोग हुए l

तो क्या 3 मौतें हुई – बताया यह भी जा रहा है कि हसीब खान की पुत्री गुलाब शाह गर्भवती थी l देखा जाए तो एक परिवार में तीन मौतें हुई हैं l किल्लौद थाना प्रभारी अंजलि जाट सबसे पहले घटनास्थल पर पहुंची l पटवारी भूपेंद्र सिंह एवं बाद में तहसीलदार व एसडीओपी ने भी निरीक्षण किया ।

शव दफनाने दूसरे जिले जाना मजबूरी – घटना से सवाल कई उठ खड़े हुए हैं, जिसमें साफ लग रहा है कि बड़े लोगों ने भी प्रधानमंत्री आवास योजना का फायदा उठाया, लेकिन इस वास्तविक गरीब को यह सुविधा क्यों नहीं मिली? प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐसे ही निर्धन लोगों के लिए योजना लागू की थी l नांदियाखेड़ा गांव सुदूर और काफी पिछड़ा है l यहां तक की करीब ढाई सौ की आबादी वाले इस गांव के लोगों को कफन-दफन के लिए दूसरे जिले के कब्रिस्तान का मुंह झांकना पड़ता है l

पंचायती व्यवस्था कब सुधरेगी – नांदिया गांव की पंचायत ने भी इनकी तरफ कभी ध्यान नहीं दिया l न ही कोई जमीन इस तरह की एलॉट की गई है l कुछ क्रेशर वालों की भी अति यहां हो रही है l लोग डस्ट से संक्रमित होकर सीने में बड़ी बीमारियां पाल बैठे हैं l इनकी सुनने वाला कोई नहीं है l न ही किसी तरह का अवसर ध्यान देते हैं l पेयजल का भी संकट बना रहता है l पंचायत व्यवस्था का सिस्टम मुरैना स्टाइल का हो गया है l
रिपोर्ट – राजेंद्र पाराशर

Related Articles

छत्तीसगढ़ में हादसा: मूर्ति विसर्जन के लिए जा रहे लोगों को गाड़ी ने कुचला, एक की मौत, 16 घायल

जशपुर : छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में एक भीषण हादसे की जानकारी सामने आई है। यहां दुर्गा विसर्जन के लिए जा रहे कुछ लोगों...

सात नई रक्षा कंपनियों को पीएम मोदी ने किया राष्ट्र को समर्पित, भारत में बनेंगे पिस्टल से लेकर फाइटर प्लेन

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को सात नई रक्षा कंपनियों को राष्ट्र को समर्पित किया। उन्होंने कहा कि यह शुभ संकेत हैं...

दशहरे में रामचरित मानस की चौपाई के जरिए राहुल गांधी का मोदी सरकार पर निशाना, इस अंदाज में दी बधाई

नई दिल्लीः देशभर में दशहरा का त्यौहार मनाया जाएगा। इस अवसर पर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने रामचरित मानस की चौपाई ट्वीट कर एक...

भागवत : ‘जिनकी मंदिरों में आस्था नहीं, उनपर भी खर्च हो रहा मंदिरों का धन’, 

नई दिल्ली: दशहरा के मौके पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने नागपुर स्थित संघ मुख्यालय में लोगों को संबोधित किया। मोहन भागवत ने ने...

वैचारिक भ्रम का शिकार:वरुण गांधी

भारतवर्ष में आपातकाल की घोषणा से पूर्व जब स्वर्गीय संजय गांधी अपनी मां प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी को राजनीति में सहयोग देने के मक़सद से...

जम्मू-कश्मीर: पुंछ में एक बार फिर शुरू हुई सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़

जम्मू: जम्मू संभाग में पुंछ जिले के मेंढर सब-डिवीजन के भाटादूड़ियां इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच एक बार फिर मुठभेड़ शुरू हो...

हरियाणा: कुंडली बॉर्डर पर युवक की हत्या, पिटाई के बाद हाथ काट बैरिकेड से लटकाया

चंडीगढ़ : हरियाणा के सोनीपत में कुंडली बॉर्डर पर युवक की बर्बर तरीके से हत्या कर दी गई। तीन कृषि कानूनों को रद्द कराने...

CM Kejriwal: उपराज्यपाल को लिखा पत्र- दिल्ली में बेहतर है कोरोना की स्थिति, मिलनी चाहिए छठ पूजा की अनुमति

नई दिल्लीः राजधानी दिल्ली में महापर्व छठ को लेकर असमंजस बरकरार है। दिल्ली सरकार ने इस बाबत गाइडलाइंस जारी करने के लिए केंद्र सरकार...

सावरकर हिंदुत्व को मानते थे, लेकिन वह हिंदूवादी नहीं थे – रक्षामंत्री

उन्होंने कहा कि हिंदुत्व को लेकर सावरकर की एक सोच थी जो भारत की भौगोलिक स्थिति और संस्कृति से जुड़ी थी। उनके लिए हिन्दू शब्द...

Stay Connected

5,577FansLike
13,774,980FollowersFollow
122,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

छत्तीसगढ़ में हादसा: मूर्ति विसर्जन के लिए जा रहे लोगों को गाड़ी ने कुचला, एक की मौत, 16 घायल

जशपुर : छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में एक भीषण हादसे की जानकारी सामने आई है। यहां दुर्गा विसर्जन के लिए जा रहे कुछ लोगों...

सात नई रक्षा कंपनियों को पीएम मोदी ने किया राष्ट्र को समर्पित, भारत में बनेंगे पिस्टल से लेकर फाइटर प्लेन

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को सात नई रक्षा कंपनियों को राष्ट्र को समर्पित किया। उन्होंने कहा कि यह शुभ संकेत हैं...

दशहरे में रामचरित मानस की चौपाई के जरिए राहुल गांधी का मोदी सरकार पर निशाना, इस अंदाज में दी बधाई

नई दिल्लीः देशभर में दशहरा का त्यौहार मनाया जाएगा। इस अवसर पर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने रामचरित मानस की चौपाई ट्वीट कर एक...

भागवत : ‘जिनकी मंदिरों में आस्था नहीं, उनपर भी खर्च हो रहा मंदिरों का धन’, 

नई दिल्ली: दशहरा के मौके पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने नागपुर स्थित संघ मुख्यालय में लोगों को संबोधित किया। मोहन भागवत ने ने...

वैचारिक भ्रम का शिकार:वरुण गांधी

भारतवर्ष में आपातकाल की घोषणा से पूर्व जब स्वर्गीय संजय गांधी अपनी मां प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी को राजनीति में सहयोग देने के मक़सद से...