22.2 C
Indore
Friday, September 17, 2021

दिल की ज़ुबान बन गए आंसू टिकैत के

सत्ता समर्थित मीडिया ने 26 जनवरी की किसान ट्रैक्टर रैली के अस्त व्यस्त होने विशेषकर लाल क़िले की दुर्भाग्यपूर्ण घटना के बाद जिस किसान आंदोलन को लगभग समाप्त करने की ख़बरें चलानी शुरू कर दी थीं वही आंदोलन न केवल और अधिक तेज़ बल्कि और भी विस्तृत हो गया है। इस आंदोलन से सरकार को कैसे निपटना है ज़ाहिर है सरकार के सलाहकार व रणनीति कार इस मुद्दे पर अपना काम कर रहे हैं।

स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब 31 जनवरी को अपने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में लाल क़िले की घटना पर यह कहा कि -‘ दिल्ली में, 26 जनवरी को तिरंगे का अपमान देख, देश, बहुत दुखी हुआ’ परन्तु यह सब क्यों हुआ और किसान आंदोलन क्यों चल रहा है,इस विषय पर उनका कुछ भी न बोलना किसान आन्दोलन के प्रति सरकार की ‘चिंताओं’ को दर्शाता है।

यहां तक कि लगभग डेढ़ सौ किसानों का इस आंदोलन में शहीद हो जाना और कई किसानों व किसान नेताओं का आत्म हत्या करना भी सरकार के लिए अफ़सोस ज़ाहिर करने या चर्चा करने का विषय नहीं समझा गया। परन्तु ठीक इसके विपरीत सरकार के क़दमों से व्यथित किसान नेता राकेश टिकैत का दुखी मन से सार्वजनिक रूप से आंसू बहाना सरकार व सरकारी सलाहकारों के सभी मंसूबों पर पानी फेर गया।

शायर ने शायद इन्हीं परिस्थितियों के लिए कहा है कि ‘ज़ब्त की जब दीवार गिरे और आँखों से। बह निकले सैलाब,तो साथी आ जाना’।। ज़ब्त अर्थात (सहन शक्ति/धैर्य ) और ठीक वैसा ही हुआ। जब सरकार ने दिल्ली के ग़ाज़ीपुर बार्डर के धरना स्थल की बिजली पानी बंद की और भारतीय जनता पार्टी का एक विधायक ‘आंदोलनकारी किसानों को जूते मार कर भगाने’ का ऐलान करने लगा व सारे आंदोलनकारी किसानों को आतंकवादी बताने लगा उन हालात में राकेश टिकैत की आँखों से आंसू निकलना स्वभाविक था। राकेश टिकैत के अनुसार जिस विधायक ने किसानों पर हमला करवाया और गोली व जूते मारने बातें कर रहा था वही विधायक कुछ ही दिन पहले इसी आंदोलन को न केवल समर्थन देता है बल्कि आलू,चीनी व कंबल जैसी ज़रूरत की अनेक सामग्रियां भी भिजवाता है।

परन्तु किसके इशारे पर और किस रणनीति के तहत वही विधायक किसानों पर हमलावर हो जाता है ? हैरत की बात तो यह है कि सत्ता के पिट्ठू यह सब तब कर रहे हैं जबकि किसानों पर आंदोलन के प्रारंभ से ही लगने वाले तरह तरह के लांछनों के बावजूद अभी तक पूरा आंदोलन तिपूर्ण,व्यवस्थित व अनुशासित रूप से चलाया जा रहा है। परन्तु ग़ाज़ीपुर बॉर्डर पर सत्ता समर्थित भीड़ द्वारा किसानों पर हमला करना और उसके बावजूद किसानों का संयमित रहना और किसानों द्वारा किसी तरह का उपद्रव करने के बजाए उनके नेता राकेश टिकैत का आंसू बहाकर अपने दिल की व्यथा को ज़ाहिर करना आंदोलन में तो जान फूँक ही गया साथ साथ सरकार के लिए भी एक बड़ी चुनौती खड़ा कर गया। गोया राकेश टिकैत के आंसू आंदोलन के प्रवाह में सुनामी की भूमिका अदा कर गए। अब जबकि आंदोलन और भी तेज़ी से फैल रहा है और किसानों द्वारा लंबे संघर्ष की तैयारियाँ शुरू कर दी गयी हैं। सरकार भी अपने ‘एक्शन’ में आ चुकी है। देश के इतिहास में पहली बार दिल्ली की ऐसी अभेद सुरक्षा की जा रही है गोया दिल्ली को अपने ही देश के किसानों से नहीं बल्कि सीमापार के दुश्मनों से सुरक्षित रखने की तैयारी हो रही हो। कहीं कंक्रीट की दीवारें तो कहीं गहरी खाईयां,कहीं भारी भरकम घने बैरिकेड तो कहीं मोटी कीलों की सड़कों पर ढलाई। बिल्कुल ऐसा प्रतीत हो रहा है गोया दिल्ली को क़िले में परिवर्तित किया जा रहा हो।

यह उन किसानों को रोकने के नाम पर किया जा रहा है जिनके लिए प्रधानमंत्री का कहना है कि वे किसानों से एक कॉल की दूरी पर हैं,परन्तु फ़ासला इतना बढ़ाया जा रहा है कि कंक्रीट की दीवारों की ज़रूरत महसूस की जाने लगी ? सरकार द्वारा किसानों को दिल्ली पहुँचने से रोकने के लिए हरियाणा व दिल्ली के आसपास के कई क्षेत्रों में इंटरनेट सेवा कहीं ठप्प तो कहीं बाधित कर दी गयी। किसानों में सरकार के इस क़दम को लेकर भी काफ़ी ग़ुस्सा देखा जा रहा है। किसान नेता सरकार के इस क़दम को तानाशाही पूर्ण व सरकार द्वारा सच्चाई को छुपाने की क़वायद बता रहे हैं।

बेशक इस देश ने पहले भी राजनेताओं के आंसू बहते देखे हैं। हर आंसू की अपनी क़ीमत और वजह रही होगी। परन्तु टिकैत के आंसू न तो इस लिए थे की उनके सामने से ‘ सत्ता की थाली’ खींच ली गयी न ही उन्हें इस बात का गिला था की उन्हें अमुक पद से क्यों वंचित रखा गया। न ही इन आंसुओं में सांप्रदायिकता व जात पात को लेकर कोई गिला शिकवा था। बल्कि यह आंसू देश के प्रत्येक किसानों के अस्तित्व व उनकी रोज़ी रोटी की चिंताओं के लिए बहने वाले आंसू थे।

इन आंसुओं के पीछे किसी तरह का पाखंड,स्वार्थ,नाटक नौटंकी था बल्कि यह आंसू प्रत्येक उन साधारण व असाधारण भारतवासियों की थाली से जुड़ी उन चिंताओं के आंसू थे जिसका असहनीय बोझ प्रत्येक देशवासियों को भविष्य में उठाना पड़ सकता है। बहरहाल,पश्चिमी उत्तर प्रदेश से लेकर राजस्थान व हरियाणा में खाप पंचायतों का सिलसिला जारी है। प्रत्येक पंचायतों में किसानों द्वारा अपने नेता टिकैत के आंसुओं का ज़िक्र हो रहा है। किसान समझ चुका है कि धैर्य ज़ब्त व सहनशक्ति की दीवार अब ढह चुकी है। और सैलाब बने उनके नेता के आंसू अपने साथियों को आंदोलन में शामिल होने की दावत दे चुके हैं। कहना ग़लत नहीं होगा कि -‘दिल की ज़ुबान बन गए आंसू टिकैत के। निकले तो चंद बूँद थे,सैलाब बन गए ?
निर्मल रानी

Related Articles

ऑस्‍ट्रेलिया के परमाणु पनडुब्‍बी लेने पर चीन आगबबूला, ग्‍लोबल टाइम्‍स ने बताया अमेरिकी ‘Dog’

पेइचिंग : चीनी नौसेना के बढ़ते खतरे को देखते हुए ऑस्‍ट्रेलिया के महाविनाशकारी परमाणु पनडुब्‍बी बनाने के ऐलान से ड्रैगन का सरकारी मीडिया आगबबूला...

पब में फैशन शो को हिंदू संगठन ने जबरन कराया बंद, अयोजक पर लव-जिहाद बढ़ाने का आरोप

इंदौर : इंदौर के विजयनगर में एक पब में फैशन शो का आयोजन किया गया था, लेकिन हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं के हंगामे के...

यूपी चुनाव : आम आदमी पार्टी का सियासी दाव, सरकार बनी तो 300 यूनिट फ्री बिजली देंगे

लखनऊ : दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने लखनऊ में प्रेस कांफ्रेन्स करते हुए बड़ा एलान किया है। सिसोदिया ने कहा कि अगर...

आगामी उपचुनाव व मोदी के जन्मदीन की तैयारियों को लेकर सनावद भाजपा की बैठक सम्पन्न

सनावद: राष्ट्रीय सह कोषाध्यक्ष व मंदसौर सांसद सुधीर गुप्ता ने कार्यकर्ताओं को सम्बोधित कर आगामी समय मे उपचुनाव की तैयारियों को लेकर चर्चा की...

माँग कर खाने वालांे व कचरा उठाने वालों को भी मिलेगा, मुफ्त खाद्यान्न

हरदा: राष्ट्रीय खाद्यान्न सुरक्षा अधिनियम के तहत प्राथमिकता श्रेणी माँग कर खाने वाले एवं कचरा बीनकर जीवन-यापन करने वाले व्यक्ति एवं उसके परिजन को...

खंडवा : बाइक चोरी के आरोपी की पुलिस हिरासत में संदिग्ध मौत

खंडवा : खरगोन के बिष्ठान के बाद खंडवा में भी पुलिस हिरासत में मौत का मामला सामने आया है। बाइक चोरी के आरोपी की...

लोजपा सांसद प्रिंस पासवान के खिलाफ दुष्कर्म मामले में केस दर्ज, एफआईआर में चिराग का भी नाम

नई दिल्लीः लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद और चिराग पासवान के चचेरे भाई प्रिंस राज पासवान के खिलाफ दिल्ली के कनॉट प्लेस थाने में दुष्कर्म...

कांग्रेस छोड़ने वाले कर्नाटक के MLA का खुलासा, ”बीजेपी ज्‍वॉइन करने के लिए पैसे ऑफर किए थे ”

बेलगांव (कर्नाटक): भारतीय जनता पार्टी (BJP) के विधायक श्रीमंत बालासाहेब पाटिल (Shrimant Balasaheb Patil) ने सनसनीखेज खुलासा करते हुए कहा कि कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस...

भूपेंद्र पटेल ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, पीएम मोदी ने दी बधाई, रूपाणी को लेकर कही बड़ी बात

अहमदबाद :गुजरात के मनोनीत नए मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने आज राज्य के 17वें मुख्यमंत्री के तौर पर राज्यपाल के समक्ष पद और गोपनीयता की शपथ...

Stay Connected

5,577FansLike
13,774,980FollowersFollow
121,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

ऑस्‍ट्रेलिया के परमाणु पनडुब्‍बी लेने पर चीन आगबबूला, ग्‍लोबल टाइम्‍स ने बताया अमेरिकी ‘Dog’

पेइचिंग : चीनी नौसेना के बढ़ते खतरे को देखते हुए ऑस्‍ट्रेलिया के महाविनाशकारी परमाणु पनडुब्‍बी बनाने के ऐलान से ड्रैगन का सरकारी मीडिया आगबबूला...

पब में फैशन शो को हिंदू संगठन ने जबरन कराया बंद, अयोजक पर लव-जिहाद बढ़ाने का आरोप

इंदौर : इंदौर के विजयनगर में एक पब में फैशन शो का आयोजन किया गया था, लेकिन हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं के हंगामे के...

यूपी चुनाव : आम आदमी पार्टी का सियासी दाव, सरकार बनी तो 300 यूनिट फ्री बिजली देंगे

लखनऊ : दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने लखनऊ में प्रेस कांफ्रेन्स करते हुए बड़ा एलान किया है। सिसोदिया ने कहा कि अगर...

आगामी उपचुनाव व मोदी के जन्मदीन की तैयारियों को लेकर सनावद भाजपा की बैठक सम्पन्न

सनावद: राष्ट्रीय सह कोषाध्यक्ष व मंदसौर सांसद सुधीर गुप्ता ने कार्यकर्ताओं को सम्बोधित कर आगामी समय मे उपचुनाव की तैयारियों को लेकर चर्चा की...

माँग कर खाने वालांे व कचरा उठाने वालों को भी मिलेगा, मुफ्त खाद्यान्न

हरदा: राष्ट्रीय खाद्यान्न सुरक्षा अधिनियम के तहत प्राथमिकता श्रेणी माँग कर खाने वाले एवं कचरा बीनकर जीवन-यापन करने वाले व्यक्ति एवं उसके परिजन को...