22.1 C
Indore
Saturday, June 19, 2021

जानिये आखिर क्यों मनाया जाता है लोहड़ी पर्व

Learn why is celebrated Lohri festivalपंजाब एवं जम्मू कश्मीर में ‘लोहड़ी’ नाम से मकर संक्रांति पर्व मनाया जाता है। हिन्दू पंचांग के अनुसार लोहड़ी मकर संक्रांति के एक दिन पहले मनाई जाती है। लोहड़ी का पर्व जनवरी माह में मनाया जाता है। संक्रांति के एक दिन पूर्व जब सूरज ढल जाता है तब घरों के बाहर बड़े-बड़े अलाव जलाए जाते हैं। जनवरी की तीखी सर्दी में जलते हुए अलाव अत्यन्त सुखदायी व मनोहारी लगते हैं।

स्त्री तथा पुरुष सज-धजकर अलाव के चारों ओर एकत्रित होकर भांगड़ा नृत्य करते हैं। चूंकि अग्नि ही इस पर्व के प्रमुख देवता हैं, इसलिए चिवड़ा, तिल, मेवा, गजक आदि की आहूति भी अलाव में चढ़ायी जाती है। नगाड़ों की ध्वनि के बीच यह नृत्य एक लड़ी की भाँति देर रात तक चलता रहता है।

इसके बाद सभी एक-दूसरे को लोहड़ी की शुभकामनाएं देते हैं तथा आपस में भेंट बांटते हैं और प्रसाद वितरण भी होता है। प्रसाद में पांच मुख्य वस्तुएं होती हैं – तिल, गजक, गुड़, मूँगफली तथा मक्का के दाने। आधुनिक समय में लोहड़ी का पर्व लोगों को अपनी व्यस्तता से बाहर खींच लाता है। लोग एक-दूसरे से मिलकर अपना सुख-दु:ख बांटते हैं। यही इस उत्सव का मुख्य उद्देश्य भी है।

ये है लोहड़ी पर्व की कथा
द्वापरयुग में जब भगवान विष्णु ने श्रीकृष्ण के रूप में अवतार लिया, तब कंस सदैव बालकृष्ण को मारने के लिए नित नए प्रयास करता रहता था। एक बार जब सभी लोग मकर संक्रांति का पर्व मनाने में व्यस्त थे। कंस ने बालकृष्ण को मारने के लिए लोहिता नामक राक्षसी को गोकुल में भेजा, जिसे बालकृष्ण ने खेल-खेल में ही मार डाला था।

लोहिता नामक राक्षसी के नाम पर ही लोहड़ी उत्सव का नाम रखा। उसी घटना की स्मृति में लोहड़ी का पावन पर्व मनाया जाता है। सिंधी समाज में भी मकर संक्रांति से एक दिन पूर्व ‘लाल लोही’ के रूप में इस पर्व को मनाया जाता है।

पंजाब में मकर संक्रांति के एक दिन पूर्व लोहड़ी का पर्व बड़ी ही धूम-धाम से मनाया जाता है। होली की तरह ही लोहड़ी की शाम को भी लकडिय़ां इकट्ठी कर जलाई जाती हैं और तिलसे अग्निपूजा की जाती है। इस त्योहार का रोचक तथ्य यह है कि इस त्योहार के लिए बच्चों की टोलियां घर-घर जाकर लकडिय़ां इकट्ठा करती हैं और लोहड़ी के गीत गाती हैं। इनमें से एक गीत खूब पसंद किया जाता है-

सुंदर मुंदरिए। …हो
तेरा कैन बेचारा, …हो
दुल्ला भट्टी वाला, …हो
दुल्ले धी ब्याही, …हो
सेर शक्कर आई, …हो
कुड़ी दे बोझे पाई, …हो
कुड़ी दा लाल पटारा, …हो

एक किवदंती के अनुसार एक ब्राह्मण की बहुत छोटी कुंवारी कन्या को जो बहुत सुंदर थी उसे गुंडों ने उठा लिया। दुल्ला भट्टी ने जो मुसलमान था, इस कन्या को उन गुंडों से छुड़ाया और उसका विवाह एक ब्राह्मण के लड़के से कर दिया। इस दुल्ला भट्टी की याद आज भी लोगों के दिलों में हैं और लोहड़ी के अवसर पर छोटे बच्चे गीत गाकर दुल्ला भट्टी को याद करते हैं।

Related Articles

अमित शाह की अध्‍यक्षता में हाई लेवल बैठक, कश्मीर में क्या होने वाला हैं !

नई दिल्‍ली : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्‍यक्षता में शुक्रवार को एक हाई लेवल बैठक हुई। इसमें एनएसए अजीत डोभाल, केंद्रीय गृह...

Alert : अक्टूबर तक देश में आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर

नई दिल्लीः भारत में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चेतावनी जारी की गई है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के एक दल ने अक्टूबर तक देश...

 बाबा का ढाबा वाले कांता प्रसाद ने की आत्महत्या की कोशिश, अस्पताल में भर्ती

नई दिल्लीः एक वायरल वीडियो के जरिए पूरे देश में रातों-रात मशहूर हुए बाबा का ढाबा चलाने वाले कांता प्रसाद शुक्रवार को सफदरजंग अस्पताल...

काला गेंहू: जिंक और आयरन की मात्रा अधिक, आम गेंहू के मुकाबले ज्यादा पौष्टिक और इम्युनिटी बढानेवाला

लखनऊ (शाश्वत तिवारी): अपनी सेहत के लिए हमेशा जागरूक रहने वाले अवधवासियों के लिए खुशखबरी है कि पौष्टिक गुणों से भरपूर कला गेंहू और...

लोजपा : पारस ने चुनावों को सही बताया, बोले- चिराग अब राष्ट्रीय अध्यक्ष नहीं

पटना : लोजपा अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस ने पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए हुए चुनावों को सही ठहराया है। उन्होंने कहा कि पार्टी...

Twitter कंपनी के अधिकारी संसदीय समिति के सामने पेश, बयान दर्ज कराया

नई दिल्लीः ट्विटर और सरकार के बीच तनातनी बढ़ती जा रही है। संसदीय समिति ने आज शाम चार बजे ट्विटर के अधिकारियों को उसके समक्ष...

सीरम बच्चों के लिए नोवावैक्स टीके का करेगा ट्रायल, सितंबर तक देश में लाएगा कोवावैक्स

नई दिल्लीः भारतीय सीरम संस्थान (एसआईआई) बच्चों के लिए नोवावैक्स टीके का क्लीनिकल ट्रायल शुरू करने की योजना बना रहा है। सूत्रों ने गुरुवार...

सवर्ण महासंघ फाउंडेशन का बड़ा एक्शन, सभी कमेटियां भंग

लखनऊ (शाश्वत तिवारी): सवर्ण महासंघ फाउंडेशन को पिछले कई महीनों से ओड़ीसा के प्रदेश अध्यक्ष सुरेश शर्मा व उनकी टीम जिसमें कई राज्य कार्यकारिणी...

तीसरी लहर से पहले केजरीवाल सरकार की तैयारी- 5000 हेल्थ असिस्टेंट को दी जाएगी ट्रेनिंग, करेंगे ये काम

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जानकारी दी है कि भर्ती करने के बाद 5000 हेल्थ सहायकों को आइपी यूनिवर्सिटी के माध्यम...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Stay Connected

5,577FansLike
13,774,980FollowersFollow
120,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

अमित शाह की अध्‍यक्षता में हाई लेवल बैठक, कश्मीर में क्या होने वाला हैं !

नई दिल्‍ली : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्‍यक्षता में शुक्रवार को एक हाई लेवल बैठक हुई। इसमें एनएसए अजीत डोभाल, केंद्रीय गृह...

Alert : अक्टूबर तक देश में आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर

नई दिल्लीः भारत में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चेतावनी जारी की गई है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के एक दल ने अक्टूबर तक देश...

 बाबा का ढाबा वाले कांता प्रसाद ने की आत्महत्या की कोशिश, अस्पताल में भर्ती

नई दिल्लीः एक वायरल वीडियो के जरिए पूरे देश में रातों-रात मशहूर हुए बाबा का ढाबा चलाने वाले कांता प्रसाद शुक्रवार को सफदरजंग अस्पताल...

काला गेंहू: जिंक और आयरन की मात्रा अधिक, आम गेंहू के मुकाबले ज्यादा पौष्टिक और इम्युनिटी बढानेवाला

लखनऊ (शाश्वत तिवारी): अपनी सेहत के लिए हमेशा जागरूक रहने वाले अवधवासियों के लिए खुशखबरी है कि पौष्टिक गुणों से भरपूर कला गेंहू और...

लोजपा : पारस ने चुनावों को सही बताया, बोले- चिराग अब राष्ट्रीय अध्यक्ष नहीं

पटना : लोजपा अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस ने पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए हुए चुनावों को सही ठहराया है। उन्होंने कहा कि पार्टी...