16.1 C
Indore
Saturday, January 22, 2022

मंत्रिमंडल विस्तार : देर आये पर दुरुस्त नहीं !

 #मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आखिरकार अपने मंत्रिमंडल का विस्तार कर ही लिया परन्तु लम्बी प्रतीक्षा के बाद हुए इस मंत्रिमंडल विस्तार को ‘देर आयाद दुरूस्त आयद’ कहना गलत होगा।

एक दशक से भी ज्यादा समय से लोकप्रियता के शिखर पर विराजमान मुख्यमंत्री को अगर अपने मंत्रिमंडल के विस्तार में इतना लंबा समय जग जाए तो यह सचमुच आश्चर्य की बात है और इतनी जद्दोजहद के बाद भी मुख्यमंत्री एक संतुलित मंत्रिमंडल के गठन में असफल साबित हो जाए तो यह और भी बड़े आश्चर्य की बात है।

इस मंत्रिमंडल विस्तार के तौर तरीकों और मानदण्डों पर जो सवाल उठ रहे है वे इस धारणा को भी गलत ठहराने के लिए काफी है कि लोकप्रियता के शिखर पर बैठै मुख्यमंत्री को सरकार और संगठन के अन्दर कोई चुनौती नहीं है।

न तो इस मंत्रिमंडल विस्तार से यह साबित होता है कि मुख्यमंत्री को इसके लिए पार्टी हाईकमान में फ्री हैण्ड दे रखा था और न ही आप इस नतीजे पर पहुंच सकते हैं कि मुख्यमंत्री के सामने समझौता करने की कोई विवशता थी।

मुख्यमंत्री शायद अब इस सवाल का कोई संतोषजनक उत्तर देने की स्थिति में नहीं है कि इतना लम्बा इंतजार कराने के बाद भी वे एक ऐसी टीम का गठन करने में सफल क्यों नहीं हुए जिससे पार्टी और सरकार के अंदर में मुख्यमंत्री के वर्चस्व को चुनौती देना संभव नहीं हो पाता।

मुख्यमंत्री ने अगर मंत्रिमण्डल विस्तार में इतना लम्बा वक्त लिया तो उनसे यह अपेक्षा भी की जा रही थी कि वे शपथ ग्रहण समारोह संपन्न होते ही मंत्रियों के विभागों की घोषणा भी कर देंगे।

परन्तु शपथ ग्रहण समारोह के 48 घंटों के बाद तक भी मुख्यमंत्री इस अनिश्चिता की स्थिति का समाना करते रहे कि किस मंत्री के लिए कौन सा विभाग उपयुक्त रहेगा और इसके बाद भी निश्चित तौर पर यह कहना मुश्किल है कि सभी मंत्री अपने विभाग से संतुष्ट है अथवा वे अपने विभागों में अपने दायित्वों को बखूबी निभा पाएंगे। यह प्रश्न इसलिए भी महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि वर्तमान विधानसभा के कार्यकाल को पूर्ण होने में मात्र डेढ़ साल ही बाकी रह गया है और अपनी नई टीम के साथ अगले डेढ़ सालों में सारे वादों को पूर्ण कर पाना किसी कठिन चुनौती से कम नहीं है।

मुख्यमंत्री चौहान की इस नई टीम में अगर 75 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुके दो वरिष्ठ मंत्रियों बाबूलाल गौर तथा सरताज सिंह को स्थान नहीं मिला है तो इसका आधार वहीं मानदण्ड है जिसके आधार पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने मंत्रिमण्डल का गठन किया था।

बाबूलाल गौर और सरताज सिंह को इसके लिए पहले ही मानसिक रूप से तैयार रहना चाहिए था लेकिन मुख्यमंत्री चौहान से भी यह सवाल तो पूछा ही जा सकता है कि अगर वर्तमान सरकार के साढ़े तीन सालों के कार्यकाल में बाबूलाल गौर की गृहमंत्री के रूप में सेवाएं लेना जरूरी था तो क्या अगले डेढ़ साल का कार्यकाल आखिर उन्हें क्यों नहीं दिया जा सकता था।

यही बात सरताज सिंह के बारे में भी कही जा सकती है। कही ऐसा तो नहीं है कि मुख्यमंत्री स्वयं ही बाबूलाल गौर के विवादास्पद और चर्चित बयानों के कारण उनसे छुटकारा पाना चाह रहे थे और इसीलिए उन्होंने 75 वर्ष के फार्मूले को इसके लिए सर्वोत्तम बहाने के रूप में इस्तेमाल कर दिया।

वैसे अगर बाबूलाल गौर और सरताज सिंह इस अपमान का शिकार बनने के पूर्व ही स्वयं ही स्वेच्छा पूर्वक पद त्याग का आदर्श प्रस्तुत कर देते तो उन्हें मध्यप्रदेश में पार्टी के परोक्ष मार्गदर्शक मण्डल का सदस्य बनने की मजबूरी का सामना नहीं करना पड़ता।

खैर अब शिवराज मंत्रिमंडल के उन सदस्यों को भी अभी से सतर्क हो जाना चाहिए जो अगले कुछ वर्षों में 75 वर्ष की आयु पूर्ण करने जा रहे हैं। यह बात भी अब तय मानी जानी चाहिए कि अगले विधानसभा चुनावों में भी विपक्षी कांग्रेस पार्टी अगर भाजपा को ही सत्ता की चाबी सौंपने के लिए तैयार हो जाती है तो नई सरकार में 75 साल की आयु पूरी कर चुके विधायकों को मंत्री पद का मोह त्यागना होगा।

krishanmohanलेखक – कृष्णमोहन झा

(लेखक राजनीतिक विश्लेषक हैं)

संपर्क – krishanmohanjha@gmail.com

Related Articles

सर्वे: कपड़े का मास्क ज्यादा सुरक्षित नहीं , सरकार फ्री में दें N95 मास्क

भारत में मास्क की अनिवार्यता को समझने और इसके इस्तेमाल पर किए गए एक सर्वे में चौंकाने वाले नतीजे सामने आए हैं। सामने आया...

1971 के भारत-पाक युद्ध में शहीद हुए जवानों की याद में बने अमर जवान ज्योति पर अब सियासत गर्म

नई दिल्लीः दिल्ली के इंडिया गेट पर बीते 50 सालों से जल रही अमर जवान ज्योति का आज समीप ही बने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक...

महाराणा प्रताप की प्रस्तावित मूर्ति को लेकर बीजेपी जबरन ले रही श्रेय

खंडवा : महाराणा प्रताप की प्रस्तावित मूर्ति को लेकर अब कांग्रेस और बीजेपी आमने सामने आ गई हैं। कांग्रेस ने भाजपा पर आरोप लगते...

चलती ट्रेन में हो रही थी विलुप्त होती इजिप्टियन प्रजाति गिद्धों की तस्करी

खंडवा : चलती ट्रेन में एक बैग से बदबू आने के बाद जब उसे खोल कर देखा तो सभी की आंखे फटी रह गई।...

सुप्रीम कोर्ट: EVM के इस्तेमाल को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई के लिए कोर्ट तैयार

नई दिल्लीः चुनावों में बैलेट पेपर की जगह ईवीएम के इस्तेमाल को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट तैयार हो...

मुलायम सिंह की छोटी बहू अपर्णा भाजपा में हुई शामिल

लखनऊ : समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने दो शादियां की थीं। पहली पत्नी का नाम मालती देवी और दूसरी की साधना...

 पटरी से उतरी वास्को-डी-गामा हावड़ा अमरावती एक्सप्रेस, सभी यात्री सुरक्षित

नई दिल्लीः कोलकाता के बाद एक बार फिर बड़ा रेल हादसा होते बचा। जानकारी के मुताबिक, मंगलवार सुबह 8:56 बजे वास्को-डी-गामा हावड़ा अमरावती एक्सप्रेस...

पंजाब: अवैध खनन मामले में ईडी के ताबड़तोड़ छापे, सीएम चन्नी के भतीजे के ठिकानों पर दबिश

चंडीगढ़ : प्रवर्तन निदेशालय की टीम ने मंगलवार सुबह पंजाब और हरियाणा में लगभग दस जगहों पर दबिश दी। अवैध खनन मामले में ईडी...

पुलिस महिलाओं और बच्चों से कैसे करें व्यवहार, परीक्षा आयोजित

खंडवा : पुलिस में भर्ती होने के लिए परीक्षा पास करते तो आप ने देखा होगा लेकिन पुलिस रहते हुए में अपने कर्तयव को...

Stay Connected

5,577FansLike
13,774,980FollowersFollow
124,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

सर्वे: कपड़े का मास्क ज्यादा सुरक्षित नहीं , सरकार फ्री में दें N95 मास्क

भारत में मास्क की अनिवार्यता को समझने और इसके इस्तेमाल पर किए गए एक सर्वे में चौंकाने वाले नतीजे सामने आए हैं। सामने आया...

1971 के भारत-पाक युद्ध में शहीद हुए जवानों की याद में बने अमर जवान ज्योति पर अब सियासत गर्म

नई दिल्लीः दिल्ली के इंडिया गेट पर बीते 50 सालों से जल रही अमर जवान ज्योति का आज समीप ही बने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक...

महाराणा प्रताप की प्रस्तावित मूर्ति को लेकर बीजेपी जबरन ले रही श्रेय

खंडवा : महाराणा प्रताप की प्रस्तावित मूर्ति को लेकर अब कांग्रेस और बीजेपी आमने सामने आ गई हैं। कांग्रेस ने भाजपा पर आरोप लगते...

चलती ट्रेन में हो रही थी विलुप्त होती इजिप्टियन प्रजाति गिद्धों की तस्करी

खंडवा : चलती ट्रेन में एक बैग से बदबू आने के बाद जब उसे खोल कर देखा तो सभी की आंखे फटी रह गई।...

सुप्रीम कोर्ट: EVM के इस्तेमाल को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई के लिए कोर्ट तैयार

नई दिल्लीः चुनावों में बैलेट पेपर की जगह ईवीएम के इस्तेमाल को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट तैयार हो...