हमें मर्दों को खुश करना ही सिखाया गया: निगेला

दुनिया भर में #MeToo कैंपेन के तहत कई महिलाओं ने यौन उत्पीड़न पर अपनी आपबीती सुनाई। रविवार को सिडनी ओपेरा हाउस में एक कार्यक्रम में अंतर्राष्ट्रीय तौर पर मशहूर शेफ निगेला लॉसन ने कहा कि #MeToo कैंपेन एक महत्वपूर्ण आंदोलन था। उन्होंने कहा कि यह पुराने दौर के सेक्सिजम को अलविदा कहने का समय था।

निगेला ने कहा कि नई पीढ़ी की महिलाओं की कहानी उनकी पीढ़ी की महिलाओं से बिल्कुल अलग है। उनकी पीढ़ी की महिलाओं को मर्दों को खुश रहना ही सिखाया गया था पर इस पीढ़ी की महिलाएं खुद की लड़ाई लड़ना जानती हैं और खुद के लिए खड़े होना भी।

उन्होंने कहा, ‘यह बहुत ही अच्छा संकेत है कि युवा महिलाएं यह महसूस कर रही हैं कि उन्हें अपने लिए खड़े होना चाहिए। मुझे लगता है कि हमारी पीढ़ी को हमेशा से मर्दों को खुश करना सिखाया जाता था। हमें यही बताया गया कि मर्दों को किसी भी रूप में बुरा महसूस नहीं कराना चाहिए खासकर जब कोई लड़का प्रस्ताव दे रहा हो। मुझे लगता है कि यह अच्छा है कि इस पीढ़ी की महिलाओं को एसी परवरिश मिली है जिसमें उन्हें बताया जाता है कि अब लड़कों के लिए ‘ना’ ईगो का सवाल नहीं है। पुरुष अब पहले से ज्यादा रिजेक्शन को लेकर सहज हैं।

रेस्ट्रोरेन्ट इंडस्ट्री में लैंगिक भेदभाव और यौन उत्पीड़न के बारे में पूछे जाने पर लॉसन ने खुलकर अपनी राय रखी। उन्होंने कहा, ‘यह याद रखना जरूरी है कि लगभग हर एक फील्ड चाहे वह ग्लैमर जॉब हो या ना हो, महिलाएं इससे प्रभावित हो रही हैं। उनके पास अपनी आवाज उठाने का कोई मंच ही नहीं है। मुझे लगता है कि हमें ऐसी महिलाओं की जिंदगी पर ध्यान देने की जरूरत है। उन्हें सुरक्षित महसूस कराया जाना चाहिए।’

लॉसन ने बताया कि पहले पति की कैंसर से मौत के बाद उनके जीवन जीने के नजरिए में कई अहम बदलाव आए।

लॉसन ने कहा, हमें यह महसूस करना होगा कि जिंदगी कीमती है और बहुत ही सीमित इसलिए हर किसी को अच्छी चीजों की कद्र करनी चाहिए लेकिन साथ ही किसी को अहमियत नहीं देनी चाहिए कि उसके खोने का डर सताने लगे। जिंदगी में सब कुछ संतुलन पर आधारित है। हालांकि जीवन में हम सभी कभी ना कभी लुढ़क जाते हैं और इसे ही इंसान कहते हैं।