सरदार पटेल पहले PM होते तो कश्मीर हमारा होता : मोदी

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री मोदी ने बुधवार को लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव का जवाब देते हुए विपक्ष पर तीखा हमला बोला। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की गलती से अभी भी समस्या है। कांग्रेस ने चुनाव के लिए आंध्र प्रदेश का विभाजन कर तेलंगाना बनाया। आंध्र के बंटवारे से पहले उसके लोगों के बारे में नहीं सोचा।

पीएम ने कहा कि विरोध के लिए विरोध ठीक नहीं है। पीएम मोदी के संबोधन के दौरान विपक्ष के नेता लगातार नारेबाजी और हंगामा करते रहे। इसके बावजूद पीएम ने अपना संबोधन जारी रखा।

उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘आपने मां भारत के टुकड़े कर दिए और फिर भी यह देश आपके साथ रहा। आप उस जमाने में देश पर राज करते थे जब विपक्ष ना के बराबर था। आपने पूरा समय एक परिवार के गीत गाने में लगा दिया। एक ही परिवार को देश याद रखे, सारी शक्ति उसी में लगा दी। अगर नीयत साफ होती तो जहां यह देश है उससे कहीं आगे होता।’

पीएम ने आगे कहा कि ‘लोकतंत्र कांग्रेस के नेहरू जी की देन नहीं है, लोकतंत्र हमारी रगों में है, परंपरा में है। आप लोकतंत्र की बात करते हो? आपके पीएम राजीव गांधी ने हैदराबाद एयरपोर्ट पर उतरने के बाद अपनी ही पार्टी के दलित मुख्यमंत्री को खुलेआम अपमानित किया था। आपके मुंह से लोकतंत्र शोभा नहीं देता, इसलिए आप कृपा करके हमें लोकतंत्रा का पाठ मत पढ़ाईए।’

पीएम ने आगे कहा कि ‘अगर सरदार वल्लभ भाई पटेल इस देश के पहले प्रधानमंत्री होते तो पूरा कश्मीर हमारा होता। कैसे कांग्रेस ने केरल में काम किया? कैसे उसने पंजाब में अकाली दल बनाया? उन्होंने तमिलनाडु में कैसा व्यवहार किया? क्यों कांग्रेस ने इतनी सारी राज्य सराकरों को निरस्त किया। यह लोकतंत्र के लिए प्रतिबद्धता नहीं है। ‘