26.1 C
Indore
Saturday, July 20, 2024

शिरडी में दीवार पर उभरे साईं के चेहरे की सच्चाई क्या है ? जाने

शिरडी में साईं बाबा के चमत्कार की कहानी तो हम दशकों से सुनते आए हैं लेकिन अबकी बार दीवार पर साईं की आकृति उभरने की खबर के बाद शिरडी साईं भक्तों से भर गया है। साईं के हजारों भक्त बुधवार रात से वहां अपने भगवान का आशीर्वाद ले रहे हैं। साथ ही सवाल भी, क्या ये वाकई साईं का चमत्कार है?

बुधवार की रात से शिरडी के साईं बाबा के दर पर भक्तों का ऐसा मेला लगा है जिसकी कतार लगातार लंबी होती जा रही है। साईं के श्रद्धालुओं की टोली शिरडी के द्वारकामाई मंदिर की ओर खिंची चली आ रही है।

जुबां पर सिर्फ साईं का जाप और दिल में उस तस्वीर को देखने की लालसा जिसे दीवार पर अवतरित का होने का दावा किया जा रहा है। साथ ही साथ साईं के दरबार में एक बार फिर से शुरू हो गया है आस्था और विज्ञान का दंगल।

शिरडी के साईं की आकृति को लेकर जंग की शुरुआत हो गई है। लेकिन उससे परे लोगों का शिरडी आना जारी है।

दिन में साईं बाबा की आकृति के दर्शन नहीं हो रहे हैं लेकिन रात के वक्त हर भक्त की नजर द्वारकामाई मंदिर की उस दीवार की ओऱ टिक जा रही है जो इसे देखने दूर-दूर से आ रहे हैं।

दीवार पर साईं के प्रकट होने की सच्चाई को नमन करने के लिए सिर्फ आम भक्त ही नहीं बल्कि खास भी पहुंच रहे हैं। बॉ़लीवुड के संगीतकार गायक अनु मलिक भी शिरडी पहुंच गए। शीश झुकाया, आजतक से अलौकिक अहसास को साझा किया।

हालांकि दीवार पर साईं की तस्वीर को लेकर साईं के कुछ भक्त ये भी दावा कर रहे हैं कि साईं चमत्कार में उनका भी भरोसा है लेकिन अबकी बार आकृति के पीछे विज्ञान का आसान तर्क है। वो ये कि रात में बाहर की रोशनी का रिफ्लेक्शन यानी परावर्तन की वजह से साईं की आकृति का अहसास हो रहा है।

विश्वास और अंधविश्वास में बड़ा ही बारीक फर्क होता है। आस्था की डोर पर भक्त किसी भी मंजिल को हासिल करने का दम भरते हैं।

शायद यही वजह है कि विज्ञान के किसी भी तर्क को मानने के लिए उनका दिल और दिमाग तैयार नहीं है। दावा ये भी है कि साईं की तस्वीर सिर्फ उन्हीं को नजर आ रही है जिनके कण कण में बाबा बसते हैं।

साईं की शक्ति और अफवाह के दावे का महायुद्ध पुराना है। विषय ऐसा कि आगे भी ऐसे मौके आएंगे लेकिन फिलहाल फैसला उन पर छोड़ते हैं जिनके लिए आस्था ही सबकुछ है या फिर जो विज्ञान के तर्क को ही आधार मानते हैं।

साईं बाबा के जन्म और बचपन के बारे में ज्यादा बातें किसी को पता नहीं। करीब 18 साल की उम्र में वो शिरडी आए, फिर वापस कहीं गए और जब दोबारा आए तो फिर वहीं के होकर रह गए। एक फकीर के रूप में वो शिरडी आए थे और अपनी ममता, दया, करुणा और चमत्कारी व्यक्तित्व से साईं बन गए।

खुद भीख मांगकर खाए लेकिन दूसरों का पेट भरने के लिए भूखा भी रह जाए। ऐसे संत, फकीर, दयालू महात्मा को शिरडी का साईं बाबा कहते हैं। साईं ने कभी अपने को भगवान नहीं कहा लेकिन उनके भक्तों से पूछिए तो किसी भगवान से कम नहीं हैं साईं बाबा।

कहते हैं कि एक बार साईं बाबा से किसी भक्त ने पूछा कि आपका जन्म कब हुआ था, तो उन्होंने बताया था कि 28 सितंबर 1836 को, इसीलिए हर साल 28 सितंबर को साईं का जन्मोत्सव भी मनाया जाता है।

कबीर की तरह साईं को भी जाति और धर्म का बंधन बांध नहीं पाया। उन्होंने हमेशा ही दया, ममता और करुणा को भी अपना धर्म बनाया और बताया।

कहते हैं कि शिरडी में साईं बाबा सबसे पहले 1854 में दिखाई पड़े थे जब उनकी उम्र करीब 18 साल थी। नीम के एक पेड़ के नीचे लोगों ने उन्हें समाधि में देखा, वहां कुछ दिन रहकर अचानक वो चले गए, फिर कुछ सालों बाद चांद पाटिल नाम के एक आदमी की बारात में वो फिर से शिरडी पहुंचे। तब खंडोबा मंदिर के पुजारी ने उनको देखते ही कहा कि आओ साईं, पधारो। बस तभी से शिरडी के उस फकीर को साईं बाबा कहा जाने लगा।

इसके बाद साईं ने एक मस्जिद को अपना ठिकाना बनाया, जिसको द्वारकामाई मंदिर का नाम दिया, वहां चिमटे से बाबा ने आग जलाकर ऐसी धुनी रमाई कि वो आग आज भी जल रहा है। इसके बाद को अपने प्रताप से बाबा ने दीपक जलाए वो भी पानी से।

साईं बाबा शिरडी में 60 साल से ज्यादा समय तक रहे। इस दौरान उनका चमत्कार ही वहां के लोगों के लिए सबसे बड़ी आशा बन गया, जब उन्होंने समाधि ली तो उससे पहले अपने भक्तों के बीच ये एहसास पैदा करके गए कि मैं हमेशा जिंदा हूं। वो जिंदा हैं लोगों के दिलों में। तभी तो करोड़ों भक्त उनके दर पर माथा टेकते हैं।

15 अक्टूबर 1918 को जब बाबा ने इस दुनिया से प्रस्थान किया तो सबको प्रेम और भाईचारे का पैगाम देकर, उनके भव्य मंदिर में आज भी वो पैगाम घुमड़ता है।

दरअसल, साईं बाबा का पूरा जीवन ही चमत्कारों से भरा होने का बताया जाता है। पानी से दीये जलाना और भभूत से किसी बीमार को ठीक कर देने की कहानियां कई बार कही सुनी गई हैं।

साईं बाबा ने अपनी जिंदगी में ऐसे चमत्कार दिखाए कि लोगों का एहसास मजबूत होता गया कि हो ना हो, ये ईश्वर के अवतार हैं।

कहते हैं कि किसी निसंतान महिला को अपने भभूत से संतान देने का चमत्कार साईं बाबा ने कर दिखाया था। ऐसे ही कहते हैं कि तमाम बीमार लोगों को बाबा अपने भभूत से ही ठीक कर देते थे।

इसीलिए उनके समाधि लेने के 100 साल बाद भी शिरडी के उनके मंदिर में भक्तों का जमावड़ा लगा रहता है और भक्ति का चढ़ावा इतना है कि दो साल पहले ही 400 करोड़ रुपये चढ़ावा में आया था।

Related Articles

इंदौर में बसों हुई हाईजैक, हथियारबंद बदमाश शहर में घुमाते रहे बस, जानिए पूरा मामला

इंदौर: मध्यप्रदेश के सबसे साफ शहर इंदौर में बसों को हाईजैक करने का मामला सामने आया है। बदमाशों के पास हथियार भी थे जिनके...

पूर्व MLA के बेटे भाजपा नेता ने ज्वाइन की कांग्रेस, BJP पर लगाया यह आरोप

भोपाल : मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले ग्वालियर में भाजपा को झटका लगा है। अशोकनगर जिले के मुंगावली के भाजपा नेता यादवेंद्र यादव...

वीडियो: गुजरात की तबलीगी जमात के चार लोगों की नर्मदा में डूबने से मौत, 3 के शव बरामद, रेस्क्यू जारी

जानकारी के अनुसार गुजरात के पालनपुर से आए तबलीगी जमात के 11 लोगों में से 4 लोगों की डूबने से मौत हुई है।...

अदाणी मामले पर प्रदर्शन कर रहा विपक्ष,संसद परिसर में धरने पर बैठे राहुल-सोनिया

नई दिल्ली: संसद के बजट सत्र का दूसरा चरण भी पहले की तरह धुलने की कगार पर है। एक तरफ सत्ता पक्ष राहुल गांधी...

शिंदे सरकार को झटका: बॉम्बे हाईकोर्ट ने ‘दखलअंदाजी’ बताकर खारिज किया फैसला

मुंबई :सहकारी बैंक में भर्ती पर शिंदे सरकार को कड़ी फटकार लगी है। बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर पीठ ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे...

सीएम शिंदे को लिखा पत्र, धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री को लेकर कहा – अंधविश्वास फैलाने वाले व्यक्ति का राज्य में कोई स्थान नहीं

बागेश्वर धाम के कथावाचक पं. धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का महाराष्ट्र में दो दिवसीय कथा वाचन कार्यक्रम आयोजित होना है, लेकिन इसके पहले ही उनके...

IND vs SL Live Streaming: भारत-श्रीलंका के बीच तीसरा टी20 आज

IND vs SL Live Streaming भारत और श्रीलंका के बीच आज तीन टी20 इंटरनेशनल मैचों की सीरीज का तीसरा व अंतिम मुकाबला खेला जाएगा।...

पिनाराई विजयन सरकार पर फूटा त्रिशूर कैथोलिक चर्च का गुस्सा, कहा- “नए केरल का सपना सिर्फ सपना रह जाएगा”

केरल के कैथोलिक चर्च त्रिशूर सूबा ने केरल सरकार को फटकार लगाते हुए कहा है कि उनके फैसले जनता के लिए सिर्फ मुश्कीलें खड़ी...

अभद्र टिप्पणी पर सिद्धारमैया की सफाई, कहा- ‘मेरा इरादा CM बोम्मई का अपमान करना नहीं था’

Karnataka News कर्नाटक में नेता प्रतिपक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा कि सीएम मुझे तगारू (भेड़) और हुली (बाघ की तरह) कहते हैं...

Stay Connected

5,577FansLike
13,774,980FollowersFollow
135,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

इंदौर में बसों हुई हाईजैक, हथियारबंद बदमाश शहर में घुमाते रहे बस, जानिए पूरा मामला

इंदौर: मध्यप्रदेश के सबसे साफ शहर इंदौर में बसों को हाईजैक करने का मामला सामने आया है। बदमाशों के पास हथियार भी थे जिनके...

पूर्व MLA के बेटे भाजपा नेता ने ज्वाइन की कांग्रेस, BJP पर लगाया यह आरोप

भोपाल : मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले ग्वालियर में भाजपा को झटका लगा है। अशोकनगर जिले के मुंगावली के भाजपा नेता यादवेंद्र यादव...

वीडियो: गुजरात की तबलीगी जमात के चार लोगों की नर्मदा में डूबने से मौत, 3 के शव बरामद, रेस्क्यू जारी

जानकारी के अनुसार गुजरात के पालनपुर से आए तबलीगी जमात के 11 लोगों में से 4 लोगों की डूबने से मौत हुई है।...

अदाणी मामले पर प्रदर्शन कर रहा विपक्ष,संसद परिसर में धरने पर बैठे राहुल-सोनिया

नई दिल्ली: संसद के बजट सत्र का दूसरा चरण भी पहले की तरह धुलने की कगार पर है। एक तरफ सत्ता पक्ष राहुल गांधी...

शिंदे सरकार को झटका: बॉम्बे हाईकोर्ट ने ‘दखलअंदाजी’ बताकर खारिज किया फैसला

मुंबई :सहकारी बैंक में भर्ती पर शिंदे सरकार को कड़ी फटकार लगी है। बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर पीठ ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे...