27.4 C
Indore
Sunday, June 20, 2021

आसान लफ़्ज़ों में गहरी बात कहने वाले, आम आदमी के शायर डॉ. बशीर बद्र

15 फ़रवरी 1936 को कानपुर में जन्‍मे उर्दू शायर डॉ. बशीर बद्र ने कामयाबी की बुलन्दियों को फतेह कर लम्बी दूरी तय करने के बाद लोगों के दिलों में अपनी शायरी को उतारा। साहित्य और नाटक अकादमी में किए गये योगदानों के लिए उन्हें 1999 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया है।
इनका पूरा नाम सैयद मोहम्मद बशीर है। भोपाल से ताल्लुकात रखने वाले बशीर बद्र का जन्म कानपुर में हुआ था। आज के मशहूर शायर और गीतकार नुसरत बद्र इनके सुपुत्र हैं।

डॉ. बशीर बद्र 56 साल से हिन्दी और उर्दू में देश के सबसे मशहूर शायर हैं। दुनिया के दो दर्जन से ज्यादा मुल्कों में मुशायरे में शिरकत कर चुके हैं। बशीर बद्र आम आदमी के शायर हैं। ज़िंदगी की आम बातों को बेहद ख़ूबसूरती और सलीके से अपनी ग़ज़लों में कह जाना बशीर बद्र साहब की ख़ासियत है। उन्होंने उर्दू ग़ज़ल को एक नया लहजा दिया। यही वजह है कि उन्होंने श्रोता और पाठकों के दिलों में अपनी ख़ास जगह बनाई है।

बशीर बद्र आसान लफ़्ज़ों में गहरी बात कहने वाले सुखन के उस्ताद हैं। गाहे-बगाहे उनके शेर संसद में नेताओं की आवाज़ बनते हैं तो कभी किसी माशूक के दिल का हाल बयां करते हैं। उर्दू अदब के इस सितारे ने शब्‍दों को कुछ इस तरह पिरोया है-

डॉ बशीर बद्र की यौम-ए-पैदाइश मुबारक पर उनके, मशहूर शेर

दुश्मनी जम कर करो लेकिन ये गुंजाइश रहे
जब कभी हम दोस्त हो जाएं तो शर्मिन्दा न हों

हम भी दरिया हैं हमें अपना हुनर मालूम है
जिस तरफ़ भी चल पड़ेंगे रास्ता हो जाएगा

जिस दिन से चला हूं मेरी मंज़िल पे नज़र है
आंखों ने कभी मील का पत्थर नहीं देखा
शौहरत की बुलन्दी भी पल भर का तमाशा है
जिस डाल पर बैठे हो, वो टूट भी सकती है

मुहब्बतों में दिखावे की दोस्ती न मिला
अगर गले नहीं मिलता तो हाथ भी न मिला

उसे किसी की मुहब्बत का एतिबार नहीं
उसे ज़माने ने शायद बहुत सताया है
गुलाबों की तरह शबनम में अपना दिल भिगोते हैं
मुहब्बत करने वाले ख़ूबसूरत लोग होते हैं

चमकती है कहीं सदियों में आंसुओं से ज़मीं
ग़ज़ल के शेर कहां रोज़-रोज़ होते हैं

अबके आंसू आंखों से दिल में उतरे
रुख़ बदला दरिया ने कैसा बहने का

ज़हीन सांप सदा आस्तीन में रहते हैं
ज़बां से कहते हैं दिल से मुआफ़ करते नहीं

सात सन्दूकों में भर कर दफ़्न कर दो नफ़रतें
आज इन्सां को मोहब्बत की ज़रूरत है बहुत

खुले से लॉन में सब लोग बैठें चाय पियें
दुआ करो कि ख़ुदा हमको आदमी कर दे

लहजा कि जैसे सुब्ह की ख़ुशबू अज़ान दे
जी चाहता है मैं तेरी आवाज़ चूम लूं

इतनी मिलती है मेरी ग़ज़लों से सूरत तेरी
लोग तुझको मेरा महबूब समझते होंगे

मुझको शाम बता देती है
तुम कैसे कपड़े पहने हो

इस ख़ुशी में मुझे ख़याल आया
ग़म के दिन कितने ख़ूबसूरत थे

ऐसे मिलो कि अपना समझता रहे सदा
जिस शख़्स से तुम्हारा दिली इख़्तिलाफ़ है

सच सियासत से अदालत तक बहुत मसरूफ़ है
झूट बोलो, झूट में अब भी मोहब्बत है बहुत
किताबें, रिसाले न अख़़बार पढना
मगर दिल को हर रात इक बार पढ़ना

मुख़ालिफ़त से मेरी शख़्सियत संवरती है
मैं दुश्मनों का बड़ा एहतेराम करता हूं

संकलन – अंकित गंगराडे
संपर्क – ankitgangrade1122@gmail.com

Related Articles

Father’s Day – देखिये Bollywood की पिता और बेटे के किरदारों बनी ये चर्चित फिल्में

हिंदी सिनेमा मे पिता और बेटे के किरदारों बनी ये चर्चित फिल्में अगर आप इस फादर्स डे पर अपने पिता के साथ बॉलीवुड फिल्म...

दृष्टिहीन मतदाताओं को उनके वोटों को सत्यापित करने के लिए सशक्त बनाने वाली प्रणाली

एक ऐसी प्रणाली प्रदान करने की आवश्यकता है जिससे दृष्टिहीन मतदाता अपने डाले गए वोटों का तत्काल ऑडियो सत्यापन कर सकें. दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम, 2016...

एक तरफा मोहब्बत ठुकराई तो भड़का आशिक, कर दी युवती की हत्या

हैदराबाद : आंध्र प्रदेश के कडप्पा जिले में एक तरफा प्यार के चक्कर में एक युवक ने लड़की का गला रेतकर हत्या कर दी।...

अवैध संबंध बना रहे थे प्रेमी-प्रेमिका, इस कारण हो गई लड़के की मौत

रिश्तेदार के घर के थोड़ी दूर पर स्थित बिजली सब स्टेशन के बगल में टूटा-फूटा एक खपरैल घर में दोनों पहुंच कर अवैध संबंध...

UP : इतना भ्रष्टाचार कभी नहीं देखा, बिना कमीशन नहीं होता काम – BJP विधायक

भाजपा विधायक श्याम प्रकाश ने कहा कि जिससे शिकायत करो वह खुद वसूली कर लेता है। श्याम प्रकाश के इस बयान ने अपनी सरकार...

अमित शाह की अध्‍यक्षता में हाई लेवल बैठक, कश्मीर में क्या होने वाला हैं !

नई दिल्‍ली : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्‍यक्षता में शुक्रवार को एक हाई लेवल बैठक हुई। इसमें एनएसए अजीत डोभाल, केंद्रीय गृह...

Alert : अक्टूबर तक देश में आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर

नई दिल्लीः भारत में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चेतावनी जारी की गई है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के एक दल ने अक्टूबर तक देश...

 बाबा का ढाबा वाले कांता प्रसाद ने की आत्महत्या की कोशिश, अस्पताल में भर्ती

नई दिल्लीः एक वायरल वीडियो के जरिए पूरे देश में रातों-रात मशहूर हुए बाबा का ढाबा चलाने वाले कांता प्रसाद शुक्रवार को सफदरजंग अस्पताल...

काला गेंहू: जिंक और आयरन की मात्रा अधिक, आम गेंहू के मुकाबले ज्यादा पौष्टिक और इम्युनिटी बढानेवाला

लखनऊ (शाश्वत तिवारी): अपनी सेहत के लिए हमेशा जागरूक रहने वाले अवधवासियों के लिए खुशखबरी है कि पौष्टिक गुणों से भरपूर कला गेंहू और...

Stay Connected

5,577FansLike
13,774,980FollowersFollow
120,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

Father’s Day – देखिये Bollywood की पिता और बेटे के किरदारों बनी ये चर्चित फिल्में

हिंदी सिनेमा मे पिता और बेटे के किरदारों बनी ये चर्चित फिल्में अगर आप इस फादर्स डे पर अपने पिता के साथ बॉलीवुड फिल्म...

दृष्टिहीन मतदाताओं को उनके वोटों को सत्यापित करने के लिए सशक्त बनाने वाली प्रणाली

एक ऐसी प्रणाली प्रदान करने की आवश्यकता है जिससे दृष्टिहीन मतदाता अपने डाले गए वोटों का तत्काल ऑडियो सत्यापन कर सकें. दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम, 2016...

एक तरफा मोहब्बत ठुकराई तो भड़का आशिक, कर दी युवती की हत्या

हैदराबाद : आंध्र प्रदेश के कडप्पा जिले में एक तरफा प्यार के चक्कर में एक युवक ने लड़की का गला रेतकर हत्या कर दी।...

अवैध संबंध बना रहे थे प्रेमी-प्रेमिका, इस कारण हो गई लड़के की मौत

रिश्तेदार के घर के थोड़ी दूर पर स्थित बिजली सब स्टेशन के बगल में टूटा-फूटा एक खपरैल घर में दोनों पहुंच कर अवैध संबंध...

UP : इतना भ्रष्टाचार कभी नहीं देखा, बिना कमीशन नहीं होता काम – BJP विधायक

भाजपा विधायक श्याम प्रकाश ने कहा कि जिससे शिकायत करो वह खुद वसूली कर लेता है। श्याम प्रकाश के इस बयान ने अपनी सरकार...