TMC सांसद कल्याण बनर्जी का सिर कलम करने वाले को देंगे 5 करोड़ – महंत परमहंस दास

परमहंस दास ने टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी के लिए फांसी की मांग भी की है। परमहंस दास ने चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर टीएमसी सांसद पर कार्रवाई नहीं होगी तो हम धर्माचार्य शस्त्र उठाएंगे।


अयोध्या : तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने मंगलवार को अयोध्या में विवादित बयान दिया है। उन्होंने टीएमसी (TMC) सांसद कल्याण बनर्जी का सिर कलम करने वाले को 5 करोड़ रुपये का इनाम देने की घोषणा की।

दरअसल, टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो में बनर्जी देवी सीता को अपमानजनक भाषा में कुछ कहते हुए दिखाई दे रहे हैं।

तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने भगवान राम के अपमान पर संज्ञान लेते हुए बयान दिया है कि जो भी टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी का सिर काटेगा उसे 5 करोड़ का इनाम दिया जाएगा।

महंत परमहंस दास ने कहा कि टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी ने माता सीता का अपमान किया है। साथ ही भगवान का भी अपमान किया है। हिंदुओं की आस्था पर कुठाराघात है।

परमहंस ने प्रशासन से मांग कि इस पर कड़ी कार्रवाई की जाए, नहीं तो टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी का सिर कलम करने वाले को 5 करोड़ का इनाम देने की घोषणा भी की है।

उन्होंने कहा कि हर कोई व्यक्ति भगवा को गाली दे देता है, देवी-देवताओं साधु-संतों पर अभद्र टिप्पणी की जा रही है। यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

कल्याण बनर्जी के बयान से हिंदू आहत है हिंदुओं की आस्था पर यह कुठाराघात है और इन को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा।

परमहंस दास ने कहा कि मैं केंद्र सरकार से निवेदन करना चाहूंगा कि ऐसे लोगों के ऊपर कठोर कार्रवाई की जाए। इनको चुनाव लड़ने का अधिकार खत्म किया जाए और जेल भेजा जाए।

परमहंस दास ने टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी के लिए फांसी की मांग भी की है। परमहंस दास ने चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर टीएमसी सांसद पर कार्रवाई नहीं होगी तो हम धर्माचार्य शस्त्र उठाएंगे।

हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने कहा कि पश्चिम बंगाल में कल्याण बनर्जी का बयान दुर्भाग्यपूर्ण है। उसका पुरजोर विरोध करते हैं। दरअसल, टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी का एक वीडियो वायरल हो रहा है।

इस वीडियो में बनर्जी देवी सीता को अपमानजनक भाषा में कुछ कहते हुए दिखाई दे रहे हैं।

वायरल वीडियो में कल्याण बनर्जी कह रहे हैं, ‘सीता ने भगवान राम से कहा कि अच्छा हुआ मेरा हरण रावण ने किया था ना कि उसके चेलों ने, नहीं तो मेरा हश्र भी हाथरस जैसा होता।’