जम्मू-कश्मीर : आतंकी हमले का खतरा, हाई अलर्ट पर थल और वायुसेना

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद घाटी का माहौल खराब करने के लिए पाकिस्तान के आतंकी संगठन हमले की योजना बना रहे हैं।

इसे देखते हुए सभी भारतीय सेनाओं और सुरक्षा बलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी है।

जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव बी वी आर सुब्रमण्यम ने कहा कि शुक्रवार की प्रार्थना के बाद पूरे राज्य में स्थिति सामान्य रही।

उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में और छूट बढ़ाई जाएगी। उन्होंने कहा कि कश्मीर में चरणबद्ध और व्यवस्थित तरीके से पाबंदियों में ढील दी जाएगी और सप्ताहांत तक कश्मीर में ज्यादातर फोन लाइनें बहाल कर दी जाएंगी और विद्यालय अगले हफ्ते खुल जायेंगे।

सुब्रमण्यम ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि घाटी में शुक्रवार को राज्य सरकार के कार्यालयों में सामान्य ढंग से कामकाज हुआ और कई कार्यालयों में तो उपस्थिति बिल्कुल अच्छी रही।

उन्होंने कहा कि पांच अगस्त को जब पाबंदियां लगायी गयीं, तब से न किसी की जान गयी और न कोई घायल हुआ।

पांच अगस्त को जम्मू कश्मीर के विशेष राज्य के दर्जे को निरस्त कर दिया गया था और उसे दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांट दिया गया था।

सुब्रमण्यम ने कहा, “आज जुम्मे की नमाज के बाद मिली रिपोर्ट के अनुसार राज्यभर में सबकुछ शांतिपूर्ण रहा। आतंकवादी संगठनों, कट्टरपंथी समूहों और पाकिस्तान की स्थिति बिगाड़ने की लगातार कोशिश के बावजूद हमने किसी की भी जान नहीं जाने दी।”