26.1 C
Indore
Monday, June 14, 2021

जानिए क्‍यों सुलगा महाराष्‍ट्र

भीम कोरेगांव की लड़ाई के 200 साल पूरे होने के मौके पर होने वाला जश्न हिंसा में तब्दील हो गया। मुंबई और आसपास के इलाकों में जबरदस्त हिंसा और आगजनी हुई। बसें तोड़ दी गईं। कई जगहों पर ट्रेनों को रोका गया। हिंसा की शुरुआत कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे दलितों और कुछ मराठा समुदाय के लोगों के बीच संघर्ष के बाद हुई।

हालांकि, वजह नई नहीं है। इसका असली कारण काफी पुराना है। इतिहास पर नजर डालें तो जनवरी 1818 में ब्रिटिश इंडियन आर्मी और पेशवाओं की सेना में जंग हुई थी। इसी जंग के बाद जीत की याद में एक जय स्तंभ स्थापित किया गया। विवाद इस जय स्तंभ पर लगे एक ‘सम्मान पटल’ को लेकर है। यह स्मारक पुणे-अहमदाबाद रोड पर पर्ने गांव में बना हुआ है।

कुछ साल पहले भारतीय सेना के पूना हॉर्स रेजिमेंट ने इस जय स्तंभ पर ‘एक सम्मान पटल’ या ‘रोल ऑफ ऑनर’ लगवाया था। इसमें उन शहीदों के नाम थे, जो रेजिमेंट के सदस्य थे। इसमें परमवीर चक्र विजेता भी शामिल थे, जिन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ 1965 और 1971 की जंग लड़ी थी।

माना जाता है कि पूना हाउस की पहली जीत भीम कोरेगांव की लड़ाई में हुई। उस वक्त यह ब्रिटिश इंडियन आर्मी का हिस्सा था, जिन्होंने पेशवाओं की सेना को हराया था। ब्रिटिश सरकार ने ही इस जंग में मारे गए सैनिकों की याद में पर्ने गांव में जयस्तंभ का निर्माण कराया था। इस जंग की 200वीं सालगिरह के कुछ दिन पहले से सोशल मीडिया पर इस पटल को लेकर कुछ संदेश सर्कुलेट होने लगे।

द इंडियन एक्सप्रेस ने इन संदेशों की पड़ताल की। इसमें दलित समुदाय से अपील की गई थी कि सम्मान पटल को हटवाया जाए क्योंकि इसका 1818 की जंग से कोई वास्ता नहीं है। संदेशों में यह आरोप लगाया गया था कि जयस्तंभ पर यह सम्मान पटल लगवाना ब्राह्मणवादी ताकतों की साजिश का हिस्सा है ताकि इतिहास से छेड़छाड़ की सके।

दलित समुदाय का इस जय स्तंभ से बेहद संवेदनशील रिश्ता है। यह माना जाता है कि अंग्रेजों की ओर से जिन लोगों ने पेशवाओं को हराया, वे महार जाति से ताल्लुक रखते थे। वे मानते हैं कि पेशवाओं की ‘ब्राह्मणवादी सत्ता’ के खत्म करने के लिए महार जाति के लोगों ने जंग लड़ी।

1920 में डॉ भीमराव आंबेडकर भी इस जय स्तंभ का दौरा करने गए थे। प्रोफेसर विलास खारत की लिखी एक किताब हाल ही में रिलीज हुई। यह किताब 1818 की लड़ाई पर आधारित है। इसमें दावा किया गया है कि जय स्तंभ पर लगे सम्मान पटल पर ‘उच्च ब्राह्मण कुल’ के सैनिकों के नाम हैं, जो 1965 और 1971 की जंग में शहीद हुए थे।

किताब में दावा किया गया है कि यह ‘1 जनवरी 1818 के इतिहास को मिटाने की कोशिश है।’ किताब में इस बात की भी चेतावनी दी गई है कि अगर इसे नहीं हटाया गया तो अशांति हो सकती है।

डॉ अंबेडकर द्वारा स्थापित सामाजिक संगठन समता सैनिक दल के सदस्य मनोज गरबादे ने कहा, ‘डॉ अंबडेकर जयस्तंभ पर अक्सर जाते थे। यह अंबेडकरवादी आंदोलन के लिए बड़ा प्रेरणास्थल है। इस ‘रोल ऑफ ऑनर’ को लेकर कुछ दलितों में गलत धारणा है।

हालांकि, अंबेडकरवादी भारतीय सेना का बड़ा सम्मान करते हैं और हम उन सैनिकों को सैल्यूट करते हैं जिन्होंने देश के लिए अपनी शहादत दी। नफरत को खत्म करने के लिए कदम उठाए जाने चाहिए।’

बता दें कि मनोज ने पहले ही इस बात की उम्मीद जताई थी कि इस बार 200वीं सालगिरह पर पहले के मुकाबले दोगुने लोग यहां आएंगे। वहीं, सेना से जुड़े एक बड़े अफसर ने नाम न प्रकाशित किए जाने की शर्त पर कहा कि सेना जातिगत पहचानों में विश्वास नहीं रखती। ‘रोल ऑफ ऑनर’ का मकसद हाल के जंग में शहीदों का सम्मान करना है।

Related Articles

खंडवा : गुलाब पंजाबी की हत्या का पूरा सच, कौन है कौशल उर्फ कौसर क्यों और कैसे किया मर्डर

खंडवा - मोबाईल दुकान संचालक का दिन - दहाडे हत्या करने वाला आरोपी 8 घंटे के अन्दर गिरफ्तार उक्त प्रकरण की घटना का...

यूपी बना पहला राज्य: अब तंबाकू उत्पाद बेचने के लिए लाइसेंस जरुरी

लखनऊ (शाश्वत तिवारी) : तंबाकू की बढ़ती समस्या और जनस्वास्थ्य को इससे हो सकने वाले खतरे का ख्याल रखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने...

खंडवा: 24 घंटे में चाकूबाजी की दो वारदात, कारोबारी गुलाब पंजाबी की मौत से दहशत

खंडवा - थाना सिटी कोतवाली थानान्तर्गत स्टेशन रोड पार्वती बाई धर्मशाला के पास स्थित आकाश मोबाइल दुकान पर दुकान संचालक गुलाब पंजाबी...

सिंधिया अपना अस्तित्व बचाने दर-दर भटक रहे – पूर्व मंत्री

गोविंद सिंह ने कहा कि सिंधिया दावा करते हैं कि अवैध उत्खनन के खिलाफ उनका झंडा बुलन्द है। हम उनसे आग्रह करते हैं कि...

केंद्रीय मंत्री ने दिया बड़ा बयान, महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना बना सकते हैं सरकार!

ठाकरे और मोदी की मुलाकात के बाद शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने प्रधानमंत्री मोदी की प्रशंसा की। इसका जिक्र करते हुए रामदास अठावले ने...

लालू के जन्मदिन पर बिहार में ‘कुछ होने वाला है’, बंद कमरे में मांझी और तेजप्रताप की मुलाकात

पटना : आज बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के जन्मदिन पर बिहार में एक बहुत बड़ी राजनीतिक घटना घटी है। लालू प्रसाद...

BJP के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय और उनके बेटे शुभ्रांशु रॉय TMC में शामिल

मुकुल राय ने एक बार फिर घर वापसी करते हुए शुक्रवार को तृणमूल कांग्रेस ज्वाइन कर ली है। इससे पहले वे अपने घर...

वैक्सीन का दूसरा डोज लेने में हुई देरी तो क्या होगा ? जानिए इन सवालों के जवाब

भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर का कहर अब कंट्रोल में हैं। अब हर दिन एक लाख से भी कम केस आ रहे...

सौहार्द की परीक्षा से गुज़रता उत्तर प्रदेश

देश के सबसे बड़े व राजनैतिक एतबार से सबसे महत्वपूर्ण समझे जाने वाले राज्य उत्तर प्रदेश में जैसे जैसे विधान सभा के आम चुनाव...

Stay Connected

5,577FansLike
13,774,980FollowersFollow
119,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

खंडवा : गुलाब पंजाबी की हत्या का पूरा सच, कौन है कौशल उर्फ कौसर क्यों और कैसे किया मर्डर

खंडवा - मोबाईल दुकान संचालक का दिन - दहाडे हत्या करने वाला आरोपी 8 घंटे के अन्दर गिरफ्तार उक्त प्रकरण की घटना का...

यूपी बना पहला राज्य: अब तंबाकू उत्पाद बेचने के लिए लाइसेंस जरुरी

लखनऊ (शाश्वत तिवारी) : तंबाकू की बढ़ती समस्या और जनस्वास्थ्य को इससे हो सकने वाले खतरे का ख्याल रखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने...

खंडवा: 24 घंटे में चाकूबाजी की दो वारदात, कारोबारी गुलाब पंजाबी की मौत से दहशत

खंडवा - थाना सिटी कोतवाली थानान्तर्गत स्टेशन रोड पार्वती बाई धर्मशाला के पास स्थित आकाश मोबाइल दुकान पर दुकान संचालक गुलाब पंजाबी...

सिंधिया अपना अस्तित्व बचाने दर-दर भटक रहे – पूर्व मंत्री

गोविंद सिंह ने कहा कि सिंधिया दावा करते हैं कि अवैध उत्खनन के खिलाफ उनका झंडा बुलन्द है। हम उनसे आग्रह करते हैं कि...

केंद्रीय मंत्री ने दिया बड़ा बयान, महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना बना सकते हैं सरकार!

ठाकरे और मोदी की मुलाकात के बाद शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने प्रधानमंत्री मोदी की प्रशंसा की। इसका जिक्र करते हुए रामदास अठावले ने...