31.1 C
Indore
Wednesday, September 28, 2022

पर्यावरण दिवस पर विशेष : कहानी गूलर के पेड़

sycamore treeशहज़ादी को गूलर से बहुत प्यार था. उनके बंगले के पीछे तीन बड़े-बड़े गूलर के पेड़ थे. वे इतने घने थे कि उसकी शाखें दूर-दूर तक फैली थी. स्कूल से आकर वह अपने छोटे भाइयों और अपनी सहेलियों के साथ गूलर के पेड़ के नीचे घंटों खेलती. उसकी दादी उसे डांटते हुए कहतीं, भरी दोपहरी में पेड़ के नीचे नहीं खेलते. पेड़ पर असरात (जिन्नात) होते हैं और वह बच्चों को गूलर के पेड़ पर असरात होने की तरह-तरह की कहानियां सुनाया करतीं. लेकिन बच्चे थे कि लाख ख़ौफ़नाक कहानियां सुनने के बाद भी डरने का नाम नहीं लेते थे. दोपहरी में जैसे ही दादी जान ज़ुहर (दोपहर) की नमाज़ पढ़ कर सो जातीं, बच्चे गूलर के पेड़ के नीचे इकट्ठे हो जाते और फिर घंटों खेलते रहते. उनकी देखा-देखी आस-पड़ौस के बच्चे भी आ जाते.

जब गूलर का मौसम आता और गूलर के पेड़ लाल फलों से लद जाते तो, शहज़ादी की ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहता. स्कूल में वह सबको बताती कि उनके गूलर के पेड़ फलों से भर गए हैं और वह सबको घर आकर गूलर खाने की दावत देती. उसकी सहेलियां घर आतीं और बच्चे गूलर के पेड़ पर चढ़कर गूलर तोड़ते. दादी जान देख लेतीं, तो खू़ब डांटती और कहतीं, गूलर की लकड़ी कमज़ोर होती है. ज़रा से बोझ से टूट जाती है. ख़ैर, बच्चों ने पेड़ पर चढ़ना छोड़ दिया. चढ़ते भी तो नीचे तने के पास मोटी शाख़ों पर ही रहते. कोई भी ज़्यादा ऊपर नहीं चढ़ता. एक बार शहज़ादी का भाई गूलर पर चलने की कोशिश कर रहा था, और दादी आ गईं. डर की वजह से वह घबरा गया और नीचे गिर गया. उसके हाथ की एक हड्डी पर चोट आई. महीनों प्लास्तर चढ़ा रहा. इस हादसे के बाद बच्चों ने गूलर पर चढ़ना छोड़ दिया. बच्चे एक पतले बांस की मदद से गूलर तोड़ने लगे.

वक़्त बदलता रहा और एक दिन उसके घर वालों ने वह बंगला बेच दिया. शहज़ादी जब कभी उस तरफ़ से गुज़रती, तो गूलर के पेड़ को नज़र भर के देख लेती. कुछ दिन बाद बंगले के नये मालिक ने गूलर के तीनों पेड़ कटवा दिए. शहज़ादी को पता चला, तो उसे बहुत दुख हुआ. उसे लगा मानो बचपन के साथी बिछड़ गए. बरसों तक या यूं कहें कि गूलर के पेड़ उसकी यादों में बस गए थे. शहज़ादी बड़ी हुई और दिल्ली में नौकरी करने लगी. एक दिन वह हज़रत शाह फ़रहाद के मज़ार पर गई. वहां उसने गूलर का पेड़ देखा. यह गूलर का पेड़ उतना घना नहीं था, जितने घने उसके बंगले में लगे पेड़ थे. पेड़ की शाख़ें काट दी गई थीं, शायद इसलिए क्योंकि आसपास बहुत से घर थे. पेड़ पर पके गूलर लगे थे और ज़मीन पर कुएं के पास भी कुछ गूलर पड़े थे. शहज़ादी ने गूलर उठाया, उसे धोया और खा लिया.

मानो ये गूलर न होकर जन्नत की कोई नेमत हों. वह अकसर जुमेरात को दरगाह पर जाती और गूलर को देख कर ख़ुश होती. इस बार काफ़ी दिनों बाद उसका मज़ार पर जाना हुआ, लेकिन इस बार उसे गूलर का पेड़ नहीं मिला, क्योंकि उसे काट दिया गया था. शहज़ादी को बहुत दुख हुआ. अब वह उस मज़ार पर नहीं जाती, क्योंकि उसे गूलर याद आ जाता. किसी पेड़ का कटना उसे बहुत तकलीफ़ देता है. वह सोचती है कि काश कभी उसके पास एक ऐसा घर हो, जिसमें बड़ा सा आंगन हो और वह उसमें गूलर का पेड़ लगाए. उसका अपना गूलर का पेड़. उसे उम्मीद है कि कभी तो वह वक़्त आएगा, जब उसकी यादों में बसे गूलर के पेड़ उसके आंगन में मुस्कराएंगे.

Firdausफ़िरदौस ख़ान
फ़िरदौस ख़ान एक पत्रकार, शायरा और कहानीकार हैं। वह कई भाषाओं की जानकार हैं। उन्होंने दूरदर्शन केन्द्र और देश के प्रतिष्ठित समाचार-पत्रों में कई साल तक सेवाएं दीं। उन्होंने अनेक साप्ताहिक समाचार-पत्रों का संपादन भी किया।

 

Related Articles

अंतरराष्ट्रीय लघु उद्योग दिवस: “सीमा” ने किया संगोष्ठी का आयोजन

लखनऊ: छोटे उद्यमों को सहायता प्रदान करने और उनकी समस्याओं को हल करने के लिए 30 अगस्त 2000 को लघु उद्योग Small Scale Industries...

सिरफिरे आशिक ने एकतरफा प्यार में एक युवती का गला रेंता , गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती

खंडवा : मध्यप्रदेश के खंडवा में सिरफिरे आशिक ने एकतरफा प्यार के चलते एक युवती के घर में घुस कर उसका गाला चाकू से...

Rajasthan: उदयपुर के मणप्पुरम गोल्ड बैंक में लूट, 24 किलो सोना और 10 लाख रुपए लेकर पांच बदमाश हुए फरार

उदयपुर: उदयपुर शहर के प्रतापनगर थाना क्षेत्र में सोमवार को बैंक में लूट हो गई। पांच नकाबपोश बदमाशों ने हथियारों के दम पर बैंक...

कनाडा की दो सड़कों का नाम होगा अल्लाह-रखा रहमान , म्यूजिक डायरेक्टर को सम्मानित करने के लिए लिया गया फैसला

नई दिल्लीः म्यूजिक डायरेक्टर एआर रहमान को सम्मानित करने के लिए कनाडा की एक सड़क का नाम उनके नाम पर रखने का फैसला लिया...

रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले सर्वकालिक निचले स्तर पर, 31 पैसे टूटकर 80.15 रुपये पर पहुंचा

अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया सोमवार को शुरुआती कारोबार में 31 पैसे टूटकर अब तक के सबसे निचले स्तर पर फिसल गया। सोमवार को...

खंडवा नगर निगम में इस बार 6 नहीं 8 एल्डरमैन नियुक्त होंगे !

नगर निगम में अभी 6-6 एल्डरमैन हैं। नगर पालिका में 4 और नगर परिषद में 2 एल्डरमैन के पद हैं। सरकार प्रशासनिक अनुभव रखने...

सोनाली फोगाट की मौत मामले में क्लब मालिक और ड्रग पेडलर गिरफ्तार, कांग्रेस नेता ने की CBI जांच की मांग

पणजी : अभिनेत्री व भाजपा नेता सोनाली फोगाट की मौत मामले में गोवा पुलिस ने दो अन्य लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने...

जस्टिस यूयू ललित ने ली मुख्य न्यायाधीश पद की शपथ, राष्ट्रपति भवन में हुआ कार्यक्रम

नई दिल्लीः देश के मुख्य न्यायाधीश के रूप में जस्टिस यूयू ललित ने आज शपथ ले ली है। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू उन्हें मुख्य न्यायाधीश...

गुलाम नबी के इस्तीफे पर दिग्विजय सिंह का बयान, आपके संबंध उन लोगों से जुड़ गए हों जिन्होंने कश्मीर से धारा 370 खत्म किया

गुलाम नबी के इस्तीफे पर दिग्विजय सिंह का बयान कहा आपके संबंध उन लोगों से जुड़ गए हों जिन्होंने कश्मीर से धारा 370...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Stay Connected

5,577FansLike
13,774,980FollowersFollow
128,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

अंतरराष्ट्रीय लघु उद्योग दिवस: “सीमा” ने किया संगोष्ठी का आयोजन

लखनऊ: छोटे उद्यमों को सहायता प्रदान करने और उनकी समस्याओं को हल करने के लिए 30 अगस्त 2000 को लघु उद्योग Small Scale Industries...

सिरफिरे आशिक ने एकतरफा प्यार में एक युवती का गला रेंता , गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती

खंडवा : मध्यप्रदेश के खंडवा में सिरफिरे आशिक ने एकतरफा प्यार के चलते एक युवती के घर में घुस कर उसका गाला चाकू से...

Rajasthan: उदयपुर के मणप्पुरम गोल्ड बैंक में लूट, 24 किलो सोना और 10 लाख रुपए लेकर पांच बदमाश हुए फरार

उदयपुर: उदयपुर शहर के प्रतापनगर थाना क्षेत्र में सोमवार को बैंक में लूट हो गई। पांच नकाबपोश बदमाशों ने हथियारों के दम पर बैंक...

कनाडा की दो सड़कों का नाम होगा अल्लाह-रखा रहमान , म्यूजिक डायरेक्टर को सम्मानित करने के लिए लिया गया फैसला

नई दिल्लीः म्यूजिक डायरेक्टर एआर रहमान को सम्मानित करने के लिए कनाडा की एक सड़क का नाम उनके नाम पर रखने का फैसला लिया...

रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले सर्वकालिक निचले स्तर पर, 31 पैसे टूटकर 80.15 रुपये पर पहुंचा

अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया सोमवार को शुरुआती कारोबार में 31 पैसे टूटकर अब तक के सबसे निचले स्तर पर फिसल गया। सोमवार को...