20.2 C
Indore
Saturday, October 16, 2021

कोरोना काल में भावनात्मक संतुलन जरूरी

कोरोना वायरस महामारी ने दुनिया भर में लोगों की भावनात्मक व मानसिक स्थिति पर गहरा असर डाला है। आज भागती-दौड़ती जिंदगी में अचानक लगे इस ब्रेक और कोरोना वायरस के डर ने लोगों के बीच चिंता, डर और अनिश्चितता का माहौल बन जाने के कारण लोग दिन-रात इससे जूझ रहे हैं। इस बीमारी ने स्वास्थ्य सेवाओं पर जबरदस्त दबाव तो डाला ही है साथ ही लोगों के सामने गंभीर चुनौतियां पेश की हैं।

समय कभी भी अच्छा या बुरा नहीं होता है। हम अपने मन के अनुसार तय करते हैं कि समय अच्छा है या बुरा। हमेशा मेहनती और बुद्धिमान होना सफल माना जाता है पर मनोवैज्ञानिकों की नजर में वही व्यक्ति सफल है जो भावनात्मक रूप से दृढ़ है। एक ही बुरी परिस्थिति में फंसे दो लोगों से समझें तो एक व्यक्ति उस समय और परिस्थिति को कोसने में लग जाता है, वहीं दूसरा व्यक्ति उस समय शांत भाव से समस्या के समाधान को ढूंढने में अपनी पूरी शक्ति लगा देता है।

ऐसा दूसरा व्यक्ति सिर्फ इसलिए कर पाता है क्योंकि वह भावनात्मक रूप से सक्षम है। मुश्किल वक्त में खुद के प्रति लोग अधिक जिम्मेदार हो जाते हैं। हौसला बना रहे तो डरने के बजाय लोग डर को दूर करने की कोशिश में जुट जाते हैं।

आज लोगों को कोरोना रूपी वैश्विक समस्या का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे समय में अपने मन को पूर्णतः शांत रखना चाहिए। यदि हमारा मन शांत होता है तो हम अपने अंदर प्रवेश करने वाले नकारात्मक सोच और विचारों की आहट सुन व समझ पाते हैं। इन भावों और अपने व्यवहार में आए परिवर्तन के माध्यम से हम समझ सकते हैं कि हमे अपने आपको भावनात्मक संबल देने की आवश्यकता है।

जिस समय हमारे अंदर यह विचार भी आए कि कोरोना जैसी बीमारी की चपेट में मैं और मेरा परिवार भी आ सकते हैं, वहीं समझ जाइएगा कि आपने बीमारी को आमंत्रण दे दिया है। क्योंकि अधिकांश बीमारी मन की सोच में आती है। चूंकि समय खराब है और हमारा मन मजबूत नहीं है कि वह इन नकारात्मक विचारों को आने से रोकें तो इसके भी कई उपाय हैं जिनकी हम तैयारी कर सकते हैं।

प्रतिदिन सुबह उठकर परमात्मा को धन्यवाद दें एक सुबह और दिखाने के लिए। प्रतिदिन अपने आपको यह बोले कि आप पूरी तरह तन-मन से स्वस्थ हैं। इस तरह की प्रार्थना से आपके अंदर आत्मविश्वास बढ़ेगा, साथ ही जो शब्द आप बोल रहे हैं, वे भी ध्वनि के साथ आपके मन की तरंगों के माध्यम से अवचेतन मन तक अपनी पहुंच बना लेंगे।

शब्दों की ऊर्जा और ध्वनि का मेल हमारे जीवन में कई परिवर्तन लाता है। हम यदि नकारात्मक शब्दों को बोलेंगे तो वहीं ऊर्जा हमारे अवचेतन मन तक पहुंचेगी और विचारानुसार हमारा मन उसी प्रक्रिया में जाएगा जैसे शब्दों को उसने सुना। किसी भी परिस्थिति में अपने शब्दों और भावों पर पहले ध्यान दीजिएगा। यही शब्द और भाव मिलकर आपके जीवन का पथ निर्धारित करते हैं।

-डा. सुजाता जैन
प्रवक्ता, सामायिक क्लब
34-बी, आरती बिल्डिंग, 85, तारदेव रोड
मुम्बई-400034, मो. 9968126797

Related Articles

छत्तीसगढ़ में हादसा: मूर्ति विसर्जन के लिए जा रहे लोगों को गाड़ी ने कुचला, एक की मौत, 16 घायल

जशपुर : छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में एक भीषण हादसे की जानकारी सामने आई है। यहां दुर्गा विसर्जन के लिए जा रहे कुछ लोगों...

सात नई रक्षा कंपनियों को पीएम मोदी ने किया राष्ट्र को समर्पित, भारत में बनेंगे पिस्टल से लेकर फाइटर प्लेन

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को सात नई रक्षा कंपनियों को राष्ट्र को समर्पित किया। उन्होंने कहा कि यह शुभ संकेत हैं...

दशहरे में रामचरित मानस की चौपाई के जरिए राहुल गांधी का मोदी सरकार पर निशाना, इस अंदाज में दी बधाई

नई दिल्लीः देशभर में दशहरा का त्यौहार मनाया जाएगा। इस अवसर पर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने रामचरित मानस की चौपाई ट्वीट कर एक...

भागवत : ‘जिनकी मंदिरों में आस्था नहीं, उनपर भी खर्च हो रहा मंदिरों का धन’, 

नई दिल्ली: दशहरा के मौके पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने नागपुर स्थित संघ मुख्यालय में लोगों को संबोधित किया। मोहन भागवत ने ने...

वैचारिक भ्रम का शिकार:वरुण गांधी

भारतवर्ष में आपातकाल की घोषणा से पूर्व जब स्वर्गीय संजय गांधी अपनी मां प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी को राजनीति में सहयोग देने के मक़सद से...

जम्मू-कश्मीर: पुंछ में एक बार फिर शुरू हुई सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़

जम्मू: जम्मू संभाग में पुंछ जिले के मेंढर सब-डिवीजन के भाटादूड़ियां इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच एक बार फिर मुठभेड़ शुरू हो...

हरियाणा: कुंडली बॉर्डर पर युवक की हत्या, पिटाई के बाद हाथ काट बैरिकेड से लटकाया

चंडीगढ़ : हरियाणा के सोनीपत में कुंडली बॉर्डर पर युवक की बर्बर तरीके से हत्या कर दी गई। तीन कृषि कानूनों को रद्द कराने...

CM Kejriwal: उपराज्यपाल को लिखा पत्र- दिल्ली में बेहतर है कोरोना की स्थिति, मिलनी चाहिए छठ पूजा की अनुमति

नई दिल्लीः राजधानी दिल्ली में महापर्व छठ को लेकर असमंजस बरकरार है। दिल्ली सरकार ने इस बाबत गाइडलाइंस जारी करने के लिए केंद्र सरकार...

सावरकर हिंदुत्व को मानते थे, लेकिन वह हिंदूवादी नहीं थे – रक्षामंत्री

उन्होंने कहा कि हिंदुत्व को लेकर सावरकर की एक सोच थी जो भारत की भौगोलिक स्थिति और संस्कृति से जुड़ी थी। उनके लिए हिन्दू शब्द...

Stay Connected

5,577FansLike
13,774,980FollowersFollow
122,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

छत्तीसगढ़ में हादसा: मूर्ति विसर्जन के लिए जा रहे लोगों को गाड़ी ने कुचला, एक की मौत, 16 घायल

जशपुर : छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में एक भीषण हादसे की जानकारी सामने आई है। यहां दुर्गा विसर्जन के लिए जा रहे कुछ लोगों...

सात नई रक्षा कंपनियों को पीएम मोदी ने किया राष्ट्र को समर्पित, भारत में बनेंगे पिस्टल से लेकर फाइटर प्लेन

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को सात नई रक्षा कंपनियों को राष्ट्र को समर्पित किया। उन्होंने कहा कि यह शुभ संकेत हैं...

दशहरे में रामचरित मानस की चौपाई के जरिए राहुल गांधी का मोदी सरकार पर निशाना, इस अंदाज में दी बधाई

नई दिल्लीः देशभर में दशहरा का त्यौहार मनाया जाएगा। इस अवसर पर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने रामचरित मानस की चौपाई ट्वीट कर एक...

भागवत : ‘जिनकी मंदिरों में आस्था नहीं, उनपर भी खर्च हो रहा मंदिरों का धन’, 

नई दिल्ली: दशहरा के मौके पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने नागपुर स्थित संघ मुख्यालय में लोगों को संबोधित किया। मोहन भागवत ने ने...

वैचारिक भ्रम का शिकार:वरुण गांधी

भारतवर्ष में आपातकाल की घोषणा से पूर्व जब स्वर्गीय संजय गांधी अपनी मां प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी को राजनीति में सहयोग देने के मक़सद से...