संकट में ‘कमल’ सरकार : भाजपा में शामिल हो सकते हैं सिंधिया, नाथ बोले पिच्चर बाकी हैं

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के बेटे नकुल नाथ ने सिंधिया पर निशाना साधते हुए कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया धोखे से कांग्रेस विधायकों को लेकर गए थे। राज्य में कांग्रेस सरकार बच जाएगी। पिक्चर अभी बाकी है।

भोपाल : मध्यप्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया के इस्तीफे के बाद अबतक कांग्रेस के 22 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं। जिससे कमलनाथ सरकार संकट में आ गई है। वहीं अब भाजपा को अपने विधायकों के पाला बदलने का डर सता रहा है। इसी के मद्देनजर भाजपा ने जहां अपने विधायकों को गुरुग्राम शिफ्ट कर दिया है। वहीं कांग्रेस अपने बचे हुए विधायकों को राजस्थान ले जाने की तैयारी में है।

कांग्रेस विधायक भोपाल हवाई अड्डे से रवाना हो गए हैं। यह सभी जल्द ही जयपुर के लिए उड़ान भरेंगे।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के बेटे नकुल नाथ ने सिंधिया पर निशाना साधते हुए कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया धोखे से कांग्रेस विधायकों को लेकर गए थे। राज्य में कांग्रेस सरकार बच जाएगी। पिक्चर अभी बाकी है।

मध्यप्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भोपाल स्थित कमलनाथ सिंह के आवास पर पहुंच गए हैं।मध्यप्रदेश के निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा ने भोपाल में कहा, ‘सरकार बनी रहेगी। सभी निर्दलीय विधायक हमारे साथ हैं। हम बंगलूरू में मौजूद सभी विधायकों को वापस ले आएंगे।’

सूत्रों के हवाले से खबर है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया 12.30 बजे भाजपा में शामिल हो सकते हैं। नई दिल्ली स्थित भाजपा कार्यालय में पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा की मौजूदगी में सदस्यता ले सकते हैं। पहले ऐसी खबर थीं कि वह भोपाल में 12 मार्च को पार्टी की सदस्यता ग्रहण करेंगे। हालांकि सूत्रों के अनुसार आज सदस्यता ग्रहण करने के बाद 13 मार्च को भोपाल में राज्यसभा के लिए नामांकन कर सकते हैं।

मध्यप्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भोपाल स्थित कमलनाथ सिंह के आवास पर पहुंच गए हैं।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ज्योतिरादित्य सिंधिया के पार्टी छोड़ने को लेकर पूछे गए सवाल का जवाब देने से मना कर दिया।सूत्र बता रहे हैं कि सिंधिया गुट के 12 विधायक भाजपा में जाने के पक्ष में नहीं है। जिसमें दो मंत्री सहित 10 विधायक शामिल हैं।

मध्यप्रदेश में जारी राजनीतिक उठा पटक के बीच कांग्रेस विधायकों के बुधवार दोपहर जयपुर पहुंचने की संभावना है। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि ये विधायक 11 बजे के आसपास विशेष विमान से यहां पहुंचेंगे। सूत्रों के अनुसार पार्टी के 80 से अधिक विधायक यहां आ रहे हैं।

कांग्रेस अपने विधायकों को कांग्रेस शासित राजस्थान के जयपुर शहर में ला रही है। उन्हें यहां शहर के बाहर एक रिजोर्ट में ठहराया जाना है।

मध्यप्रदेश के राजनीतिक हालात पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि कुछ तो मजबूरियां रही होंगी वरना कोई यूं ही बेवफा नहीं होता है। कांग्रेस से जाने वाले लोग हमेशा हमने देखा है कि वो गुर्राते हुए जाते हैं और दुम दबाकर आते हैं और ऐसे अनेक उदाहरण हैं।

मध्यप्रदेश कांग्रेस नेता जयवर्धन सिंह ने कहा, ‘इस प्रकार से उनका (ज्योतिरादित्य सिंधिया) पार्टी को छोड़ना सही बात नहीं है। कांग्रेस पार्टी ने उनको बहुत कुछ दिया था। अफसोस की बात है कि वो पार्टी छोड़ चुके हैं। जो उन्होंने किया वो सही नहीं किया।’

मध्यप्रदेश के गृह मंत्री बाला बच्चन ने कहा, ‘कांग्रेस सुरक्षित और मजबूत स्थिति में है। सभी मुख्यमंत्री के संपर्क में हैं। जल्द ही सबकुछ ठीक हो जाएगा। हम विधानसभा में बहुमत साबित कर देंगे और हमारी सरकार 2023 तक बनी रहेगी।’

मध्यप्रदेश कांग्रेस विधायक अर्जुन सिंह ने कहा, ‘कांग्रेस और कमलनाथ सरकार बरकरार रहेगी। आप 16 मार्च को देखेंगे की विधायकों की संख्या समान है। ज्योतिरादित्य सिंधिया के जाने से कोई खास फर्क नहीं पड़ेगा। राजा-महाराजा का जमाना बीत चुका है।’

मध्यप्रदेश कांग्रेस ने गिनाए सिंधिया को दिए पद
सिंधिया पर निशाना साधते हुए मध्यप्रदेश कांग्रेस ने ट्वीट करके लिखा, ‘सिंधिया जी की 18 साल की राजनीति में कांग्रेस ने
– 17 साल सांसद बनाया
– 2 बार केंद्रीय मंत्री बनाया
– मुख्य सचेतक बनाया
– राष्ट्रीय महासचिव बनाया
– यूपी का प्रभारी बनाया
– कार्यसमिति सदस्य बनाया
– चुनाव अभियान प्रमुख बनाया
– 50+ टिकट, 9 मंत्री दिये
फिर भी मोदी-शाह की शरण में?’

कांग्रेस के बागी विधायकों को मनाने के लिए कांग्रेस के दो बड़े नेता सज्जन सिंह वर्मा और गोविंद सिंह बंगलूरू पहुंच गए हैं।

सिंधिया के इस्तीफे के बाद अबतक 22 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं। हालांकि सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार सिंधिया समर्थकों में फूट पड़ गई है। उनका कहना है कि वह सिंधिया के साथ हैं लेकिन भाजपा के साथ नहीं हैं। उन्होंने सिंधिया से नया दल बनाने की मांग की है। बता दें कि सिंधिया के भाजपा में शामिल होने के कयास लगाए जा रहे हैं।

राज्य में जारी सियासी उठापटक के बीच कांग्रेस नेता शोभा ओझा ने कहा, ‘हमारे पास पर गिनती है जो हम विधानसभा के पटल पर साबित कर देंगे, नंबर की कोई कमी नहीं है। बंगलूरू वाले विधायक हमारे साथ हैं, वो कांग्रेस के साथ हैं। विधानसभा में हम अपना बहुमत सिद्ध करेंगे। भाजपा के विधायक भी हमारे संपर्क में हैं। कुल 4 निर्दलीय विधायक हैं, चारों हमारे साथ हैं। विधायक सभी हमारे साथ हैं जो सिंधिया जी के साथ गए हैं वो भी हमारे साथ हैं क्योंकि वो समझ रहे हैं कि एक व्यक्ति की महत्वकांक्षा के चलते उन सबके भविष्य दांव पर हैं।’