18.1 C
Indore
Thursday, January 20, 2022

कुदरत के प्रकोप से हारे किसान , गंवाई जान

भगवान के भरोसे अन्नदाता। किसानों पर प्रकृति का कहर जारी। बारिश के साथ कई जिलों में गिरे ओले। कुदरत के प्रकोप से पुरूषार्थी किसान हारे, गंवाई जान। बरबादी सहन नहीं कर पा रहे हैं किसान।  

  indian farmers

मैं तुम्हें छोड़कर हरगिज न जाता गरीबी मुझको लेकर जा रही है। उत्तर प्रदेश के विभिन्न स्थानों के गरीबों, मेहनत कश मजदूरों और किसानों को अतिवृष्टि एवं ओलों (प्राकृतिक आपदा) ने पूरी तरह से तबाह कर दिया है। दिहाड़ी मजदूरों के सामने आजीविका के लिए रोजी-रोटी की समस्या आ खड़ी हुई है। इस तबाही ने किसान और मजदूरो को अपना घर-द्वार छोड़ने पर मजबूूर कर दिया है। बटिया और कटाई के बदले अनाज से अपने परिवार का भरण-पोषण करने वाले भूमिहीन मजदूरों का कहना है कि अब दो वक्त के लिए भोजन जुटाना भी मुश्किल हो रहा है। 

त्योहार पर घर का हाल-चाल जानकर परदेश में मजदूरी करने वापस जा रहा हूँ। गाँव मे रहकर भूखों मरने से तो अच्छा परदेश में मेहनत मजदूरी करके बच्चों का भरण-पोषण कर साहूकारों के कर्ज पर लिए पैसे ही कमा लिया जाए। सैकड़ों लोगों के पलायन करने से अब गांव के गांव खाली होने लगे हैं। गाँवांे में लौट आई रौनक एक बार फिर गायब होने लगी है। बेरोजगारी के बीच प्रतिदिन सैकडों लोग महानगरों की ओर काम की तलाश में पलायन कर रहे हैं। पलायन का यह सिलसिला बदस्तूर जारी है। करीब आधा दर्जन गांवों का दौरा करने पर अधिकांश घरों में ताले लटके मिले। प्राकृतिक आपदा से त्रस्त किसानों एवं मजदूरों का कहना है कि खेती-बाड़ी में अब कुछ नही रह गया है, जो पैदा भी होता था वह इस बार पानी, ओला आदि प्राकृतिक आपदा ने चौपट कर दिया। खाद-पानी के लिए साहूकारांे से कर्ज पर पैसे लेने पड़ते हैं। 

खेतिहर मजदूर किसान के लिए एक ओर बेरोजगारी का दंश तो दूसरी ओर साहूकारों का कर्ज और ऊपर से सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाएँ भी नाकाफी साबित हो रही हैं। हर हाथ को काम हर गरीब को रोटी सिर्फ नारों तक ही सीमित रह गयी है। योजनाएं अमीरों तक घूमती हुई खत्म हो जाती हैं। गेहूँ की तैयार फसल पानी हवा में गिर जाने से बरबाद हो गई है। इस वर्ष फसल पर आफत बनकर गिरे पानी से किसानों के सब्र का बांध टूटकर उसका धैर्य जबाव देने लगा है और वे आत्महत्या जैसा घातक कदम उठा रहे हैं।
किसी भी प्राणी के जीवन के लिए मूलभूत आवश्यक आवश्यकताओं की पूर्ति जिस स्थान पर नहीं होती है, लोग वहाँ रहकर कैसे जी सकेंगे। भोजन, वस्त्र, हवा, पानी और बसेरा होना आवश्यक आवश्यकताओं में शुमार है। चाहे जिस स्तर के लोग हों, उन्हें इन सबकी व्यवस्था करनी पड़ती है। गाँव से लेकर शहरों में रहने वाले मेहनत मशक्कत करके इन आवश्यकतों की पूर्ति के लिए हर सम्भव प्रयास करते हैं। गरीबी, भुखमरी से बचने के लिए ऐसे स्थानों की तलाश करते हैं, जहाँ रहकर भोजन, वस्त्र, हवा, पानी और बसेरा मिल सके। 

बहुतों ने रोटी, कपड़ा और मकान के लिए पलायन किया है। दुःखद पहलू यह है कि मेहनतकश किसान और अन्य लोग प्रकृति की विनाशकारी लीला से त्रस्त होकर ‘पलायन’ करने लगे हैं। ऐसे लोगों के पुनर्वास की अपर्याप्त व्यवस्था होना भी एक कारण है, सरकारी इमदाद नाकाफी होने की वजह से मजबूरन लोग रोटी-वस्त्र के लिए देश छोड़कर परदेस गमन करते हैं। वहाँ मेहनत करके रोजी-रोटी कमाते है, अपना और अपने आश्रितों का भरण-पोषण करते हैं, इसके उपरान्त धन संचित करके अपना स्वयं का आवास बनाते हैं। 

इस वर्ष ही प्रकृति के कहर से देश के कई इलाकों के लोगों की गाढ़ी कमाई बेमौसम बरसात, ओलों और आग की चपेट में आ गई। प्राकृतिक आपदा की चपेट में आकर अनेक लोगों के समक्ष रोटी के लाले पड़ गए। आत्महत्याएँ करके स्वयं के जीवन का अन्त करने वालों के आश्रितों पर अचानक वज्राघात सा होने लगा। क्या करें, क्या न करें……….?
जिन्दगी से पलायन न करने वालों ने जीवन यापन करने के लिए अपनी मातृभूमि से ही पलायन करने की सोचकर पहले से बनाए बसेरे का त्याग करने में ही अपनी बेहतरी समझा। प्राकृतिक आपदा के शिकार ये लोग वर्तमान में ‘पलायन’ करने लगे हैं। हालाँकि कई जानकारों के अनुसार पलायन करके परदेस जाने से लोगों की हालत बेहतर हो जाती है। कई उदाहरण देते हुए इन सबने कहा कि पुरानी जगह छोड़कर नए स्थान पर जाने से लोग बेझिझक रोजी-रोटी कमाने लगते हैं।

ऐसा करने से उनके पास ह रवह चीज उपलब्ध हो जाती है, जिसकी आवश्यकता होती है। रोटी, कपड़ा, मकान मेहनतकश के लिए दुर्लभ चीजें नहीं हैं। स्थान (जगह) का पलायन करने वालों को कालान्तर में सर्व सुख-सुविधा सम्पन्न देखा गया है। स्थान-स्थान का अन्तर होता है। कई ऐसों के बारे में हमने महसूस किया है कि एक दशक की अवधि में वह लोग करोड़पति बन गए क्योंकि वह भी अपने पुराने स्थान से मोहभंग करके पलायन करके अन्यत्र जा बसे और एक नए ढंग से स्वरोजगार करके दस वर्षों में ही सर्व सुख सुविधा सम्पन्न हो गए। 

बहरहाल! हमें भी प्रकृति के प्रकोप से त्रस्त्र लोगों के प्रति हमदर्दी है, साथ ही यह भी उम्मीद है कि इन लोगों के लिए ‘पलायन’ लाभ दायक सिद्ध होगा। बशर्ते यह लोग लगन और विश्वास से मेहनत कर रोजी-रोटी कमाएँ। सरकारी अनुदान के चक्कर में न पड़े, स्वरोजगार अपनाएँ।

 reeta vishwakarmaलेखक -रीता विश्वकर्मा 
सम्पादक – रेनबोन्यूज डॉट इन 

email- reeta.rainbownews@gmail.com

 

Related Articles

महाराणा प्रताप की प्रस्तावित मूर्ति को लेकर बीजेपी जबरन ले रही श्रेय

खंडवा : महाराणा प्रताप की प्रस्तावित मूर्ति को लेकर अब कांग्रेस और बीजेपी आमने सामने आ गई हैं। कांग्रेस ने भाजपा पर आरोप लगते...

चलती ट्रेन में हो रही थी विलुप्त होती इजिप्टियन प्रजाति गिद्धों की तस्करी

खंडवा : चलती ट्रेन में एक बैग से बदबू आने के बाद जब उसे खोल कर देखा तो सभी की आंखे फटी रह गई।...

सुप्रीम कोर्ट: EVM के इस्तेमाल को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई के लिए कोर्ट तैयार

नई दिल्लीः चुनावों में बैलेट पेपर की जगह ईवीएम के इस्तेमाल को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट तैयार हो...

मुलायम सिंह की छोटी बहू अपर्णा भाजपा में हुई शामिल

लखनऊ : समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने दो शादियां की थीं। पहली पत्नी का नाम मालती देवी और दूसरी की साधना...

 पटरी से उतरी वास्को-डी-गामा हावड़ा अमरावती एक्सप्रेस, सभी यात्री सुरक्षित

नई दिल्लीः कोलकाता के बाद एक बार फिर बड़ा रेल हादसा होते बचा। जानकारी के मुताबिक, मंगलवार सुबह 8:56 बजे वास्को-डी-गामा हावड़ा अमरावती एक्सप्रेस...

पंजाब: अवैध खनन मामले में ईडी के ताबड़तोड़ छापे, सीएम चन्नी के भतीजे के ठिकानों पर दबिश

चंडीगढ़ : प्रवर्तन निदेशालय की टीम ने मंगलवार सुबह पंजाब और हरियाणा में लगभग दस जगहों पर दबिश दी। अवैध खनन मामले में ईडी...

पुलिस महिलाओं और बच्चों से कैसे करें व्यवहार, परीक्षा आयोजित

खंडवा : पुलिस में भर्ती होने के लिए परीक्षा पास करते तो आप ने देखा होगा लेकिन पुलिस रहते हुए में अपने कर्तयव को...

नरेश टिकैत से मिलने पहुंचे केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में केंद्रीय पशुपालन मंत्री डॉक्टर संजीव बालियान ने सिसौली पहुंचकर भाकियू अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत का हाल जाना।...

Goa Election 2022: ,केजरीवाल बोले- पीएम मोदी ने खुद हमें ईमानदारी का सर्टिफिकेट दिया है, गोवा में भी मुफ्त योजनाओं का किया वादा

नई दिल्लीः गोवा के लिए आम आदमी पार्टी ने बड़ा चुनावी वादा किया है। चुनाव प्रचार करने के लिए गोवा पहुंचे दिल्ली के मुख्यमंत्री...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Stay Connected

5,577FansLike
13,774,980FollowersFollow
124,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

महाराणा प्रताप की प्रस्तावित मूर्ति को लेकर बीजेपी जबरन ले रही श्रेय

खंडवा : महाराणा प्रताप की प्रस्तावित मूर्ति को लेकर अब कांग्रेस और बीजेपी आमने सामने आ गई हैं। कांग्रेस ने भाजपा पर आरोप लगते...

चलती ट्रेन में हो रही थी विलुप्त होती इजिप्टियन प्रजाति गिद्धों की तस्करी

खंडवा : चलती ट्रेन में एक बैग से बदबू आने के बाद जब उसे खोल कर देखा तो सभी की आंखे फटी रह गई।...

सुप्रीम कोर्ट: EVM के इस्तेमाल को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई के लिए कोर्ट तैयार

नई दिल्लीः चुनावों में बैलेट पेपर की जगह ईवीएम के इस्तेमाल को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट तैयार हो...

मुलायम सिंह की छोटी बहू अपर्णा भाजपा में हुई शामिल

लखनऊ : समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने दो शादियां की थीं। पहली पत्नी का नाम मालती देवी और दूसरी की साधना...

 पटरी से उतरी वास्को-डी-गामा हावड़ा अमरावती एक्सप्रेस, सभी यात्री सुरक्षित

नई दिल्लीः कोलकाता के बाद एक बार फिर बड़ा रेल हादसा होते बचा। जानकारी के मुताबिक, मंगलवार सुबह 8:56 बजे वास्को-डी-गामा हावड़ा अमरावती एक्सप्रेस...