अरुण यादव के ट्वीट जाल में फंसे शिवराज, ये ट्वीट कर हो गए ट्रोल

भोपाल : मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार पर निशाना साधने की कोशिश के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता शिवराज सिंह चौहान खुद ही ट्रोल हो गए। मामला उस समय सामने आया जब मध्य प्रदेश कांग्रेस के दिग्गज नेता अरुण यादव ने पार्टी में अपनी उपेक्षा को लेकर एक ट्वीट किया। इस ट्वीट में उन्होंने अपनी कुछ पुरानी तस्वीरें शेयर करते हुए पार्टी के लिए संघर्ष का जिक्र किया। इसमें शिवराज सिंह चौहान की सरकार के दौरान हुए लाठीचार्ज की भी तस्वीरें थीं। अरुण यादव की शेयर की गई इन्ही पुरानी तस्वीरों को शिवराज सिंह चौहान ने हालिया तस्वीर मान ली। उन्होंने अरुण यादव के ट्वीट पर जवाब देते हुए कमलनाथ सरकार को ही घेरने की कोशिश की। लेकिन, उनका ये दांव उस समय उल्टा पड़ गया जब अरुण यादव ने उन्हें उनके ट्वीट को लेकर जवाबी ट्वीट किया

पूरा मामला उस समय सामने आया जब मध्य प्रदेश के पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने मंगलवार को एक ट्वीट किया। इस ट्वीट में उन्होंने लिखा, ‘मप्र मे 15 सालों तक ईमानदार पार्टीजनों के साथ किये गए संघर्ष के बाद 8 महीनों मे जो स्थितियां सामने आ रही हैं, उसे देखते हुए बहुत व्यथित हूं, अगर इतनी जल्दी इन दिनों का आभास पहले ही हो जाता तो शायद जान हथेली पर रखकर जहरीली और भ्रष्ट विचारधारा के खिलाफ लड़ाई नहीं लड़ता, बहुत आहत हूं।’ अरुण यादव ने इस ट्वीट के साथ ही प्रदेश की शिवराज सरकार के दौरान की कुछ तस्वीरें शेयर कीं।

अरुण यादव के इसी ट्वीट पर मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने जवाबी ट्वीट किया। उन्होंने इसमें लिखा, ‘कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और पार्टी की शीर्ष बॉडी CWC के मेंबर, अरुण यादव के ऊपर कमलनाथ की कांग्रेस सरकार द्वारा “लाठीचार्ज” किये जाने की घटना की घोर निंदा करता हूं। पहले तो कमलनाथ जी किसानों, मजदूरों की आवाज दबा रहे थे और अब अपनी ही पार्टी के लोगों की।’ इस ट्वीट में उन्होंने सीधे तौर पर मौजूद कमलनाथ सरकार पर निशाना साध दिया। उन्हें लगा कि अरुण यादव ने जो तस्वीरें शेयर की हैं, ये कमलनाथ सरकार के दौरान की हैं, जबकि ये तस्वीर उनके सीएम रहने के समय की थीं।

शिवराज सिंह चौहान के किए गए ट्वीट पर तुरंत ही कांग्रेस नेता अरुण यादव ने पलटवार किया। उन्होंने ट्वीट करते हुए दिग्गज बीजेपी नेता को बताया कि जिस लाठीचार्ज को लेकर उन्होंने कमलनाथ सरकार पर निशाना साधा है, वो असल में उनकी सरकार के दौरान हुआ था। अरुण यादव ने ट्वीट में लिखा, ‘माननीय शिवराज सिंह यह कमलनाथ की सरकार ने नहीं आपकी सरकार ने लाठीचार्ज करवाया था, जब मैंने कटनी हवालाकाण्ड के खिलाफ भोपाल में विरोध प्रदर्शन किया था।’

भले ही अरुण यादव ने इस ट्वीट के जरिए शिवराज सिंह चौहान को करारा जवाब दे दिया है। लेकिन जिस तरह से उन्होंने अपने पहले ट्वीट में कांग्रेस पार्टी से जुड़ा मुद्दा उठाया इससे ये तो साफ हो गया कि मध्य प्रदेश कांग्रेस में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। अरुण यादव से पहले मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री उमंग सिंघर ने दिग्विजय सिंह पर आरोप लगाया कि वह प्रदेश की कमलनाथ सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रहे हैं। उमंग सिंघर ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने दिग्विजय सिंह पर यह गंभीर आरोप लगाया है।