32.1 C
Indore
Tuesday, June 28, 2022

पहली पहले ही अभी हल नहीं हुई कि आखिर कोरोना कैसे पैदा हुआ…….

फाइल फोटो

कहते हैं इतिहास खुद को दोहराता है। करीब 01 साल पहले पूरी दुनिया ऐसी महामारी की चपेट में आ गई थी, जिसके बारे में इंसान ने कुछ सोचा नहीं था। फिर उस महामारी का प्रसार रोकने के लिए लॉकडाउन लगाया गया और लोग घरों में कैद हो गए। माना कि अब इस से बचाव की वैक्सीन आ गई है, लेकिन भारत में कोरोना अपने इतिहास को दोहरा रहा है। अब यहां रोजाना का संक्रमण नये- नये रिकॉर्ड बना रहा है। ऐसे में चुनावी राज्यों में नेताओं की रैलियां गौर करने लायक है। इनमें हजारों – लाखों के भीड़ इकट्ठा होती है और कोरोना के दिशा- निर्देशों की जमकर धज्जियां उड़ती है। क्या चुनावी रैलियों से कोरोना नहीं फैलता। आज सरकार और जनता दोनों को इस ओर सोचना होगा कि वह किस तरह इस वायरस का प्रसार थाम सकते हैं।

कोरोना विस्फोट की जांच पूरी पारदर्शिता के साथ होनी चाहिए तभी लोगों का मनोबल बढ़ेगा और डब्ल्यूएचओ की प्रासंगिकता सिद्ध होगी।

महामारी फिर से लौट आई है। पिछले वर्ष मार्च में जब संपूर्ण लॉकडाउन का ऐलान किया गया था, तब लोगों ने उसका पूरा सम्मान किया था। सरकार के सभी आदेशों को माना गया, इसी कारण स्थिति भी धीरे-धीरे सामान होती गई। तभी हम महामारी के खत्म होने की उम्मीद पालने लगे थे। उस वक्त जनजीवन इसलिए पटरी पर लौट सका क्योंकि लोगों ने बचाओ से जुड़ी सभी बातो का ध्यान रखा, मगर अब इस जिम्मेदारी से लोग भागने लगे हैं। जिस तरह से देश में कोरोना मरीजों की संख्या में अप्रत्याशित वृद्धि हो रही है, उससे तो यही लगता है कि लोगों को फिर से अपनी जिम्मेदारी निभाने की जरूरत एक बार फिर आन पड़ी है। देश में जारी कोरोना की यह दूसरी लहर पर चिंताजनक स्थिति में पहुंच गई है।

कई राज्य सरकारें तो फिर से लॉकडाउन की ओर बढ रहे है। ऐसे में लोगों का बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन अथवा भीड़भाड़ वाले जगहों पर बिना मास के दिखाई देना और शारीरिक दूरी का पालन न करना दुखद है। हमें ऐसी हरकतों से बचना चाहिए।

प्रशासन को भी सामंजस्य बिठाना चाहिए और लोगों को हर स्तर पर जागरूक करना चाहिए। कोरोना के विरुद्ध लड़ाई में जागरूकता ही सबसे बड़ा हथियार है।
दुनिया को अभी कोरोना के बारे में पूरे जवाब नहीं मिले हैं पहली पहेली ही अभी हल नहीं हुई है कि आखिर कोरोना कैसे पैदा हुआ। विश्व स्वास्थ्य संगठन की जो टीम चीन दौरे पर गई थी, वह भी पुख्ता जवाब के साथ नहीं लौटी है। उस टीम के पास कुछ आंकड़े पर है और इस टीम के सदस्यों को भी लगता है कि उनकी खोज अभी शुरुआत भर है कारोना का जवाब खोजना इसलिए भी जरूरी है, ताकि हमारी आने वाली पीढ़ियों को ऐसी किसी महामारी से बचाया जा सके। यह महान चुनौती है।

लगभग एक साल बाद चीन ने अंतरराष्ट्रीय टीम को गुहान पहुंचने दिया, टीम जब वहां पहुंची तब वह शुरू में ही उसे प्रतिकूल माहौल दिया गया लगभग 04 सप्ताह वैज्ञानिक वहां रहे, लेकिन कुछ भी ऐसा उनके हाथ नहीं लगा जिससे विज्ञान की दुनिया किसी ठोस नतीजे पर पहुंचती। नैतिकता का तकाजा यही है कि चीन स्वयं जांच करके दुनिया को सच बताता। आज पूरी दुनिया में उस पर सवाल उठ रहे हैं। महामारी में चीनी विश्वसनीयता को जो क्षति पहुंचाई है। उसकी भरपाई के प्रति चीन कितना गंभीर है, ब्रिटेन के ग्लासगो विश्वविद्यालय से जुड़े वायरोलॉजिस्ट डेबिट रॉबर्टसन कहते हैं चीन में प्राप्त व्यापक आंकड़ों में कुछ ऐसी चीजें पोस्ट हुई है, जिनका पहले से ही पता था। अभी भी यह खोज शेष है कि क्या चमगादड़ से यह महामारी सीधा इंसानों में आई। क्या कोई ऐसा जीव था जिसके जरिए वायरस चमगादड़ से इंसानों में पहुंचा, यह बैलेंस लोगों में कैसे आया और फिर लोगों से लोगों के बीच कैसे फैला। यह तमाम सवाल वैज्ञानिकों के लिए है।

वायरस के शुरुआती नमूनों की पड़ताल जरूरी भी है। चीन विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ एक समझौता किया है। जिसके अनुसार कोरोना विस्फोट की जांच लंबे समय तक चलेगी। कुछ वैज्ञानिकों को यह आशंका अब कम है कि वायरस प्रयोगशाला से लीक हुआ होगा, लेकिन ज्यादातर वैज्ञानिक मान रहे हैं कि अभी किसी आशंका या संभावना को खारिज नहीं करना चाहिए। कोरोना के प्रति अभी तक कुछ नरम दिखता संयुक्त राष्ट्र कतई ना भूले की दुनिया में 28 लाख से ज्यादा लोग मारे गए हैं और 13 करोड़ से ज्यादा संक्रमित हुए हैं।

(लेख: शाश्वत तिवारी, वरिष्ठ पत्रकार, यूपी)

Related Articles

महाराष्ट्र में सरकार बनाने की और BJP , केंद्रीय मंत्री दानवे बोले- विपक्ष में हम बस 2-3 दिन और

मुंबई : महाराष्ट्र में जारी सियासी संग्राम के बीच BJP ने महाराष्ट्र में सरकार बनाने के संकेत दिए हैं। केंद्र सरकार के मंत्री रावसाहेब...

Maharashtra Political Crisis राज ठाकरे की मनसे में शामिल हो सकता है शिंदे गुट !

मुंबई : महाराष्ट्र में पिछले एक सप्ताह से चल रहे सियासी ड्रामे के बीच नए समीकरण बनते दिख रहे हैं। अब खबर है कि...

द्रौपदी मुर्मू ने राष्ट्रपति पद के लिए नॉमिनेशन भरा, देश को मिल सकता है पहला आदिवासी प्रेजिडेंट

नई दिल्लीः झारखंड की पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने आज NDA की ओर से राष्ट्रपति पद के लिए अपना नामांकन दाखिल कर दिया है।...

तो क्या बंद होने वाली हैं केंद्र सरकार की मुफ्त राशन वितरण वाली योजना ?

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों में भाजपा की जीत का एक बड़ा कारण राज्य में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (PMGKAY) के...

Maharashtra Political Crisis : मुंबई आकर बात करें तो छोड़ देंगे एमवीए : संजय राउत

मुंबई : महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी सरकार पर गहराए राजनीतिक संकट के बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने गुरुवार को बड़ा बयान दिया है।...

Maharashtra Political Crisis : शिवसेना की मीटिंग में पहुंचे 12 विधायक, एनसीपी ने बुलाई अहम बैठक

मुंबई : महाराष्ट्र के राजनीतिक संग्राम के बीच शिवसेना में बगावत बढ़ती जा रही है। बता दें कि शिवसेना के नेता एकनाथ शिंदे की...

खरगोन में जिला प्रशासन की बड़ी कार्रवाई, लाखों रुपये का तेल जप्त

खरगोन : मध्यप्रदेश के खरगोन में जिला प्रशासन की टीम ने कार्रवाई करते हुए एक व्यपारिक प्रतिष्ठान से लाखों रुपए कीमत का तेल जब्त...

सिर्फ नोटिस देकर चलाया गया जावेद के घर पर बुलडोजर, हाईकोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस बोले- यह पूरी तरह गैरकानूनी

लखनऊ : रविवार को उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने कथित तौर पर प्रयागराज हिंसा के मास्टरमाइंड मोहम्मद जावेद उर्फ जावेद पंप का घर...

43 घंटे से 11 वर्षीय बच्चे को बोरवेल से बाहर निकालने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

रायपुर : छत्तीसगढ़ के जांजगीर-चांपा जिले में बोरवेल में गिरे बच्चे को 43 घंटे बाद भी निकाला नहीं जा सका है। अधिकारियों का कहना...

Stay Connected

5,577FansLike
13,774,980FollowersFollow
126,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

महाराष्ट्र में सरकार बनाने की और BJP , केंद्रीय मंत्री दानवे बोले- विपक्ष में हम बस 2-3 दिन और

मुंबई : महाराष्ट्र में जारी सियासी संग्राम के बीच BJP ने महाराष्ट्र में सरकार बनाने के संकेत दिए हैं। केंद्र सरकार के मंत्री रावसाहेब...

Maharashtra Political Crisis राज ठाकरे की मनसे में शामिल हो सकता है शिंदे गुट !

मुंबई : महाराष्ट्र में पिछले एक सप्ताह से चल रहे सियासी ड्रामे के बीच नए समीकरण बनते दिख रहे हैं। अब खबर है कि...

द्रौपदी मुर्मू ने राष्ट्रपति पद के लिए नॉमिनेशन भरा, देश को मिल सकता है पहला आदिवासी प्रेजिडेंट

नई दिल्लीः झारखंड की पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने आज NDA की ओर से राष्ट्रपति पद के लिए अपना नामांकन दाखिल कर दिया है।...

तो क्या बंद होने वाली हैं केंद्र सरकार की मुफ्त राशन वितरण वाली योजना ?

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों में भाजपा की जीत का एक बड़ा कारण राज्य में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (PMGKAY) के...

Maharashtra Political Crisis : मुंबई आकर बात करें तो छोड़ देंगे एमवीए : संजय राउत

मुंबई : महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी सरकार पर गहराए राजनीतिक संकट के बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने गुरुवार को बड़ा बयान दिया है।...