मैं भी हिंसा, अराजकता और हाथापाई से नाराज हूं – डोनाल्ड ट्रंप

हजारों की संख्या में ट्रंप समर्थकों ने वॉशिंगटन में मार्च निकाला और कैपिटल हिल पर धावा बोल दिया। यहां डोनाल्ड ट्रंप को सत्ता में बनाए रखने, दोबारा वोटों की गिनती करवाने की मांग की जा रही थी। 

अमेरिका के कैपिटल भवन (अमेरिकी संसद) में बुधवार को हुए हमले पर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए नाराजगी जताई।

ट्रंप ने कहा कि ‘सभी अमेरिकियों की तरह, मैं भी हिंसा, अराजकता और हाथापाई से नाराज हूं। मैंने इमारत को सुरक्षित करने और घुसपैठियों को बाहर निकालने के लिए तुरंत राष्ट्रीय रक्षक और संघीय कानून प्रवर्तन के अधिकारियों को तैनात किया। अमेरिका हमेशा कानून और व्यवस्था का राष्ट्र होना चाहिए।’

ट्रंप ने आगे कहा कि अब कांग्रेस (संसद) ने अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के नतीजों को प्रमाणित कर दिया है। 20 जनवरी को एक नए प्रशासन का उद्घाटन किया जाएगा। मेरा ध्यान अब सत्ता के सुचारू, व्यवस्थित और निर्बाध परिवर्तन को सुनिश्चित करने के ऊपर है।’

बता दें कि अमेरिका में हिंसा के बीच कांग्रेस ने जो बाइडन की जीत पर मुहर लगा दी है। अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन को 306 इलेक्टोरल कॉलेज वोट मिले हैं, जो बहुमत से ज्यादा हैं। राष्ट्रपति बनने के लिए 270 वोटों की जरूरत होती है। कांग्रेस की मंजूरी के बाद जो बाइडन आधिकारिक तौर पर अमेरिका के राष्ट्रपति होंगे।

इस फैसले के बाद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि 20 जनवरी को कानून के मुताबिक जो बाइडन को सत्ता का हस्तांतरण किया जाएगा।

डोनाल्ड ट्रंप ने अपने बयान में कहा कि वो चुनावी नतीजों का समर्थन नहीं करते हैं, लेकिन इसके बावजूद सत्ता को जो बाइडन को सही तरीके से सौंपेंगे। डोनाल्ड ट्रंप ने हार नहीं स्वीकार की और उन्होंने चुनाव के नतीजों को कोर्ट में चुनौती देने का एलान किया है।

वहीं, कांग्रेस की मुहर के बाद डेमोक्रेटिक पार्टी के जो बाइडन को अब 20 जनवरी को अमेरिका के राष्ट्रपति के रूप में शपथ दिलाई जाएगी। उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने गुरुवार को घोषणा की कि कांग्रेस ने अमेरिकी चुनाव में जो बाइडन को विजेता दिखाने वाले इलेक्टोरल कॉलेज की टैली को कंफर्म कर दिया है।

इससे पहले वाशिंगटन स्थित कैपिटल हिल में डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों ने जबरदस्त हंगामा किया। कैपिटल हिल में इलेक्टोरल कॉलेज की प्रक्रिया चल रही थी, जिसके तहत जो बाइडन के राष्ट्रपति बनने पर मुहर की तैयारी थी।

इसी दौरान हजारों की संख्या में ट्रंप समर्थकों ने वॉशिंगटन में मार्च निकाला और कैपिटल हिल पर धावा बोल दिया। यहां डोनाल्ड ट्रंप को सत्ता में बनाए रखने, दोबारा वोटों की गिनती करवाने की मांग की जा रही थी। लंबे संघर्ष के बाद सुरक्षाबलों ने इन्हें बाहर निकाला और कैपिटल हिल को सुरक्षित किया। वाशिंगटन की हिंसा में अब तक चार लोगों की मौत की पुष्टि हुई है।